Lok Sabha Election 2019: पांचवें चरण में नरेंद्र मोदी-अमित शाह और राहुल गांधी के सामने चुनौती, क्योंकि...!

पांचवें चरण की 51 लोकसभा सीटों में से सबसे अधिक 39 बीजेपी के पास है, बीजेपी के सामने चुनौती अयोध्या में भी है.

ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: May 6, 2019, 7:15 AM IST
Lok Sabha Election 2019: पांचवें चरण में नरेंद्र मोदी-अमित शाह और राहुल गांधी के सामने चुनौती, क्योंकि...!
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और पीएम नरेंद्र मोदी
ओम प्रकाश
ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: May 6, 2019, 7:15 AM IST
लोकसभा चुनाव 2019 के पांचवें चरण की परीक्षा आज सात प्रदेशों में हो रही है. सबसे ज्यादा यूपी की 14 सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं. इसके अलावा राजस्थान की 12, मध्य प्रदेश और पश्चिम बंगाल की 7-7, बिहार की 5, झारखंड की 4 और जम्मू-कश्मीर की 2 सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं. पिछले लोकसभा चुनाव यानी 2014 में इन 51 सीटों में से बीजेपी ने सबसे अधिक 39, टीएमसी ने 7, कांग्रेस ने 2 और अन्य ने 3 सीट पर जीत हासिल की थी. इसलिए इस चरण में अपना गढ़ बचाने की सबसे बड़ी चुनौती पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के सामने है. दूसरी चुनौती कांग्रेस के सामने उसके पारंपरिक क्षेत्र अमेठी और रायबरेली को बचाने की है. सपा-बसपा गठबंधन जो भी पाएंगे वो 2014 के मुकाबले प्लस ही होगा.

'24 अकबर रोड' के लेखक रशीद किदवई कहते हैं, "कांग्रेस ने अमेठी में आसान लड़ाई को कठिन बना लिया है. अमेठी में प्रियंका गांधी को उतारना चाहिए था. राहुल गांधी यदि वायनाड और अमेठी दोनों जगह से जीतते हैं तो संभव ये है कि वो अमेठी को अपनी बहन प्रियंका के लिए ही छोड़ देंगे. वायनाड जाने की वजह से स्मृति ईरानी उन पर ज्यादा हमलावर हैं. क्योंकि वो हारने के बाद भी वहां लगातार सक्रिय रही हैं. इस बात को उन्होंने मुद्दा भी बनाया हुआ है. दोनों सीटों पर बीजेपी के सबसे बड़े नेता प्रचार और रोड शो कर रहे हैं."



 Lok Sabha Election 2019, Phase 5 of Lok Sabha Election 2019, bjp, congress, ayodhya, amethi, uttar pradesh,samajwadi party, bsp, mayawati, akhilesh yadav, लोकसभा चुनाव का पांचवां चरण, लोकसभा चुनाव 2019, बीजेपी, कांग्रेस, अयोध्या, faizabad, अमेठी, कांग्रेस, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, malkhan singh, मलखान सिंह, बीजेपी, कांग्रेस, सपा, बसपा, सोनिया गांधी, राहुल गांधी, राजनाथ सिंह, स्मृति ईरानी, जितिन प्रसाद, आचार्य प्रमोद कृष्णम, कृष्णा पटेल, साध्वी निरंजन ज्योति, मलखान सिंह, अमेठी, रायबरेली, लखनऊ, फैजाबाद, बहराइच, सावित्री बाई फूले, बांदा, गोंडा, बाराबंकी, फतेहपुर, धौरहरा, जितिन प्रसाद, Sonia Gandhi, Rahul Gandhi, Rajnath Singh, smriti irani, Jitin Prasad, Acharya Pramod Krishnam, Krishna Patel, Sadhvi Niranjan Jyoti, Amethi, Rae Bareli, Lucknow, Faizabad, Bahraich, Savitri Bai Phule, Banda, Gonda, Barabanki, Fatehpur, dhaurahra, Jitin Prasad           इस चरण में बीजेपी की 39 सीटें हैं (file photo)

किदवई कहते हैं, "इसलिए 24 जनवरी को जब प्रियंका गांधी सक्रिय राजनीति में उतरीं, उसी दिन अमेठी से उनके चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी जाती तो तस्वीर कुछ और होती. कांग्रेस पर स्मृति ईरानी इतना दबाव नहीं डाल पातीं, जितना राहुल गांधी के दो जगह चुनाव लड़ने की वजह से उन्होंने पैदा किया है. यहां इस तरह कांग्रेस ने आसान लड़ाई को कठिन बना लिया है."

बीजेपी रायबरेली सीट 1996 और 1998 में जीत चुकी है. उसने इस बार यहां कांग्रेस छोड़कर आने वाले दिनेश प्रताप सिंह को उतारा है. वो स्थानीय स्तर पर दबंग नेता बताए जाते हैं. वो कभी गांधी परिवार के विश्वासपात्र माने जाते थे. लेकिन पिछले साल बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने उन्हें तोड़ लिया था. ऐसे में यहां भी कांग्रेस की राह पहले जितनी आसान नहीं है.

 Lok Sabha Election 2019, Phase 5 of Lok Sabha Election 2019, bjp, congress, ayodhya, amethi, uttar pradesh,samajwadi party, bsp, mayawati, akhilesh yadav, लोकसभा चुनाव का पांचवां चरण, लोकसभा चुनाव 2019, बीजेपी, कांग्रेस, अयोध्या, faizabad, अमेठी, कांग्रेस, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, malkhan singh, मलखान सिंह, बीजेपी, कांग्रेस, सपा, बसपा, सोनिया गांधी, राहुल गांधी, राजनाथ सिंह, स्मृति ईरानी, जितिन प्रसाद, आचार्य प्रमोद कृष्णम, कृष्णा पटेल, साध्वी निरंजन ज्योति, मलखान सिंह, अमेठी, रायबरेली, लखनऊ, फैजाबाद, बहराइच, सावित्री बाई फूले, बांदा, गोंडा, बाराबंकी, फतेहपुर, धौरहरा, जितिन प्रसाद, Sonia Gandhi, Rahul Gandhi, Rajnath Singh, smriti irani, Jitin Prasad, Acharya Pramod Krishnam, Krishna Patel, Sadhvi Niranjan Jyoti, Amethi, Rae Bareli, Lucknow, Faizabad, Bahraich, Savitri Bai Phule, Banda, Gonda, Barabanki, Fatehpur, dhaurahra, Jitin Prasad            इस चरण में कांग्रेस के पास अमेठी, रायबरेली सीट है (file photo)

राम नगरी अयोध्या पर देश भर की नजर!
Loading...

आज फैजाबाद यानी अयोध्या में भी वोटिंग हो रही है. देश की राजनीति को सबसे ज्यादा प्रभावित करने वाली सीट को बचाना बीजेपी के लिए बहुत जरूरी है. हालांकि, भगवान श्रीराम की नगरी के वोटर सांसद बदलने में संकोच नहीं करते. इस सीट पर अब तक 16 बार चुनाव हुए हैं. जिसमें से आठ बार कांग्रेस ने चुनाव जीता है और चार बार बीजेपी जीती है. 1984 के बाद इस सीट पर सपा, बसपा, और सीपीआई के भी उम्मीदवार जीते हैं. मंदिर की राजनीति करने वाली बीजेपी के लल्लू सिंह यहां के मौजूदा सांसद है. उन्हें पार्टी ने दोबारा मौका दिया है. वो नरेंद्र मोदी, भगवान राम और राष्ट्रवाद के भरोसे हैं.

कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष निर्मल खत्री यहां से दो बार एमपी चुने जा चुके हैं. वो इस बार भी कांग्रेस के प्रत्याशी हैं. जबकि समाजवादी पार्टी ने यहां के सांसद रहे मित्रसेन यादव के बेटे आनंदसेन यादव को टिकट दिया है. राजनीतिक विश्लेषक रशीद किदवई का कहना है कि अगर राम नगरी में बीजेपी हारती है तो उसके लिए उसका मैसेज बहुत खराब जाएगा. हिंदू संगठनों के मंदिर आंदोलन को झटका लगेगा. क्योंकि यह सीट प्रतीकात्मक तौर पर उसकी राजनीति के लिए बहुत महत्व रखती है.

 fifth phase Lok Sabha Election 2019, bjp, congress, ram mandir politics, ayodhya, amethi, congress, lok sabha election 2019, uttar pradesh, Rajasthan, west bengal, madhya pradesh, jharkhand, Jammu and Kashmir, लोकसभा चुनाव का पांचवां चरण, लोकसभा चुनाव 2019, बीजेपी, कांग्रेस, राम मंदिर की राजनीति, अयोध्या, अमेठी, कांग्रेस, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश, झारखंड, जम्मू और कश्मीर, malkhan singh, मलखान सिंह        क्या राम नगरी अयोध्या फिर बदलेगी अपना सांसद? (file photo)

आज इन सीटों पर डाले जा रहे हैं वोट!

यूपी: अमेठी, रायबरेली, फैजाबाद, बाराबंकी, बहराइच, कैसरगंज, गोंडा, सीतापुर, मोहनलाल गंज, धौरहरा, लखनऊ, बांदा, फतेहपुर और कौशांबी.

राजस्थान: अलवर, जयपुर (ग्रामीण), जयपुर, बीकानेर, चूरू, झुंझूनू, सीकर, श्रीगंगानगर, भरतपुर, करौली-धौलपुर, दौसा और नागौर.

पश्चिम बंगाल: बैरकपुर, हावड़ा, बनगांव, आरामबाग, उलुबेरिया, श्रीरामपुर व हुगली.

मध्य प्रदेश: खजुराहो, रीवा, सतना, टीकमगढ़, दमोह, बैतूल व होशंगाबाद.

बिहार:  हाजीपुर, सारण, मधुबनी, मुजफ्फरपुर व सीतामढ़ी.

झारखंड: खूंटी, हजारीबाग, रांची व कोडरमा.

जम्मू-कश्मीर: लद्दाख, अनंतनाग ( इस सीट के तीसरे और अंतिम चरण में शोपियां और पुलवामा क्षेत्र में वोटिंग होगी).

 Lok Sabha Election 2019, Phase 5 of Lok Sabha Election 2019, bjp, congress, ayodhya, amethi, uttar pradesh,samajwadi party, bsp, mayawati, akhilesh yadav, लोकसभा चुनाव का पांचवां चरण, लोकसभा चुनाव 2019, बीजेपी, कांग्रेस, अयोध्या, faizabad, अमेठी, कांग्रेस, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, malkhan singh, मलखान सिंह, बीजेपी, कांग्रेस, सपा, बसपा, सोनिया गांधी, राहुल गांधी, राजनाथ सिंह, स्मृति ईरानी, जितिन प्रसाद, आचार्य प्रमोद कृष्णम, कृष्णा पटेल, साध्वी निरंजन ज्योति, मलखान सिंह, अमेठी, रायबरेली, लखनऊ, फैजाबाद, बहराइच, सावित्री बाई फूले, बांदा, गोंडा, बाराबंकी, फतेहपुर, धौरहरा, जितिन प्रसाद, Sonia Gandhi, Rahul Gandhi, Rajnath Singh, smriti irani, Jitin Prasad, Acharya Pramod Krishnam, Krishna Patel, Sadhvi Niranjan Jyoti, Amethi, Rae Bareli, Lucknow, Faizabad, Bahraich, Savitri Bai Phule, Banda, Gonda, Barabanki, Fatehpur, dhaurahra, Jitin Prasad              मायावती और अखिलेश यादव (file photo)

ईवीएम में बंद हो रही इन बड़े चेहरों की किस्मत


यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जितिन प्रसाद, शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी पूनम सिन्हा, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, आचार्य प्रमोद कृष्णम, केंद्रीय राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल की मां कृष्णा पटेल, साध्वी निरंजन ज्योति और दस्यु सम्राट मलखान सिंह.

अनंतनाग: तीसरे चरण का चुनाव

अनंतनाग लोकसभा सीट पर तीसरे और अंतिम चरण की वोटिंग हो रही है. सुरक्षा कारणों से इस सीट पर तीन चरणों में मतदान कराया जा रहा है. 23 अप्रैल को तीसरे चरण में अनंतनाग लोकसभा क्षेत्र की अनंतनाग विधानसभा, चौथे चरण में 29 अप्रैल को कुलगाम विधानसभा क्षेत्र में वोट डाले गए.  5वें चरण में इस लोकसभा क्षेत्र की शोपियां एवं पुलवामा सीट पर वोटिंग हो रही है. इस लोकसभा सीट पर राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती मैदान में हैं.

ये भी पढ़ें:

लोकसभा चुनाव 2019: वोटर लिस्ट में 76 बार जवाहरलाल नेहरू नाम, 211 बार नरेंद्र मोदी!

कांग्रेस ने क्या इसलिए काट दी रॉबर्ट वाड्रा के करीबी की लोकसभा टिकट, पढ़िए पूरी कहानी!

योगी के गढ़ गोरखपुर में कांग्रेस के 'ब्राह्मण' कंडीडेट ने बढ़ाई बीजेपी और रवि किशन की मुश्किल! 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...