लाइव टीवी

RECP पर पीयूष गोयल ने सोनिया गांधी पर किया पलटवार, दागे कई सवाल

News18Hindi
Updated: November 3, 2019, 11:43 AM IST
RECP पर पीयूष गोयल ने सोनिया गांधी पर किया पलटवार, दागे कई सवाल
आरईसीपी पर बयान को लेकर गोयल ने सोनिया गांधी पर किया पलटवार

पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने ट्वीट किया, ‘सोनिया गांधी जी आरसीईपी और एफटीए को लेकर अचानक जाग गई हैं. जब आसियान के साथ एफटीए पर 2010 में हस्ताक्षर हुए थे, तब वह कहां थीं?

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 3, 2019, 11:43 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने प्रस्तावित रीजनल कंप्रेहेंसिव इकनॉमिक पार्टनरिशिप (आरईसीपी) और फ्री ट्रेड एग्रीमेंट्स (एफटीए) पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) की टिप्पणियों का जवाब दिया है. उन्होंने शनिवार को कहा कि संप्रग सरकार में ही भारत इस समझौते के लिए वार्ता में शामिल हुआ था.

पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने ट्वीट किया, ‘सोनिया गांधी जी आरसीईपी और एफटीए को लेकर अचानक जाग गई हैं. जब आसियान के साथ एफटीए पर 2010 में हस्ताक्षर हुए थे, तब वह कहां थीं? जब दक्षिण कोरिया के साथ एफटीए पर 2010 में हस्ताक्षर हुए थे, तब वह कहां थीं? जब मलेशिया के साथ एफटीए पर 2011 में हस्ताक्षर हुए थे, जब जापान के साथ 2011 में एफटीए पर हस्ताक्षर हुए थे, तब वह कहां थीं?’




उन्होंने ट्वीट किया, ‘वह (सोनिया गांधी) तब कहां थीं जब उनकी सरकार ने आसियान देशों के लिए अपना 74 प्रतिशत बाजार खोल दिया था, लेकिन इंडोनेशिया जैसे अमीर देशों ने भारत के लिए केवल 50 प्रतिशत बाजार खोला था? वह अमीर देशों को भारी छूट देने के खिलाफ क्यों नहीं बोलीं?’


पीयूष गोयल ने का सोनिया गांधी पर पलटवार
गोयल ने ट्वीट किया,‘‘ उस समय सोनिया जी कहां थी, जब उनकी सरकार 2007 में भारत-चीन एफटीए पर विचार करने पर सहमत हुई थीं? मुझे उम्मीद है कि पूर्व प्रधानमंत्री डॉ़ मनमोहन सिंह उनके इस अपमान के खिलाफ बोलेंगे.’’




सोनिया गांधी ने आरसीईपी को लेकर उठाए थे साल
सोनिया ने एशिया-प्रशांत के 16 देशों के साथ प्रस्तावित आरसीईपी समझौते का उल्लेख करते हुए कहा था, ‘सरकार के कई निर्णयों से अर्थव्यवस्था को क्या कम नुकसान नहीं हुआ था कि अब वह आरसीईपी के माध्यम से बड़ा नुकसान पहुंचाने की तैयारी में है. इससे हमारे किसानों, दुकानदारों, लघु एवं मध्यम इकाइयों पर गंभीर दुष्परिणाम होंगे.’

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 3, 2019, 11:22 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...