कभी बुरी तरह कोविड-19 की चपेट में रहे धारावी में लगा प्लाज्मा डोनेशन कैंप

कभी बुरी तरह कोविड-19 की चपेट में रहे धारावी में लगा प्लाज्मा डोनेशन कैंप
धारावी में प्लाज्मा डोनेशन कैंप लगाया गया है

अब धारावी इलाके (Dharavi Area) में ही बीएमसी प्लाज्मा डोनेशन कैंप (Plasma Donation Camp) लगा रही है ताकि कोरोना से जो मरीज ठीक हुए हैं, वो अपना प्लाज्मा डोनेट कर, दूसरे मरीजों (Patients) की भी जान बचाएं.

  • Share this:
मुंबई. एशिया (Asia) का सबसे बड़ा स्लम (Slum)- मुंबई (Mumbai) का धारावी (Dharavi) इलाका. जिसकी झोपड़-पट्टी में दस लाख से ज्यादा आबादी रहती है. कोरोना (Coronavirus) ने पूरे इलाके को अपनी चपेट में ले लिया था. 2500 से ज्यादा मामले धारावी में आ चुके थे. फिर भी महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) और बीएमसी (BMC) काफी हद तक यहां कोरोना के मामलों को रोकने में कामयाब हुई हैं. यही वजह है की अब धारावी इलाके में ही बीएमसी प्लाज्मा डोनेशन कैंप (Plasma Donation Camp) लगा रही है ताकि कोरोना से जो मरीज ठीक हुए हैं, वो अपना प्लाज्मा डोनेट कर, दूसरे मरीजों (Patients) की भी जान बचाएं.

इस इलाके के शिवसेना सांसद (Shiv Sena MP) राहुल शेवाले का कहना है की पुलिस और बीएमसी (Police and BMC) ने धारावी में काफी अच्छा काम किया है जिससे कोरोना (Coronavirus) कंट्रोल में आया है. और आने वाले दिनो में और भी लोग अपना प्लाज्मा (Plasma) डोनेट करेंगे.

WHO ने भी थी धारावी मॉड्यूल की तारीफ
मुंबई के धारावी इलाके में बीएमसी के अधिकारी और डॉक्टरों की टीम पीपीई किट पहने कही भी दिख सकती है. पहले यह लोग धारावी में लोगों की कोरोना टेस्टिंग कर रहे थे पर अब ये धारावी इलाके में कोरोना से ठीक हुए मरीजों का प्लाज्मा ले रहे है क्योंकि धारावी की तस्वीर अब धीरे-धीरे बदल रही है. हॉटस्पॉट से अब धारावी प्लाज्मा डोनेशन का सबसे बड़ा कैंप बनता जा रहा है. 11 मार्च को जब सबसे पहला कोरोना का मामला धारावी में आया था तो सारे लोग सोच रहे थे की धारावी में कोरोना को रोकना मुमकिन नहीं होगा. धारावी में कोरोना मरीजों की संख्या काफी तेजी से बढ़कर 2500 पहुंच गई थी. अब यह संख्या कंट्रोल में है. इन प्रयासों की तारीफ WHO ने भी की थी.
धारावी में प्लाज्मा डोनेशन कैंप में डोनेशन के लिए आये 500 से ज्यादा लोग


धारावी इलाके के एक स्कूल में कैंप लगा है. बीएमसी के डॉ दानीश शेख का कहना है की हमने धारावी में इसलिए कैंप लगाया है ताकि ज्यादा से लोग सामने आए और अपना प्लाज्मा डोनेट करे. क्योंकि इसी इलाके में सबसे ज्यादा मरीज थे ऐसे में डोनेट करने वाले भी इसी इलाके से आयेंगे.

यह भी पढ़ें: देश में कोरोना जांच में तेजी, एक दिन में रिकॉर्ड 4.2 लाख नमूनों की हुई जांच

ठीक हुई एक मरीज का कहना है, "मैं पिछले महीने कोरोना पॉजिटिव थी. अब मैं ठीक हूं. प्लाज्मा डोनेट करने आई हूं. ठीक हुए सभी लोगों को प्लाज्मा देना चाहिए ताकि दूसरे मरीजों की भी जान बच सके." धारावी की तरह अब बीएमसी और भी इलाकों में प्लाज्मा डोनेशन कैंप लगाने की तैयारी कर रही है. ताकि ज्यादा से ज्यादा कोरोना मरीजों को ठीक किया जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading