कब होगी PM मोदी और जो बाइडन के बीच बात, विदेश मंत्रालय ने दिया जवाब

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन परस्पर सुविधाजनक समय पर एक दूसरे के साथ बातचीत करेंगे.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन परस्पर सुविधाजनक समय पर एक दूसरे के साथ बातचीत करेंगे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और जो बाइडन (Joe Biden) के बीच बातचीत को लेकर कयासबाजी की जा रही है. अब विदेश मंत्रालय ने इस पर जवाब दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 13, 2020, 8:39 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अमेरिकी राष्ट्रपति पद का चुनाव डेमोक्रेट उम्मीदवार जो बाइडन (Joe Biden) जीत चुके हैं और वो जनवरी महीने में अपने पद की शपथ लेंगे. इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और जो बाइडन के बीच बातचीत को लेकर भी कयासबाजी की जा रही है.

अब विदेश मंत्रालय ने साफ किया है कि पीएम मोदी ने बीते 8 नवंबर को ट्वीट कर जो बाइडन को शुभकामनाएं दी थीं. जहां तक दोनों नेताओं के बीच बातचीत का सवाल है तो यह आपसी सुविधाजनक समय पर होगी. यह बात विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कही है.

यह पूछे जाने पर कि दोनों नेता कब एक-दूसरे के साथ बातचीत करेंगे, उन्होंने कहा कि भविष्य में परस्पर सुविधाजनक समय पर बातचीत होगी. अमेरिका के अगले प्रशासन के तहत संबंधों के भविष्य के बारे में श्रीवास्तव ने कहा कि दोनों देशों के संबंधों की नींव बहुत मजबूत है और दोनों देशों के बीच इस व्यापक वैश्विक रणनीतिक साझेदारी को अमेरिका में दोनों दलों का समर्थन प्राप्त है.
गौरतलब है कि पीएम नरेंद्र मोदी ने जो बाइडन के अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति निर्वाचित होने पर शुभकामनाएं देते हुए ट्वीट किया था-शानदार जीत पर बधाई जो बिडेन! वाइस प्रेसिडेंट के रूप में भारत-अमेरिका संबंधों को मजबूत करने में आपका योगदान महत्वपूर्ण और अमूल्य था. मैं भारत-अमेरिका संबंधों को अधिक से अधिक ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए एक बार फिर साथ मिलकर काम करने की आशा करता हूं.'






पीएम मोदी के लिए भोज की मेजबानी कर चुके हैं जो बाइडन
गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सितंबर 2014 में जब अमेरिका दौरे पर गए थे तब तत्कालीन उपराष्ट्रपति बाइडन ने उनके लिए भोज की मेजबानी की थी. बराक ओबामा के कार्यकाल में भारत और अमेरिका के बीच रणनीतिक और रक्षा संबंधों में प्रमुख विस्तार हुआ और उसमें बाइडन ने अहम भूमिका निभाई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज