लाइव टीवी

प्रधानमंत्री का आवास, कार्यालय साउथ ब्लॉक के पास जाएंगे: सूत्र

भाषा
Updated: January 16, 2020, 5:51 AM IST
प्रधानमंत्री का आवास, कार्यालय साउथ ब्लॉक के पास जाएंगे: सूत्र
सूत्रों के मुताबिक प्रधानमंत्री आवास और कार्यालय के साउथ ब्लॉक के पास जाने की खबर है (फाइल फोटो, संसद भवन, Reuters)

सूत्रों ने बताया कि लुटियंस (Lutyens) में जिन भवनों को गिराने के लिए चिह्नित किया गया है उनमें उपराष्ट्रपति का आवास भवन (Vice President's House) भी शामिल है.

  • Share this:
नई दिल्ली. केन्द्र सरकार (Central Government) द्वारा उसकी महत्वाकांक्षी योजना सेन्ट्रल विस्ता (Central vista) का जो ब्लू प्रिंट (Blue Print) तैयार किया गया है, उसके अनुसार प्रधानमंत्री का आवास (PM House) और कार्यालय (PM Office) साउथ ब्लॉक (South Block) के पास जबकि उपराष्ट्रपति का नया आवास नॉर्थ ब्लॉक (North Block) के पास होगा.

सूत्रों ने बताया कि लुटियंस (Lutyens) में जिन भवनों को गिराने के लिए चिह्नित किया गया है उनमें उपराष्ट्रपति का आवास भवन (Vice President's House) भी शामिल है.

मौजूदा संसद भवन के आगे संसद के लिए बनेगी तिकोनी इमारत
सेन्ट्रल विस्ता के पुन:विकास योजना के तहत मौजूदा संसद भवन (Parliament House) के आगे संसद के लिए एक तिकोनी नयी इमारत बनेगी, एक साझा केन्द्रीय सचिवालय (Central Secretariat) होगा और राष्ट्रपति भवन (Rashtrapati Bhavan) से इंडिया गेट (India Gate) तक तीन किलोमीटर लंबे राजपथ का जीर्णोंद्धार होगा.

एक सूत्र ने बताया, ‘‘उपराष्ट्रपति (Vice President) और प्रधानमंत्री (Prime Minister) के आवासों को क्रमश: नॉर्थ ब्लॉक और साउथ ब्लॉक के पास स्थानांतरित करने की योजना है. इससे क्षेत्र में यातायात भी सामान्य होगा क्योंकि लुटियंस में वीआईपी (VIP) आवाजाही के कारण लोगों को अक्सर दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.

पीएम आवास और कार्यालय होंगे आस-पास ताकि पीएम पैदल आ सकें कार्यालय
उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री का आवास और कार्यालय पास-पास होंगे ताकि प्रधानमंत्री घर से पैदल कार्यालय आ सकें.’’ सूत्रों ने बताया कि नॉर्थ ब्लॉक और साउथ ब्लॉक को संग्रहालय (Museum) बनाने की कोई योजना नहीं है.योजना के मुताबिक, संसद के नए भवन में 900 से 1,200 सांसदों के बैठने की जगह होगी, उसमें टेबल पर कंप्यूटर जैसी आधुनिक तकनीक (Modern Technology), बैठक की आरामदेह व्यवस्था और केन्द्रीय मंत्रियों तथा सांसदों के कार्यालय होंगे.

सूत्र ने कहा, ‘‘पुन:विकास परियोजना के एक बार पूरे होने के बाद सरकार के पास सेन्ट्रल विस्ता को रिज से यमुना नदी (Yamuna River) तक विस्तार देने की योजना होगी.’’

यह भी पढ़ें: NPR के लिए दस्तावेज या बायोमेट्रिक जानकारी देने की जरूरत नहीं: गृह मंत्रालय

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 16, 2020, 5:51 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर