पीएम स्वनिधि योजना को लेकर मोदी का संबोधन, वर्चुअल चर्चा कर सुनी रेहड़ी वालों की समस्याएं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को रेहड़ी वालों से वर्चुअली चर्चा की. (फाइल फोटो)
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को रेहड़ी वालों से वर्चुअली चर्चा की. (फाइल फोटो)

लॉकडाउन के दौरान प्रभावित हुए गरीब वेंडर्स की मदद के लिए सरकार ने 1 जून से स्वनिधि स्कीम की शुरुआत की थी. मंगलवार को पीएम मोदी ने स्कीम के लाभार्थियों से वर्चुअल तरीके से चर्चा की. स्कीम का लाभ लेने के लिए 24 लाख से ज्यादा आवेदन किए जा चुके हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 27, 2020, 3:33 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) मंगलवार को बनारस, आगरा और लखनऊ के रेहड़ी वालों (Vendors) से रूबरू हुए. पीएम मोदी ने वर्चुअल तरीके से इस मुलाकात में शामिल होकर 'पीएम स्ट्रीट वेंडर स्वनिधि' (PM Street Vendor Swanidhi) के लाभार्थियों की बात सुनी. इस योजना के तहत सरकार रेहड़ी-पटरी वालों को 10 हजार रुपये तक का कर्ज दे रही है.

मजाकिया मूड में नजर आए पीएम
वेंडर्स से चर्चा के दौरान पीएम मजाकिया मूड में नजर आए. उन्होंने पूछा, 'आपका बिजनेस कैसा चल रहा है? यह लोन लेने के लिए आपको कितने अधिकारियों के पास जाना पड़ा? अब आप रोज कितना कमा रहे हैं? हालांकि, मुझे यह सवाल नहीं पूछना चाहिए, मैं कोई आयकर अधिकारी नहीं हूं.'

इसके बाद पीएम ने एक मोमोज बनाने वाले से व्यक्ति से बात की. उन्होंने कहा, 'मैंने सुना है वाराणसी में मोमोज काफी लोकप्रिय हो गए हैं, लेकिन मुझे किसी ने नहीं खिलाए.'



लॉकडाउन के दौरान रेहड़ी वालों ने बहुत सहा
बातचीत के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, 'लॉकडाउन के दौरान हमारे वेंडर भाई-बहनों ने बहुत कुछ सहा है. अब उन्हें मजबूत करना हमारी जिम्मेदारी है.' पीएम ने कहा, 'एक समय था जब सैलरी वाले लोगों को भी लोन लेने के लिए भटकना पड़ता था. गरीब लोगों के पास बैंक जाने तक की हिम्मत नहीं थी. अब बैंक उनके पास आ रहा है. यह सब बैंक के अथक प्रयासों के बिना पूरा नहीं हो सकता था.'

सबसे ज्यादा आवेदक उत्तर प्रदेश से
सरकार की इस योजना के लिए अब तक 24 लाख से ज्यादा आवेदन मिल चुके हैं. इनमें से सबसे ज्यादा संख्या उत्तर प्रदेश के रेहड़ी वालों की है. यहां करीब 3.27 लाख आवेदनों को मंजूरी मिल चुकी है. कुल आवेदनों के लिहाज से देखें तो अब तक 12 लाख एप्लीकेशंस पर मुहर लग चुकी है, जिसके तहत 5.35 लाख करोड़ रुपये बांटे जा चुके हैं. पीएम स्वानिधि स्कीम 1 जून 2020 को लॉन्च हुई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज