लाइव टीवी

अमेरिका के साथ ट्रेड डील में नहीं करेंगे जल्दबाजी, सुनिश्चित करेंगे राष्ट्रीय हित सर्वोपरि रहे : पीयूष गोयल

News18Hindi
Updated: October 16, 2019, 11:14 PM IST
अमेरिका के साथ ट्रेड डील में नहीं करेंगे जल्दबाजी, सुनिश्चित करेंगे राष्ट्रीय हित सर्वोपरि रहे : पीयूष गोयल
केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने नई दिल्ली के एक कार्यक्रम में अमेरिका से होने वाली ट्रेड डील को लेकर कई बातें की (फाइल फोटो)

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने कहा है कि बीजेपी सरकार अतिरिक्त सतर्कता बरतेगी और सावधानी से ट्रेड डील (Trade Deal) करेगी. उन्होंने कहा कि डेडलाइन जैसी चीजें जल्दीबाजी के लिए मजबूर करती हैं और ऐसे में राष्ट्रीय हित (National Interest) के साथ समझौता हो सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 16, 2019, 11:14 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय वाणिज्य मंत्री (Commerce Minister) पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने बुधवार को कहा है कि भारत ट्रेड डील (Trade Deal) जैसे मुद्दों पर एक 'स्लो एंड स्टीडी अप्रोच' (Slow and Steady Approach) अपनाएगा. उन्होंने अपनी बात में यह भी जोड़ा कि चूंकि अमेरिका (America) के साथ व्यापार पर बातचीत सुचारू रूप से चल रही है. इसकी जटिलता के चलते इसे फाइनल करने में थोड़ा वक्त लग रहा है.

पीयूष गोयल ने नई दिल्ली (New Delhi) में एक कार्यक्रम में कहा, 'अमेरिका के साथ हमारी (व्यापार पर) बातचीत बहुत अच्छी चल रही है. व्यापार समझौता (Trade Deal) आसान नहीं है, इसमें काफी जटिलताएं होती हैं और हमें पिछले 10 से 30 साल के संबंधों पर नज़र डालनी पड़ती है.'

ऐसे करेंगे समझौता कि राष्ट्रीय हित, छोटे व्यापार और घरेलू उद्योगों को नुकसान न हो
उन्होंने कहा, 'हम मोलभाव के हर पक्ष का अच्छी तरह से अध्ययन करेंगे और यह तय करेंगे कि किसी तरह से हम राष्ट्रीय हित (National Interest), छोटे व्यापार और घरेलू उद्योगों को नुकसान न हो.' उन्होंने अपनी बात में यह भी जोड़ा कि कोई भी व्यापार समझौता जल्दबाजी में नहीं किया जाएगा और सरकार पहले देश के हितों का ध्यान रखेगी.

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि बीजेपी के नेतृत्व वाली सरकार अतिरिक्त सावधानी बरतेगी और सावधानी से ट्रेड डील करेगी. उन्होंने यह भी कहा कि डेडलाइन (Dead Line) जैसी चीजें जल्दीबाजी के लिए मजबूर करती हैं और ऐसे में राष्ट्रीय हित के साथ समझौता हो सकता है.

'2009-11 में सरकारों ने जल्दीबाजी में फाइनल की थी ट्रेड डील'
उन्होंने कहा कि 2009-2011 के बीच कुछ ट्रेड डील जल्दी में की गई थीं और कुछ लेन-देन उजागर नहीं किए गए थे जो कि भारत के लिए एक देश के तौर पर चिंता का विषय हैं. मैं इस पर धीरे और स्थिर तरीके से आगे बढ़ूंगा. उन्होंने कहा, "अमेरिका (America) के साथ बातचीत थोड़ा और वक्त ले सकती हैं लेकिन वे भारत के लिए अच्छे परिणाम लेकर आएंगीं."
Loading...

गोयल ने कालेधन (Black Money) पर भी बातचीत की और कहा कि अर्थव्यवस्था में कैश के स्तर को यह नीचे ले जा रहा है.

यह भी पढ़ें: ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत की रैंकिग गिरने पर राहुल गांधी ने किया ये ट्वीट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 16, 2019, 10:55 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...