'5 दिनों में कोविड-19 के लिए PM केयर फंड में जमा हुए 3 हजार करोड़'

'5 दिनों में कोविड-19 के लिए PM केयर फंड में जमा हुए 3 हजार करोड़'
पीएम केयर्स कोष की आधिकारिक वेबसाइट पर आधिकारिक डेटा दिया गया है. (फाइल फोटो)

कोष (PM Cares Fund) द्वारा बुधवार को जारी सार्वजनिक वक्तव्य में यह जानकारी दी गई है. कोष के ‘प्राप्ति-भुगतान लेखा’ के मुताबिक 3,075.85 करोड़ रुपए ‘स्वैच्छिक योगदान’ और 39.67 लाख रुपए विदेशी योगदान के रूप में कोष में प्राप्त हुए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 2, 2020, 8:00 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोविड- 19 महामारी (Covid-19 Pandemic) जैसी आपात स्थिति से निपटने के लिए बनाए गए पीएम केयर्स फंड (PM Cares Fund) में स्थापना के शुरुआती पांच दिन में ही 3,076.62 करोड़ रुपए की राशि प्राप्त हुई थी. कोष द्वारा बुधवार को जारी सार्वजनिक वक्तव्य में यह जानकारी दी गई है. कोष के ‘प्राप्ति-भुगतान लेखा’ के मुताबिक 3,075.85 करोड़ रुपए ‘स्वैच्छिक योगदान’ और 39.67 लाख रुपए विदेशी योगदान के रूप में कोष में प्राप्त हुए. इसके मुताबिक 31 मार्च 2020 को वित्त वर्ष की समाप्ति पर कोष में 3,076.62 करोड़ रुपए राशि जमा थी. यह राशि ब्याज आय शामिल करते हुए और विदेशी मुद्रा परिवर्तन पर सेवा कर कटौती के बाद उपलब्ध थी.

व्यक्तियों, संगठनों की ओर से स्वैच्छिक योगदान किया गया है
पीएम केयर्स कोष की आधिकारिक वेबसाइट पर डाले गए ब्योरे के मुताबिक कोष की शुरुआत 2.25 लाख रुपए के शुरुआती कोष के साथ हुई. इसमें वित्तीय वक्तव्य के नोट भी शामिल है लेकिन वेबसाइट पर इन्हें सार्वजनिक नहीं किया गया है. प्रधानमंत्री आपात स्थिति नागरिक सहायता एवं राहत कोष (पीएम केयर्स फंड) की वेबसाइट पर डाले गए ब्योरे के मुताबिक कोष में पूरी तरह से व्यक्तियों, संगठनों की ओर से स्वैच्छिक योगदान किया गया है और इसमें काई बजट सहायता शामिल नहीं है.

27 से 31 मार्च 2020 के बीच आए पैसे
इसमें कहा गया है कि वर्ष 2019- 20 (27 से 31 मार्च 2020) के दौरान 3,076.62 करोड़ रुपए की राशि पीएम केयर्स फंड में जुटाई गई. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोविड- 19 महामारी फैलने के बाद मार्च के अंतिम सप्ताह में इस कोष के गठन की घोषणा की थी. उन्होंने जनता से इसमें दान देने की अपील की जिसके बाद कई निजी कंपनियों, सरकारी संस्थाओं, आम लोगों, विभिन्न क्षेत्रों की जानी मानी प्रमुख हस्तियों ने बढ़-चढ़कर इसमें योगदान किया.



इस कोष को बनाने का मकसद किसी भी तरह की सार्वजनिक स्वास्थ्य संबंधी आपात स्थिति, किसी अन्य तरह की आपात स्थिति, आपदा, समस्या, प्राकृतिक अथवा मानव निर्मित, चिकित्सा सुविधाओं को खड़ा करने, उनका उन्नयन करने, इसके लिये जरूरी ढांचागत सुविधाएं जुटाने, शोध के लिए कोष जरूरत अथवा किसी अन्य तरह का समर्थन देना है.

पी. चिदंबरम ने दी प्रतिक्रिया
कोष के इस ब्योरे पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम ने कहा कि कोष के ऑडिटरों ने यह तो बताया है कि पांच दिन में कोष में 3,076 करोड़ रुपये प्राप्त हो गए लेकिन उन दानदाताओं के नाम नहीं बताए जिन्होंने यह राशि कोष में दी है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘प्रत्येक दूसरा गैर- सरकारी संगठन अथवा ट्रस्ट को एक तय सीमा से अधिक राशि का योगदान करने वाले दानदाताओं के नाम उजागर करने का दायित्व होता है फिर पीएम केयर्स कोष को इस दायित्व से क्यों छूट दी गई है.’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज