बांग्लादेश के अखबार में PM मोदी ने लिखा लेख- क्या होता अगर शेख़ मुजीबुर रहमान नहीं मारे जाते...

पीएम मोदी का बांग्लादेश दौरा

पीएम मोदी का बांग्लादेश दौरा

PM Modi in Bangladesh: पीएम मोदी ने अपने लेख में लिखा है, 'जब हम बंगबंधु के जीवन और संघर्ष को देखते हैं, उससे बिल्कुल साफ हो जाता है कि इस महाद्वीप के सपने एक जैसे हैं. ....

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 26, 2021, 11:02 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली.  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिवसीय यात्रा पर शुक्रवार को बांग्लादेश  (PM Modi in Bangladesh) पहुंच गए हैं. बांग्लादेश की आजादी के 50 साल पूरे होने के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जश्न में शामिल होने के लिए वहां पहुंच रहे हैं. पीएम मोदी दोनों देशों के बीच सहयोग को आगे बढ़ाने के उद्देश्य से कई कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे. उन्होंने खुशी जताई कि कोविड-19 महामारी की शुरुआत के बाद उनका पहला विदेशी दौरा एक करीबी पड़ोसी देश में होगा, जिसके साथ भारत के गहरे संबंध हैं. इस खास दौरे से पहले उन्होंने बांग्लादेश के अखबार डेली स्टार में एक लेख लिखा है. इस लेख के जरिए उन्होंने शेख़ मुजीबुर रहमान को याद किया है.

पीएम मोदी ने लिखा है कि शेख़ मुजीबुर रहमान को भारत में भी बड़े सम्मान के साथ देखा जाता है और उनकी सोच को सराहा जाता है. यही कारण है कि आज इस जश्न के मौके पर भारत के लोग भी बांग्लादेश के साथ हैं. पीएम मोदी ने लिखा कि बंगबंधु की जिंदगी संघर्ष से भरी हुई थी. उन्होंने बांग्लादेश को एकजुट करने का काम किया.  पीएम ने लिखा है, 'बंगबंधु का जीवन संघर्ष की कहानी थी. उत्पीड़न और क्रूरता का सामना करते हुए, वे बेख़ौफ़ खड़े रहे'.



पीएम मोदी ने अपने लेख में लिखा है, 'जब हम बंगबंधु के जीवन और संघर्ष को देखते हैं, उससे बिल्कुल साफ हो जाता है कि इस महाद्वीप के सपने एक जैसे हैं. अगस्त 1975 में बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान और उनके परिवार के सदस्यों की निर्मम हत्या कर दी गई. उनके हत्यारे बांग्लादेश की आजादी नहीं चाहते थे. वे बंगबंधु के शांतिपूर्ण और सौहार्दपूर्ण उपमहाद्वीप के निर्माण के सपने को खत्म करना चाहते थे. बंगबंधु का जीवन संघर्षभरा रहा है. उत्पीड़न और क्रूरता का सामना करते हुए वह बेखौफ खड़े रहे. बंगमाता शेख फाजिलतुन्नेस उनकी ताकत थी."
ये भी पढ़ें:- कपड़े धोकर, नारियल तोड़ और डोसा बनाकर लुभाने का प्रयास कर रहे प्रत्याशी

पीएम मोदी ने लिखा कि अगर बांग्लादेश के संघर्ष को देखें, तो विचार किया जा सकता है कि अगर बंगबंधु की हत्या न की जाती तो आज उपमहाद्वीप किस तरह दिखता. पीएम ने लिखा, 'सभी उत्पीड़न के बावजूद और देश के लिए अपनी प्रतिबद्धता को ध्यान में रखते हुए भी बंगबंधु ने अपनी आत्मा की उदारता को बनाए रखा, जो कि एक सच्ची महानता का प्रतीक है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज