PM मोदी ने कुवैत के अमीर शेख सबाह के निधन पर जताया दुख

कुवैत के अमीर शेख सबाह की मौत पर पीएम मोदी ने दुख जताया है (फाइल फोटो, AP)
कुवैत के अमीर शेख सबाह की मौत पर पीएम मोदी ने दुख जताया है (फाइल फोटो, AP)

तेल समृद्ध देश के लंबे वक्त तक विदेश मंत्री (Foreign Minister) रहने के दौरान शेख सबाह (Sheikh Sabah) ने 1990 के खाड़ी युद्ध के बाद इराक के साथ करीबी रिश्ते कायम करने और अन्य क्षेत्रीय संकटों (Other regional crises) का समाधान निकालने के लिए काफी काम किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 29, 2020, 10:46 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने कुवैत राज्य (Kuwait State) के अमीर शेख सबाह-अल-अहमद अल-जबर अल-सबाह (Sabah-Al-Ahmad Al-Jaber Al-Sabah) के निधन पर दुख व्यक्त किया. पीएम मोदी (PM Modi) ने उन्हें याद करते हुए लिखा, "आज, कुवैत (Kuwait) और अरब दुनिया (Arab World) ने एक प्यारे नेता को खो दिया है. वे भारत एक करीबी दोस्त, और दुनिया एक महान राजनेता थे."

कुवैत (Kuwait) के अमीर (शासक) शेख सबाह अल अहमद अल सबाह का 91 वर्ष की उम्र में मंगलवार को इंतकाल हो गया. यह जानकारी देश के सरकारी टीवी (Government TV) ने दी है. तेल समृद्ध देश के लंबे वक्त तक विदेश मंत्री (Foreign Minister) रहने के दौरान शेख सबाह ने 1990 के खाड़ी युद्ध के बाद इराक के साथ करीबी रिश्ते कायम करने और अन्य क्षेत्रीय संकटों (Other regional crises) का समाधान निकालने के लिए काफी काम किया. शेख सबाह ने कतर (Qatar) और अन्य अरब देशों (Arab Countries) के बीच विवाद के कूटनीतिक हल के लिए भी कोशिशें कीं और यह प्रयास आज की तारीख तक जारी रहे.


2006 में कुवैत के अमीर बने थे शेख सबाह अल अहमद अल सबाह
वह 2006 में कुवैत के अमीर बने थे. इससे पहले कुवैत की संसद ने उनके पूर्ववर्ती अमीर शेख साद अल अब्दुल्लाह अल सबाह को नौ दिन के शासन के बाद ही बीमारी की वजह से तख्त से हटा दिया था. इराकी फौजें 1990 में कुवैत में घुस आई थीं. इसके बाद अमेरिकी नीत जंग में इराकी सेना को खदेड़ दिया गया था. इसके बाद से ही कुवैत अमेरिका का घनिष्ठ सहयोगी है. सरकारी टीवी ने कुरान की आयतों के प्रसारण के साथ शेख सबाह के इंतकाल की सूचना दी. शाही दरबार मंत्री शेख अली जर्राह अल सबाह ने संक्षिप्त बयान पढ़ा. उन्होंने कहा कि दुख के साथ बताया जाता है कि कुवैती लोग, अरब और इस्लामी विश्व के लोग शेख सबाह के निधन से दुखी हैं.



यह भी पढ़ें: भारत ने चीन को दिया दो टूक जवाब-एकतरफा तरीके से परिभाषित LAC स्वीकार नहीं

हालांकि उनके इंतकाल का कारण नहीं बताया गया है. शेख सबाह जुलाई 2020 में बीमार हो गए थे. कोरोना वायरस महामारी के बीच उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था तथा उनका ऑपरेशन हुआ था. उस वक्त भी अधिकारियों ने बीमारी के बारे में जानकारी नहीं दी थी. इसके बाद अमेरिकी वायुसेना का सी-17 फ्लाइंग हॉस्पिटल शेख सबाह को मिनिसोटा के रोचेस्टर ले गया था, जहां मायो क्लीनिक स्थित है. मायो क्लीनिक ने टिप्पणी के अनुरोध पर तत्काल कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है. (भाषा के इनपुट सहित)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज