Home /News /nation /

मन की बात में पीएम मोदी बोले- गांव, किसान और कृषि क्षेत्र हैं 'आत्मनिर्भर भारत' के आधार

मन की बात में पीएम मोदी बोले- गांव, किसान और कृषि क्षेत्र हैं 'आत्मनिर्भर भारत' के आधार

प्रधानमंत्री मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में देश के किसानों को संबोधित किया.

प्रधानमंत्री मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में देश के किसानों को संबोधित किया.

प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) ने हरियाणा, महाराष्ट्र और गुजरात के कुछ सफल किसानों (Successful farmers) तथा किसान समूहों का जिक्र करते हुए कहा कि बीते कुछ समय में कृषि क्षेत्र (agricultural sector) ने खुद को अनेक बंदिशों से आजाद किया है. और अनेक मिथकों को तोड़ने का प्रयास किया है.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने रविवार को कहा कि गांव, किसान और देश का कृषि क्षेत्र ‘आत्मनिर्भर भारत’ (Self-reliant India) के आधार हैं, तथा ये जितने मजबूत होंगे, ‘आत्मनिर्भर भारत’ की नींव भी उतनी ही मजबूत होगी. आकाशवाणी पर मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ (Mann ki baat ) की 69वीं कड़ी में अपने विचार व्यक्त करते हुए मोदी ने कहा कि, कोरोना वायरस संक्रमण के कठिन दौर में कृषि क्षेत्र और देश के किसानों ने फिर अपना दमखम दिखाया.

    उन्होंने कहा, ‘हमारे यहां कहा जाता है कि, जो जमीन से जितना जुड़ा होता है, वह बड़े से बड़े तूफानों में भी उतना ही अधिक रहता है. कोरोना के इस कठिन समय में हमारा कृषि क्षेत्र, हमारा किसान इसका जीवंत उदाहरण है. संकट के इस काल में भी हमारे देश के कृषि क्षेत्र ने फिर अपना दमखम दिखाया है.’ प्रधानमंत्री ने कहा, ‘देश का कृषि क्षेत्र, हमारे किसान, हमारे गांव आत्मनिर्भर भारत का आधार हैं. ये मजबूत होंगे तो आत्मनिर्भर भारत की नींव मजबूत होगी.’

    मोदी ने हरियाणा, महाराष्ट्र और गुजरात के कुछ सफल किसानों तथा किसान समूहों का जिक्र करते हुए कहा कि, बीते कुछ समय में कृषि क्षेत्र ने खुद को अनेक बंदिशों से आजाद किया है. और अनेक मिथकों को तोड़ने का प्रयास किया है. हरियाणा के सोनीपत जिले के किसान कंवर चौहान की कहानी बताते हुए मोदी ने कहा कि, एक समय था जब उन्हें मंडी से बाहर अपने फल और सब्जियां बेचने में बहुत दिक्कत आती थी. उन्होंने कहा कि, वर्ष 2014 में फल और सब्जियों को जब एपीएमसी कानून से बाहर कर दिया गया, तो इसका उन्हें और अन्य किसानों को फायदा हुआ.

    मोदी ने कहा, ‘आज वह स्वीट कॉर्न और बेबी कार्न की खेती कर रहे हैं. इससे उनकी सालाना कमाई ढाई से तीन लाख रुपये प्रति एकड़ है.’ प्रधानमंत्री ने कुछ अन्य किसानों की कहानी सुनाते हुए कहा कि इन किसानों के पास अपने फल व सब्जियों को कहीं पर भी, किसी को भी बेचने की ताकत है और यह ताकत ही उनकी इस प्रगति का आधार है. उन्होंने कहा, ‘अब यही ताकत देश के दूसरे किसानों को भी मिली है. फल व सब्जियों के लिए ही नहीं, अपने खेत में वह जो पैदा कर रहे हैं, वह चाहे धान, गेहूं, सरसों, गन्ना जो उगा रहे हैं, उसको अपनी इच्छा के अनुसार जहां ज्यादा दाम मिलें, वहीं पर बेचने की अब उनको आजादी मिल गई है.’

    वहीं कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी दलों के भारी विरोध के बावजूद हाल में कृषि विधेयक आवश्यक वस्तु (संशोधन) विधेयक 2020, कृषक उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सरलीकरण) विधेयक 2020 तथा कृषक (सशक्तीकरण और संरक्षण) कीमत आश्वासन एवं कृषि सेवा पर करार विधेयक 2020 को संसद से पारित कर दिया गया था. देशभर के कई हिस्सों खासकर पंजाब और हरियाणा के किसान और संगठन इन विधेयकों को किसान विरोधी बताकर प्रदर्शन कर रहे हैं.

    Tags: Farmer, Mann Ki Baat, New Agriculture Law, PM Modi

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर