भारत-नीदरलैंड्स वर्चुअल समिट: पीएम मोदी ने साझा लोकतांत्रिक मूल्यों पर दिया जोर

बयान के मुताबिक दोनों देशों के बीच कई क्षेत्रों में आपसी सहयोग है जिनमें जल प्रबंधन, कृषि शामिल है.

बयान के मुताबिक दोनों देशों के बीच कई क्षेत्रों में आपसी सहयोग है जिनमें जल प्रबंधन, कृषि शामिल है.

India-Netherlands Virtual Summit: भारत में निवेश के लिहाज से नीदरलैंड तीसरा सबसे बड़ा निवेशक देश है. मौजूदा समय में भारत में नीदरलैंड के 200 से अधिक कंपनियां कार्य कर रही है और लगभग इतनी ही भारतीय कंपनियां नीदरलैंड में अपनी सेवाएं दे रही हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 10, 2021, 4:00 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) ने शुक्रवार को कहा कि जलवायु परिवर्तन, आतंकवाद और महामारी जैसी चुनौतियों पर भारत और नीदरलैंड (India-Netherlands Virtual Summit) का रुख एकसमान है.

उन्होंने यह बात नीदरलैंड के अपने समकक्ष मार्क रुटे से एक डिजीटल शिखर वार्ता के दौरान कही. पीएम मोदी ने अपने आरंभिक बयान में कहा कि दोनों देश हिंद-प्रशांत में लचीली आपूर्ति श्रृंखला और वैश्विक डिजीटल शासन जैसे क्षेत्रों में समन्वय विकसित कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि निवेश प्रोत्साहन के लिए फास्ट ट्रैक प्रक्रिया विकसित होने से दोनों देशों के बीच मजबूत आर्थिक सहयोग को और गति मिलेगी.

नीदरलैंड के संसदीय चुनावों के बाद हुई बैठक

यह शिखर बैठक नीदरलैंड के संसदीय चुनावों में प्रधानमंत्री रुट की हाल की जीत के बाद हुई है. प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक भारत और नीदरलैंड के बीच सौहार्दपूर्ण और मैत्रीपूर्ण संबंध हैं जिसका आधार में लोकतंत्र, स्वतंत्रता और कानून से चलने वाला शासन है.
बयान के मुताबिक दोनों देशों के बीच कई क्षेत्रों में आपसी सहयोग है जिनमें जल प्रबंधन, कृषि और खाद्य प्रसंस्करण, स्वास्थ्य देखभाल, स्मार्ट शहर और शहरी यातायात, विज्ञान और अंतरिक्ष शामिल हैं.



नीदरलैंड क्यों है भारत के लिए महत्वपूर्ण



भारत में निवेश के लिहाज से नीदरलैंड तीसरा सबसे बड़ा निवेशक देश है. मौजूदा समय में भारत में नीदरलैंड के 200 से अधिक कंपनियां कार्य कर रही है और लगभग इतनी ही भारतीय कंपनियां नीदरलैंड में अपनी सेवाएं दे रही हैं.

ये भी पढ़ें: Delhi Night Curfew News: जानें मोदी सरकार के Lockdown और केजरीवाल सरकार के नाइट कर्फ्यू में क्यों है फर्क

नीदरलैंड के प्रधानमंत्री मार्क रट ने कहा, चुनावों में जीत के लिए मुझे बधाई देने के लिए धन्यवाद; पूरी दुनिया कोरोना महामारी की चुनौती का सामना कर रही है.कोरोना से निपटने में आपके सहयोग की सराहना करता हूं. दोनों देशों के बीच कठिन समय में भी संबंध मज़बूत हो रहे हैं; दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय व्यापार 27 फ़ीसदी बढ़ा. हम भारत और यूरोपीय संघ के बीच संबंधों का विस्तार चाहते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज