'एक था टाइगर' से 'टाइगर जिंदा है' तक की कहानी...देश में बढ़ गए इतने बाघ

रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में बाघों की संख्या 2014 के 2226 के आंकड़े से बढ़कर 2018 में 2967 हो गई है.

भाषा
Updated: July 29, 2019, 9:49 PM IST
'एक था टाइगर' से 'टाइगर जिंदा है' तक की कहानी...देश में बढ़ गए इतने बाघ
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अखिल भारतीय बाघ अनुमान रिपोर्ट 2018 जारी की है.
भाषा
Updated: July 29, 2019, 9:49 PM IST
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को अखिल भारतीय बाघ अनुमान रिपोर्ट 2018 जारी करते हुए कहा कि नवीनतम सरकारी आंकड़ा दिखाता है कि देश में बाघों की संख्या में 33 प्रतिशत की वृद्धि हुई है.

मोदी ने रिपोर्ट जारी करते हुए अभिनेता सलमान खान अभिनीत दो फिल्मों के नामों का उल्लेख करते हुए कहा, ‘एक था टाइगर से टाइगर जिंदा है.’ जबकि रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में बाघों की संख्या 2014 के 2226 के आंकड़े से बढ़कर 2018 में 2967 हो गई है.

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘मैं इस क्षेत्र से जुड़े लोगों से कहना चाहूंगा कि जो कहानी ‘एक था टाइगर’ से शुरू हुई थी, वह ‘टाइगर जिंदा है’ तक पहुंच चुकी है और यह यहीं नहीं रुकनी चाहिए. इससे काम नहीं चलेगा. बाघ संरक्षण से जुड़े प्रयासों का और विस्तार होना चाहिए, उनकी गति और तेज होनी चाहिए.’

पीएम मोदी ने दी ये सलाह

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विकास बनाम पर्यावरण की चर्चा पर कहा कि दोनों के बीच एक संतुलन बनाना संभव है. पीएम मोदी ने बाघ संरक्षण अभियान से जुड़े सभी हितधारकों की प्रशंसा करते हुए कहा कि करीब 3000 बाघों के साथ भारत उनके लिए विश्व में सबसे बड़े और सुरक्षित पर्यावासों में से एक के तौर पर उभरा है.

उन्होंने कहा, ‘नौ वर्ष पहले सेंट पीटर्सबर्ग (रूस) में बाघों की संख्या 2022 तक दोगुनी करने का लक्ष्य तय हुआ था. भारत में हमने इस लक्ष्य को चार वर्ष पहले ही हासिल कर लिया. यही संकल्प से सिद्धि का शानदार उदाहरण है.’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विकास बनाम पर्यावरण की चर्चा पर कहा कि दोनों के बीच एक संतुलन बनाना संभव है.

Loading...

वनक्षेत्र का दायरा भी बढ़ा
साथ ही मोदी ने कहा कि बीते पांच वर्षों में मुख्य जोर देश में अगली पीढ़ी का आधारभूत ढांचा विकसित करने पर था, लेकिन भारत में वनक्षेत्र का दायरा भी बढ़ा है. देश में संरक्षित क्षेत्रों की संख्या में भी वृद्धि हुई है.

2014 में भारत में संरक्षित क्षेत्रों की संख्या 692 थी जो 2019 में बढ़कर 860 से ज्यादा हो गई है. साथ ही सामुदायिक संरक्षित क्षेत्रों की संख्या भी साल 2014 में 43 थी जो अब बढ़कर सौ से ज्यादा हो गई है.


भारत करेगा ये खास  काम
प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत अपने लोगों के लिए और मकानों का निर्माण करेगा तथा साथ ही जानवरों के लिए गुणवत्तापूर्ण प्रर्यावास भी निर्मित करेगा. उन्‍होंने बाघों के संरक्षण के प्रयास जारी रखने की जरूरत पर जोर देने के लिए बॉलीवुड के एक लोकप्रिय गीत का इस्तेमाल किया.

पीएम ने कहा, ‘बॉलीवुड का एक लोकप्रिय गीत है ‘बागों में बहार है. अब यह बाघों में हो सकता है.’


2006 में थे इतने बाघ
बाघ अनुमान रिपोर्ट के अनुसार, देश में बाघों की संख्या 2006 में 1411 थी. इसमें कहा गया है कि बाघों की संख्या देशभर में बढ़ी है, लेकिन बाघों की संख्या छत्तीसगढ़ और आंध्र प्रदेश में कम हुई है. इसे रिपोर्ट में ‘एक चिंता का विषय’ बताया गया है.

आपको बता दें कि रिपोर्ट राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (एनटीसीए) ने भारतीय वन्यजीव संस्थान (डब्ल्यूआईआई) के साथ मिलकर तैयार की है. एनटीसीए पर्यावरण मंत्रालय के तहत एक वैधानिक निकाय है. रिपोर्ट में बाघों के चिह्नों और शिकार अनुमानों के सर्वेक्षण के लिए 3,81,400 वर्ग किलोमीटर वनक्षेत्र को कवर किया गया. यही नहीं, 121,337 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में 141 स्थलों पर करीब 27000 कैमरा ट्रैप लगाये गए और करीब 3.48 करोड़ तस्वीरें ली गईं. कुल तस्वीरों में से करीब 77000 बाघों की थीं.

छत्तीसगढ़ और आंध्र प्रदेश में हुआ ये हाल
छत्तीसगढ़ में बाघों की संख्या 2014 में 46 के आंकड़े से घटकर 2018 में 19 हो गई. इसी तरह से आंध्र प्रदेश में बाघों की संख्या 2014 में 68 के आंकड़े से घटकर 2018 में 48 हो गई.

मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र ने मारी बाजी
मध्य प्रदेश में बाघों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है और यह 2014 में 308 के आंकड़े से 2018 में बढ़कर 526 हो गयी. वहीं, महाराष्ट्र में यह 2014 में 190 के आंकड़े से बढ़कर 2018 में 312 हो गयी. जबकि सरकार के एक अधिकारी ने इससे पहले कहा था कि बहुप्रतीक्षित बाघ गणना रिपोर्ट इस वर्ष मई में जारी होनी थी, लेकिन गहन तरीके इस्तेमाल किए जाने और आंकड़ों का विश्लेषण करने में समय लगने के चलते इसमें देरी हो गई. रिपोर्ट के अनुसार वन अधिकारियों ने भी बाघों के चिह्नों के लिए 5,22,996 किलोमीटर का दायरा कवर किया और पैदल ही सर्वेक्षण किया तथा 3,17,958 पर्यावास स्थलों के नमूने लिए.

ये भी पढ़ें-उन्नाव रेप पीड़िता एक्सीडेंट: प्रियंका गांधी ने यूपी के नेताओं को दिया ये आदेश

सरकार ने पोंजी स्‍कीमों को बैन करने वाले विधयेक को दी मंजूरी, पुलिस को मिली ये बड़ी ताकत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 29, 2019, 9:44 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...