पीएम मोदी की रूस यात्रा: पुतिन से मुलाकात के दौरान इन समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर

News18Hindi
Updated: September 2, 2019, 8:08 PM IST
पीएम मोदी की रूस यात्रा: पुतिन से मुलाकात के दौरान इन समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर
पीएम मोदी 4-5 सितंबर को रूस की यात्रा पर जाने वाले हैं (फाइल फोटो)

पीएम नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) 4 सितंबर से दो दिन की रूस यात्रा पर जा रहे हैं. जहां रूस (Russia) के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (President Vladimir Putin) के साथ पीएम मोदी का वन-टू-वन डिनर होगा. इस दौरान दोनों नेताओं के बीच बातचीत भी होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 2, 2019, 8:08 PM IST
  • Share this:
पीएम मोदी (PM Modi) 4 सितंबर से अपनी दो दिन की रूस यात्रा (Russia Visit) पर जा रहे हैं. जहां वे 5 सितंबर को व्लादीवोस्टक (Vladivostok) में आयोजित ईस्टर्न इकॉनमिक फोरम के चीफ गेस्ट होंगे. इससे पहले वे 4 सितंबर को रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (President Vladimir Putin) के साथ वन-टू-वन डिनर के लिए भी आमंत्रित किए गए हैं. डिनर पर ही दोनों देशों के नेताओं के बीच द्विपक्षीय बातचीत (Bilateral Talks) होगी. कहा जा रहा है कि इस दौरान दोनों देशों के बीच व्यापार, प्रतिरक्षा, निवेश, ऊर्जा, औद्योगिक सहयोग जैसे 25 समझौतों पर हस्ताक्षर भी हो सकते हैं.

डिनर के दौरान दोनों नेता अपने व्यक्तिगत रिश्तों को और मजबूत करेंगे तथा अफगानिस्तान (Afghanistan), पाकिस्तान (Pakistan) जैसे प्रमुख वैश्विक मसलों पर आपसी-तालमेल स्थापित करने का प्रयास करेंगे. रूसी राष्ट्रपति के सहयोगी यूरी उशाखोव ने रूसी मीडिया को हाल में बताया, ऐसी बातचीत के दौरान मुख्य अंतरराष्ट्रीय और क्षेत्रीय समस्याओं, अंतरराष्ट्रीय क्षेत्र में आपसी सहयोग जैसे मुद्दों पर काफी भरोसे और सफाई के साथ चर्चा हो जाती है.

सालाना वार्ता के लिए पुतिन 2018 में आए थे भारत
हर साल भारत और रूस के राष्ट्राध्यक्षों के बीच एक सालाना वार्ता होती है. गौरतलब है कि पिछले साल इस वार्ता के लिए रूसी राष्ट्रपति भारत आए थे. तब पीएम मोदी ने उन्हें अपने आवास पर वन-टू-वन डिनर के लिए आमंत्रित किया था. इससे पहले भी 2018 में दोनों नेताओं की एक मुलाकात हुई थी, जिसमें दोनों ने अकेले काफी वक्त गुजारा था और इसके बाद पुतिन खुद पीएम मोदी को छोड़ने के लिए एयरपोर्ट तक आए थे.

इकॉनमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, दोनों नेताओं के व्यक्तिगत रिश्ते काफी मजबूत हैं, जिसके चलते भारत-रूस संबंधों में भी सुधार आया है. यही वजह है कि रूस, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का वह पहला सदस्य देश था, जिसने कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के फैसले का समर्थन किया था. व्लादीवोस्टक में दोनों नेता एक संयुक्त बयान भी जारी करेंगे, जिसका शीर्षक 'थ्रू ट्रस्ट एंड पार्टनरशिप टू न्यू हाइट्स ऑफ कॉपरेशन' होगा.

छह न्यूक्लियर रिक्टयर की स्थापना का समझौता हो सकता है
राष्ट्रपति पुतिन से अपनी मुलाकात के दौरान पीएम मोदी उन्हें एक डाक टिकट भी भेंट करेंगे जो महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर जारी किया गया है. इस दौरान शिक्षा और संस्कृति से जुड़े कुछ समझौते भी होने हैं. जिनके जरिए रूसी शिक्षण संस्थाओं में भारतीय छात्रों की संख्या बढ़ाने पर जोर होगा. दोनों ही देश ऐसा रोडमैप तैयार कर रहे हैं, जिससे निवेश और व्यापार को बढ़ावा मिले. पीएम मोदी की यात्रा के दौरान वे इसे आखिरी रूप देंगे.
Loading...

पीएम की रूस यात्रा के दौरान भारत में 6 न्यूक्लियर रिएक्टर की स्थापना के लिए समझौते की संभावना भी है. रूस के शहर व्लादीवोस्टक के फार ईस्टर्न फेडरल यूनिवर्सिटी कैंपस में 4 से 6 सितंबर ईस्टर्न इकॉनमिक फोरम का आयोजन किया जा रहा है. इस फोरम की स्थापना साल 2015 में रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने की थी. यह मंच रूस के साथ सुदूर पूर्व में स्थित देशों के विकास और एशिया प्रशांत क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने के लिए काम करता है. इस साल यह फोरम का पांचवा आयोजन है.

यह भी पढे़ं: स्वच्छ भारत अभियान के लिए PM को अमेरिका में मिलेगा अवॉर्ड

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 2, 2019, 7:24 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...