COVID-19: ठीक होने के बाद भी लंबे वक्त तक परेशान कर सकता है कोरोना, ये लक्षण दिखें तो हो जाएं सावधान

कोरोना वायरस की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद भी मरीज को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.

कोरोना वायरस की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद भी मरीज को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.

Post Covid Symptoms: कोरोना वायरस के रोगियों में इस बीमारी से लड़ने के हफ्तों बाद अधिक थकान का अनुभव होता है. वायरस से लड़ने के लिए शरीर एंटीबॉडी पैदा करने में व्यस्त रहता है, जिसके कारण थकान महसूस होती है. साथ ही इम्यून सिस्टम भी साइटोकाइन बनाता है, जिससे भी थकान होती है.

  • Share this:

Post Covid Symptoms: देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर का कहर जारी है. अब तक इस वायरस के कारण 3 लाख लोगों की जान जा चुकी है, जबकि 2 करोड़ से ज्यादा लोग इस वायरस से ठीक भी हो चुके हैं. हालांकि, कोरोना वायरस की रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद भी मरीज को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. ये न सिर्फ शारीरिक बल्कि मानसिक रूप से भी व्यक्ति को प्रभावित करता है.

आइए जानते हैं कोरोना वायरस के संक्रमण के किन लक्षणों के जाने में लग सकता है लंबा समय..

कई इंद्रियों में वायरल संक्रमण से पीड़ित लोगों को गंध महसूस नहीं होती है. इस लक्षण को ठीक होने में काफी लंबा समय लगता है. ऐसे लक्षण से पीड़ित मरीज को कई टेस्ट कराने पड़ते हैं. वैज्ञानिकों के अनुसार, घ्राण इंद्रियों के साथ सहायक कोशिकाओं पर वायरस के हमले के कारण यह समस्या होती है. स्मेल ट्रेनिंग और रूटीन एक्टिविटी से इस समस्या को जल्दी ठीक होने में मदद मिलती है.
कोरोना वायरस के रोगियों में इस बीमारी से लड़ने के हफ्तों बाद अधिक थकान का अनुभव होता है. वायरस से लड़ने के लिए शरीर एंटीबॉडी पैदा करने में व्यस्त रहता है, जिसके कारण थकान महसूस होती है. साथ ही इम्यून सिस्टम भी साइटोकाइन बनाता है, जिससे भी थकान होती है. इससे बचने के लिए हेल्दी डाइट लें और पर्याप्त पानी पीएं.
कई लोगों में कोरोना से ठीक होने के बाद भी लंबे समय तक खांसी और जुकाम रहता है. इसे पोस्ट कोविड लक्षण माना जाता है. अगर खांसी और जुकाम लंबे समय तक रहे तो इसे नज़रअंदाज न करें, बल्कि डॉक्टर की सलाह लें.
COVID-19 के रोगियों में सांस की तकलीफ की समस्या होना एक सामान्य लक्षण है. हालांकि, कई मामलों में लंबे समय के बाद लक्षण अपने आप चले जाते हैं, जबकि कुछ मरीजों को सपोर्ट मशीन की जरूरत पड़ती है. रिसर्चर्स के मुताबिक सांस संबंधी समस्या से पीड़ित मरीजों के फेफड़े भी डैमेज हो सकते हैं. इससे बचने के लिए ब्रीदिंग एक्सरसाइज एक बेहतर उपाय है.
कोरोना से ठीक हो चुके लोगों को सिरदर्द के साथ ही चक्कर जैसे लक्षणों का अनुभव होता है. ये लक्षण लंबे समय तक बने रहते हैं. बाद में शरीर में सूजन या तंत्रिका में संक्रमण हो सकता है. ऐसे लक्षण नजर आने पर तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए.
कोरोना वायरस मसल फाइबर को डैमेज कर देता है, जिसके कारण मांसपेशियों और शरीर में दर्द बना होता है. पीठ, कमर और जोड़ों में भी दर्द और तनाव महसूस होता है. ये लक्षण लंबे समय तक बने रह सकते हैं. नियमित एक्सरसाइज करने से समस्या कम हो सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज