होम /न्यूज /राष्ट्र /रणजी खेला, ​एक्टिंग की, जज बने: काफी दिलचस्प है SC से रिटायर होने जा रहे जस्टिस एल नागेश्वर राव की कहानी

रणजी खेला, ​एक्टिंग की, जज बने: काफी दिलचस्प है SC से रिटायर होने जा रहे जस्टिस एल नागेश्वर राव की कहानी

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस एल नागेश्वर राव 1989 में आई हिंदी फिल्म 'कानून अपना अपना' में पुलिस वाले बने थे. (Screengrab)

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस एल नागेश्वर राव 1989 में आई हिंदी फिल्म 'कानून अपना अपना' में पुलिस वाले बने थे. (Screengrab)

जस्टिस राव 1989 में आई, दिलीप कुमार, नूतन, माधुरी दीक्षित, अनुपम खेर, कादर खान, संजय दत्त अभिनित ​हिंदी फिल्म 'कानून अप ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट में शुक्रवार को जस्टिस एल नागेश्वर राव का आखिरी कार्यदिवस था. इस मौके पर उन्हें गर्मजोशी से विदाई दी गई. वह 7 जून को सेवानिवृत्त हो रहे हैं. भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमण ने जस्टिस राव द्वारा दिए कई ऐतिहासिक निर्णयों के लिए उनकी प्रशंसा की. इस दौरान सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के उपाध्यक्ष और वरिष्ठ अधिवक्ता प्रदीप राय ने क्रिकेट और सिनेमा के प्रति जस्टिस एल नागेश्वर राव के लगाव और उनके संबंधों को लेकर कई दिलचस्प किस्से सुनाए.

जस्टिस राव ने आंध्र प्रदेश के लिए रणजी खेल चुके हैं. उन्होंने कुछ फिल्मों में छोटी-मोटी भूमिकाएं भी निभाई हैं. जस्टिस राव 1989 में आई, दिलीप कुमार, नूतन, माधुरी दीक्षित, अनुपम खेर, कादर खान, संजय दत्त अभिनित ​हिंदी फिल्म ‘कानून अपना अपना’ में पुलिस इंस्पेक्टर की भूमिका में दिख चुके हैं. बाद में उन्होंने वकील के रूप में कानून का अभ्यास शुरू किया और सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस बने. अपने फेयरवेल इवेंट में उन्होंने बताया कि युवावस्था के दौरान वह थिएटर करते थे और उनके चचेरे भाई निर्देशक थे. इस तरह उन्होंने फिल्मों में काम किया.

क्रिकेट और सिनेमा के शौकीन रहे हैं जस्टिस राव
जस्टिस राव ने कहा- मुझे क्रिकेट खेलने का शौक बचपन से ही रहा है. जब आईपीएल के मैच होते हैं और मैं काम करता रहता हूं, तब टीवी चालू रहता है. मुझे सक्रिय रहना पसंद है और खेल ने मुझे जीवन में बहुत कुछ सिखाया है. जैसे, हारने पर दुखी ना हों. कुछ खोना सफलता की सीढ़ी है. सीजेआई एनवी रमण ने इस मौके पर कहा, एक जज के रूप में जस्टिस राव ने कानून की व्याख्या करने और कई उल्लेखनीय विचारों पर संविधान की व्याख्या करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.

सीजेआई ने जस्टिस राव के निर्णयों को किया याद
उन्होंने कहा, हाल ही में जस्टिस राव ने जैकब पुलियेल मामले में फैसला सुनाया, जिसमें उन्होंने स्पष्ट किया कि किसी भी व्यक्ति को टीकाकरण के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता है. जस्टिस नागेश्वर राव ने राजीव गांधी की हत्या के दोषी एजी पेरारीवलन की रिहाई वाला फैसला भी लिखा. प्रधान न्यायाधीश ने मजाकिया लहजे में कहा कि जस्टिस राव की कप्तानी में सीजेआई इलेवन (CJI XI) इस साल क्रिकेट मैच में एससीबीए इलेवन (SCBA XI) को हरा सकता है.

जस्टिस राव का कोई गॉडफादर नहीं था: सीजेआई
सीजेआई एनवी रमण ने कहा कि जस्टिस राव पहली पीढ़ी के वकील हैं. उनके पास कोई गॉडफादर नहीं था. मैं उन्हें और उनके परिवार को शुभकामनाएं देता हूं. यह एक बहुत ही भावनात्मक दिन है. हमने एक साथ करियर शुरू किया और कुछ समय बाद मैं भी रिटायर होने जा रहा हूं. मेरे लिए यह मजबूत समर्थन रहा है. अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने जस्टिस राव की तारीफ की और कहा कि सुप्रीम कोर्ट एक बहुत अच्छा और शक्तिशाली जज खो रहा है. एजी ने जस्टिस राव के हाल ही में पेरारिवलन को रिहा करने के फैसले का उल्लेख किया और कहा कि यह उनके करियर के प्रतीक के रूप में याद किया जाएगा.

Tags: CJI NV Ramana, Judges, Supreme Court

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें