PM मोदी ने शुरू की रो-पैक्स सेवा, मिनिस्ट्री ऑफ शिपिंग का नाम हुआ मिनिस्ट्री ऑफ पोर्टस, शिपिंग एंड वॉटरवेज

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुरू की रो-पैक्स सेवा.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुरू की रो-पैक्स सेवा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, इस सेवा से घोघा और हजीरा के बीच अभी जो सड़क की दूरी 375 किलोमीटर की है, वो समंदर के रास्ते सिर्फ 90 किलोमीटर ही रह जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 8, 2020, 1:04 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मोदी (PM Narendra Modi) रविवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए गुजरात के हजीरा (Hazira) से घोघा के बीच रो-पैक्स सेवा (Ro-Pax ferry service) को हरी झंडी दिखाई. इस खास मौके पर पीएम मोदी ने कहा, आज घोघा और हजीरा के बीच रो-पैक्स सेवा शुरु होने से सौराष्ट्र और दक्षिण गुजरात, दोनों ही क्षेत्रों के लोगों का बरसों का सपना पूरा हुआ है, बरसों का इंतजार समाप्त हुआ है. पीएम मोदी ने इस खास मौके पर बताया कि मिनिस्ट्री ऑफ शिपिंग का नाम बदला जा रहा है, अब ये मंत्रालय मिनिस्ट्री ऑफ पोर्टस, शिपिंग एंड वॉटरवेज के नाम से जाना जाएगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, इस सेवा से घोघा और हजीरा के बीच अभी जो सड़क की दूरी 375 किलोमीटर की है, वो समंदर के रास्ते सिर्फ 90 किलोमीटर ही रह जाएगी. यानि जिस दूरी को कवर करने में 10 से 12 घंटे का समय लगता था, अब उस सफर में 3-4 घंटे ही लगा करेंगे. ये समय तो बचाएगा ही, आपका खर्च भी कम होगा.
प्रधानमंत्री ने कहा, गुजरात में रो-पैक्स फेरी सेवा जैसी सुविधाओं का विकास करने में बहुत लोगों का श्रम लगा है, अनेक कठिनाइयां रास्ते में आई हैं. मैं उन सभी साथियों का आभारी हूं, उन तमाम इंजीनियर्स का, श्रमिकों का आभार व्यक्त करता हूं, जो हिम्मत के साथ डटे रहे.

इसे भी पढ़ें :- US Election 2020: जो बाइडन से रिश्ता बढ़ाने के लिए क्या है मोदी सरकार का प्लान?



प्राकृतिक चुनौतियों को टेक्नोलॉजी से कर रहे दूर
पीएम ने कहा आज गुजरात में समुद्री कारोबार से जुड़े इंफ्रास्ट्रक्चर और कैपेसिटी बिल्डिंग पर तेज़ी से काम चल रहा है, उदाहरण के तौर पर गुजरात मेरीटाइम क्लस्टर, गुजरात समुद्री विश्वविद्यालय, भावनगर में सीएनजी टर्मिनल, ऐसी अनेक सुविधाएं गुजरात में तैयार हो रही हैं. सरकार का प्रयास घोघा-दहेज के बीच फेरी सर्विस को भी जल्द फिर शुरू करने का है. इस प्रोजेक्ट के सामने प्रकृति से जुड़ी अनेक चुनौतियां सामने आ खड़ी हुई हैं. उन्हें आधुनिक टेक्नोलॉजी के माध्यम से दूर करने का प्रयास किया जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज