• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • PLASTIC BOTTLE CRUSHERS IN VANDE BHARAT EXPRESS START FROM DELHI TO KATRA SEE SOME SPECIAL FEATURES

कटरा के लिए वंदे भारत एक्सप्रेस शुरू, ट्रेन में ही नष्ट कर सकेंगे प्लास्टिक, जानें इसकी और खासियत

पहले और आखिरी डिब्बे में प्लास्टिक की बोतल नष्ट करने वाली ये मशीनें लगाई गई हैं, जिससे रेलवे लाइनों पर प्लास्टिक बोतलों के ढेर को कम करने में मदद मिलेगी. Photo: PTI

‘वंदे भारत एक्सप्रेस’ (vande Bharat Express) में प्लास्टिक बोतल (Plastic Bottle) नष्ट करने वाली मशीनों के अलावा कई और सुविधाएं दी गई है. ये ट्रेन दिल्ली से कटरा (Delhi to Katra) के बीच चलेगी और यात्रियों के 4 घंटे बचाएगी.

  • Share this:
    नई दिल्ली: दिल्ली से कटरा जाने वाली ‘वंदे भारत एक्सप्रेस’ (vande Bharat Express) गुरुवार को शुरू हो गई. ये ट्रेन कई सुविधाओं से भरपूर है. एक अधिकारी ने बताया कि इस रेलगाड़ी में प्लास्टिक बोतल (Plastic Bottle) नष्ट करने वाली मशीनें, गहरे फ्रीजर वाली बड़ी पैंट्री, घूम सकने वाली सीटें और पशु-रोधी गार्ड जैसी सुविधाएं दी गई हैं. गुरुवार को गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) के साथ रेलमंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) और केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह और हर्षवर्धन की मौजूदगी में नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से ‘वंदे भारत एक्सप्रेस’को रवाना किया गया.

    कटरा में श्री माता वैष्णो देवी तक जाने वाली यह रेल 130 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से 8 घंटों में यह दूरी तय करेगी, जिससे पहले की तुलना में 4 घंटे बचेंगे. अधिकारियों ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एकल उपयोग प्लास्टिक को खत्म करने की मुहिम के तहत इस रेल में प्लास्टिक बोतलों को नष्ट करने वाली मशीनों का प्रावधान भी किया गया है. पहले और आखिरी डिब्बे में यह मशीनें लगाई गई हैं, जिससे रेलवे लाइनों पर प्लास्टिक बोतलों के ढेर को कम करने में मदद मिलेगी.



    उन्होंने यह भी बताया कि उपलब्ध स्थान को देखते हुए मशीनों की संख्या बढ़ायी जा सकती हैं. इस रेल में 180 अंश तक घूम सकने वाली सीटें, दो कार्यकारी वर्ग के डिब्बों सहित 16 वातानूकूलित डब्बे हैं और ये सेंसर दरवाजों से जुड़े हुए हैं. इस रेलगाड़ी में काफी बड़ी पैंट्री बनाई गई है. पीने के पानी के लिए आरओ, आईसक्रीम और स्वागत पेय रखने के लिए एक डीप फ्रीजर, 3 हॉट केस और बोतल ठंडा रखने वाली दो मशीनें लगाई गई हैं.

    चालक की सुविधा के लिए बाहर देखने वाले शीशे पर सूरज की किरणों से बचाने वाली स्क्रीन लगायी गयी है। साथ ही चालक कक्ष में ध्वनि स्तर को कम रखने के लिए बेहतर इन्सुलेशन की व्यवस्था की गई है. रेल चालक और गार्ड के बीच सीधे संपर्क के लिए फोन की सुविधा दी गई है. 5 अक्टूबर से यात्रियों के लिए इस रेल की सुविधा प्रारंभ हो जाएगी और मंगलवार को छोड़कर यह रेल पूरे सप्ताह चलेगी.

    यह भी पढ़ें...
    मोदी-जिनपिंग के स्वागत में 60 किमी तक लगाए जाएंगे बैनर, हाईकोर्ट ने दिया ग्रीन सिग्नल