कोरोनाः पीएम मोदी ने लॉकडाउन को लेकर दूर की शंका, बच्चों और बड़ों को दिया संदेश

पीएम मोदी ने कहा कि आज की स्थिति में हमें देश को लॉकडाउन से बचाना है. (Pic- ANI)

पीएम मोदी ने कहा कि आज की स्थिति में हमें देश को लॉकडाउन से बचाना है. (Pic- ANI)

PM Modi on Coronavirus: पीएम मोदी ने अपने संदेश में कहा जिस अनुशासन और धैर्य के साथ कोरोना से लड़ते हुए जनता पिछले साल देश को यहां तक ले आयी, उसी जन भागीदारी से देश की जनता इस संकट से भी बचायेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 21, 2021, 1:43 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना रूपी महामारी से देश जूझ रहा है. पिछले कुछ हफ्तों में महामारी ऐसी फैली कि पूरे देश में डर का माहौल फैल गया. ऑक्सीजन की कमी की खबरें, कोरोना की दवा, हॉस्पिटल में बेड की कमी होने लगी तो पीएम मोदी ने भी कमर कसी. अपने तमाम कार्यक्रमों पर रोक लगाकर लग गए तमाम स्टेकहोल्डर्स से मंत्रणा करने में. पीएम मोदी ने रविवार रात 8 बजे से बैठकों का जो सिलसिला शुरू किया वो मंगलवार शाम 7 बजे जा कर रूका. सोमवार का दिन तो पीएम मोदी के लिए मैराथन सोमवार था. नवरात्रों के सातवें दिन के व्रत के बावजूद पीएम मोदी ने अधिकारियों, डॉक्टरों, दवा कंपनियों से बात की. पूरे दिन सरकार इस संकट से जूझने के लिए नए नए ऐलान भी करती रही.

इसके बाद पीएम मोदी इस संकट में पहली बार जनता से मुखातिब हुए तो ऐसा संदेश दिया मानो घर का मुखिया एक बड़ी जंग से लड़ने की नसीहत दे रहा हो. पहले भी देश देख चुका है कि पीएम मोदी की अपील का जनता पर कितना सकारात्मक असर होता है. इसलिए घर के बुजुर्ग की तरह ही पीएम मोदी ने बच्चों से लेकर बड़ों तक से कहा कि इस लड़ाई में उनकी कितनी अहमियत है.

Youtube Video


लॉकडाउन को लेकर दूर की शंका
पीएम मोदी जानते हैं कि देश की अर्थव्यवस्था ऐसी नहीं कि फिर से लॉकडाउन झेल सकती है. इसलिए देश को ये संदेश दे दिया कि देश को लॉकडाउन से बचाना है, ताकि लोगों की आजीविका चलती रहे. इसलिए लॉकडाउन राज्य सरकारों का आखिरी विकल्प होना चाहिए. हम सभी का प्रयास जीवन बचाने के लिए है और लोगों की आजीविका कम से कम प्रभावित हो. राज्य सरकारों से अनुरोध किया कि वे प्रवासी श्रमिकों को रोकें और उन्हें बताएं कि जहां हो, वहीं रहो. वैक्सीन भी मिलेगी और आजीविका भी चलेगी.

जनभागीदारी से जीतेंगे कोरोना से जंग

पीएम मोदी ने अपने संदेश में कहा जिस अनुशासन और धैर्य के साथ कोरोना से लड़ते हुए जनता पिछले साल देश को यहां तक ले आयी, उसी जन भागीदारी से देश की जनता इस संकट से भी बचायेगी. पीएम ने देशवासियों से अपील करते हुए कहा कि ज्यादा से ज्यादा लोग बाहर आएं और समाज को मदद करें. युवा छोटी छोटी टोलियाँ बनाकर अपने अपार्टमेंट या सोसाइटी में लोगों की मदद करें. पीएम मोदी ने स्वच्छ भारत आंदोलन को याद करते हुए कहा कि तब उनके बाल मित्रों ने बहुत मदद की थी. इसलिए एक बार फिर उन्होंने बच्चों से अपील की कि वो घर में ऐसा माहौल बनाएं कि बिना काम कोई घर से बाहर नहीं निकले. प्रचार माध्यम प्रयास करें कि डर का माहौल कम हो.



पहले की तुलना में देश इस बार ज्यादा तैयार

पीएम मोदी ने देश को आश्वस्त किया कि इस बार हमारी तैयारी पिछली बार से बेहतर है. इसलिए ज्यादा से ज्यादा जीवन बचा रहे हैं. पीपीई किट है, दवा है, कुछ शहरों में बढ़ते केस को देखते हुए बड़े अस्पताल बनाए जा रहे हैं, फॉर्मा सेक्टर ने उत्पादन और बढ़ा दिया है, जिसे कई गुना ज्यादा तेज किया जा रहा है. पूरी कोशिश है कि हर जरूरतमंद को वैक्सीन मिले. इसकी सप्लाई बढ़ाने के लिए हरसंभव उपाय किये जा रहे हैं.

पीएम मोदी ने बताया कि ये देश के उद्योग जगत और वैज्ञानिकों का कमाल है कि भारत में दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान शुरू किया गया है. यहां दुनिया में सबसे तेजी से 10 करोड़, फिर 12 करोड़ वैक्सीन दिए गए. यही ताकत है कि 1 मई से 18 वर्ष से ऊपर के किसी भी व्यक्ति का टीकाकरण हो सकेगा. सरकारी अस्पतालों में मुफ्त वैक्सीन मिलती रहेगी.

नवमी और रमजान... घर से बाहर न निकलें

पीएम मोदी ने कहा कि बुधवार को रामनवमी है. इस मौके पर सभी संकल्प लें कि दवाई भी और कड़ाई भी के मंत्र को नहीं भुलना है. यही संदेश रमजान के मौके पर पीएम ने मुस्लिम समुदाय को दिया कि सब अनुशासन का पालन करें, क्योंकि रमजान भी संयम की सीख देता है. अंत में पीएम मोदी ने देश को भरोसा दिलाया कि आज की परीस्थितियों को बदलने में देश कोई कसर नहीं छोड़ेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज