PM मोदी बोले- देश में 'ISRO Spirit', मिशन मून के 100 सेकेंड ने भारत को एक कर दिया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने कहा कि 7 अक्टूबर की रात 1:50 के बाद 100 सेकंड में घटी एक घटना से पूरा देश एकट्ठा हो गया. अब खिलाड़ियों की स्पिरिट की तरह पूरे देश में इसरो स्पिरिट दौड़ रहा है.

News18Hindi
Updated: September 9, 2019, 12:07 AM IST
PM मोदी बोले- देश में 'ISRO Spirit', मिशन मून के 100 सेकेंड ने भारत को एक कर दिया
पीएम ने कहा कि सफलता-असफलता के मायने को देश ने 100 सेकंड के भीतर-भीतर बदल दिया है.
News18Hindi
Updated: September 9, 2019, 12:07 AM IST
रोहतक. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने रविवार को चंद्रयान-2 (Chandrayan- 2) को लेकर बड़ा बयान दिया. पीएम मोदी ने कहा कि इसरो स्पिरिट (ISRO Spirit) ने पूरे देश को प्रभावित किया. पूरा देश चंद्रयान 2 मिशन के दौरान एक सूत्र में बंध गया है. जिसको देश की सफलता और विफलता के दायरे से ऊपर उठ कर देखना चाहिए.

प्रधानमंत्री मोदी हरियाणा के रोहतक में आगामी विधानसभा को देखते हुए पार्टी के प्रचार अभियान के दौरान विजय संकल्प रैली को संबोधित कर रहे थे. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि 7 अक्टूबर की रात 1:50 बजे के बाद 100 सेकंड में घटी एक घटना से पूरा देश एकट्ठा हो गया. अब खिलाड़ियों की स्पिरिट की तरह पूरे देश में इसरो स्पिरिट दौड़ रहा है.

मोदी ने कहा कि जब वह बेंगलुरू के इसरो सेंटर में विक्रम के लैंडिंग को देख रहे थे उन 100 सेकंड में देश के 125 करोड़ लोगों की भावना प्रदर्शित कर रहा था


सफलता-असफलता के मायने  100 सेकंड के भीतर बदल गए

पीएम मोदी ने कहा कि सफलता-असफलता के मायने को देश ने 100 सेकंड के भीतर-भीतर बदल दिया है. देशवासियों ने नेगेटिविटी को स्वीकार करने से इनकार कर दिया है. शनिवार को चंद्रयान-2 मिशन के चंद्रमा के धरातल पर साफ्ट लैंडिंग के आखिरी घंटों को याद करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि 1:50 बजेे के बाद पूरा देश टेलीविजन के सामने बैठ कर चंद्रयान 2 मिशन की सफलता देख रहा था.

125 करोड़ लोगों की भावना प्रदर्शित
पीएम मोदी ने कहा कि जब वह बेंगलुरु के इसरो सेंटर में विक्रम के लैंडिंग प्लान को देख रहे थे, उस 100 सेकंड में देश के 125 करोड़ लोगों की भावना को प्रदर्शित होता देख रहे थे. गौरतलब है कि चांद के धरातल पर विक्रम की साफ्ट लैंडिंग का भारतीय मिशन उस समय असफल हो गया जब विक्रम चांद के धरातल से मात्र 2.1 किलोमीटर दूर था और उसका जमीन स्थित सेंटर से संपर्क टूट गया.
Loading...

मोदी ने कहा कि जब वह बेंगलुरू के इसरो सेंटर में विक्रम के लैंडिंग प्लान को देख रहे थे, उस 100 सेकंड में देश के 125 करोड़ लोगों की भावना को प्रदर्शित होता देख रहे थे.


हालांकि रविवार को इसरो ने कहा कि संभवत: चंद्रमा के धरातल पर विक्रम की कठिन लैंडिंग हुई है. ऑर्बिटर से भेजे गए डेटा से चंद्रमा की धरातल पर विक्रम की पहचान कर लिया गया है. इसरो चीफ के. सिवन ने बताया कि चंद्रमा की सतह पर विक्रम लैंडर के सटीक लोकेशन का पता चल गया है. हालांकि फिलहाल उससे संपर्क स्थापित नहीं हो पाया है.

ये भी पढ़ें: 

करोड़ों साथियों के साथ मिल कर पूरा करेंगे जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के सपने : PM

अब JAXA के साथ मून मिशन की तैयारी में ISRO, ध्रुवीय क्षेत्र से लाएगा सैंपल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 8, 2019, 9:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...