लाइव टीवी

इमरजेंसी के नायक लोकनायक को भूले नहीं पीएम मोदी और उनके मंत्री

अमिताभ सिन्हा | News18Hindi
Updated: October 11, 2019, 10:32 PM IST
इमरजेंसी के नायक लोकनायक को भूले नहीं पीएम मोदी और उनके मंत्री
जेपी के अनुयायी आज हर पार्टी में हैं.

सरकार बनने के बाद पहली बार जेपी की वर्षगांठ के मौके पर ही पीएम ने अपनी महत्वाकांक्षी सांसद आदर्श ग्राम योजना लागू की थी, जिसके तहत सांसदों को गांव गोद लेकर उन्हे विकास का मॉडल बनाने की बात कही गई थी. ये बात और है कि ये योजना सफल नहीं हो पाई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 11, 2019, 10:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: देश में आपातकाल घोषित हुए 4 दशकों से ज्यादा हो चुके हैं. पीएम मोदी ने हर बार की तरह इमरजेंसी के खिलाफ लड़ने वाले लोकनायक जयप्रकाश नारायण की वर्षगांठ के मौके पर उन्हें श्रद्धांजली दी. पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, “मां भारती के सच्चे सपूत लोकनायक जयप्रकाश नारायण को उनकी जन्म-जयंती पर विनम्र श्रद्धांजलि. उन्होंने स्वतंत्रता संघर्ष में अपना बहुमूल्य योगदान तो दिया ही, आजादी के बाद लोकतंत्र की रक्षा में भी अतुलनीय भूमिका निभाई. उनका त्याग और समर्पण हम सबके लिए सदा प्रेरणास्रोत रहेगा.''

बता दें कि सरकार बनने के बाद पहली बार जेपी की वर्षगांठ के मौके पर ही पीएम ने अपनी महत्वाकांक्षी सांसद आदर्श ग्राम योजना लागू की थी, जिसके तहत सांसदों को गांव गोद लेकर उन्हे विकास का मॉडल बनाने की बात कही गई थी. ये बात और है कि ये योजना सफल नहीं हो पाई थी.



जेपी और आपातकाल के बाद की राजनीति में कई बदलाव हो चुके हैं. जेपी के अनुयायी कई पार्टियों में हैं. प्रधानमंत्री मोदी के मंत्रिमंडल में भी लोकनायक जयप्रकाश नारायण के अनुयायी हैं. पहला नाम है कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद का. मंत्रालय हो या उनका घर, अंदर घुसते ही जेपी की ब्लैक एंड वाइट तस्वीर पृष्ठभूमि में नजर आती है. रविशंकर प्रसाद बतौर छात्र इमरजेंसी के खिलाफ जम कर लड़े थे. इसलिए अपने इमरजेंसी के दिनों को कभी नहीं भूलते और खासकर अपने शहर पटना में जयप्रकाश नारायण से उनकी मुलाकातों की यादो से जुडे किस्से भी वो बात बात में याद करते हैं.
Loading...

इसी कड़ी में एक और कैबिनेट मंत्री हैं, जो अपने सरकारी कार्यालय में जेपी की तस्वीर लगाना नहीं भूले. ये हैं यूपी के चंदौली से सांसद और केन्द्रीय कौशल विकास मंत्री महेन्द्र नाथ पांडे. बीजेपी और संघ से जुड़े पुराने नेता हैं. कमरे में लगी जेपी की तस्वीर पर कहते हैं कि आपातकाल के दौर में बीएचयू से जब छात्र राजनीति शुरू की, तब से वह जयप्रकाश नारायण के अनुयायी रहे हैं.



इसी कड़ी में केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह भी हैं. लोकनायक जयप्रकाश नारायण और नानाजी देशमुख की जन्मतिथि के अवसर पर मेंरठ से दिल्ली तक की एक यात्रा शुरु की, जिसका मकसद है प्रभावी जनसंख्या नियंत्रणकानून लागू कराना. आपातकाल एक ऐसी कड़ी है, जो कांग्रेस को न निगलते बनती है और ना ही उगलते. बीजेपी जनता को इसे भूलने भी नहीं दे रही है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 11, 2019, 9:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...