PM मोदी का एक और बड़ा फैसला, 1 लाख ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर की खरीद को मंजूरी

पीएम मोदी ने इस खरीद को मंजूरी दी है. (फाइल फोटो)

पीएम मोदी ने इस खरीद को मंजूरी दी है. (फाइल फोटो)

सरकार ने पीएम केयर्स फंड (PM Cares Fund) से एक लाख पोर्टेबल ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर (Portable Oxygen Concentrators) की खरीद को मंजूरी दी है. ये फैसला पीएम मोदी की अध्यक्षता वाली एक हाई लेवल मीटिंग में किया गया है. पीएम ने साफ निर्देश दिए हैं कि खरीद प्रक्रिया जल्द पूरी कर सर्वाधिक प्रभावित राज्यों को ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर्स मुहैया कर जाएं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 28, 2021, 10:11 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में ऑक्सीजन संकट (Oxygen Crisis) को दूर करने के लिए केंद्र की मोदी सरकार (Modi Government) ने एक और बड़ा फैसला किया है. सरकार ने पीएम केयर्स फंड (PM Cares Fund) से एक लाख पोर्टेबल ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर (Portable Oxygen Concentrators) की खरीद को मंजूरी दी है. ये फैसला पीएम मोदी की अध्यक्षता वाली एक हाई लेवल मीटिंग में किया गया है. पीएम ने साफ निर्देश दिए हैं कि खरीद प्रक्रिया जल्द पूरी कर सर्वाधिक प्रभावित राज्यों को ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर्स मुहैया कर जाएं.

इस बीच डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन (DRDO) ने कहा है कि वो 500 मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट लगाएगा. इसके लिए भी धन राशि पीएम केयर्स फंड से दी गई है. DRDO द्वारा LCA, तेजस में ऑन बोर्ड ऑक्सीजन जनरेशन के लिए विकसित की गई मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट (एमओपी) तकनीक अब कोविड​​-19 रोगियों के लिए ऑक्सीजन से जुड़े वर्तमान संकट से लड़ने में मदद करेगी.

Youtube Video


सबसे ज्यादा दिक्कत ऑक्सीजन सप्लाई और रेमडिसिविर इंजेक्शन को लेकर हुई
बता दें देश मे एकाएक बढ़े कोरोना मरीजों की संख्या के कारण सबसे ज्यादा दिक्कत ऑक्सीजन सप्लाई और रेमडिसिविर इंजेक्शन को लेकर हुई है. माना जा रहा है कि 500 ऑक्सीजन प्लांट के जरिए देश के टियर-2 शहरों में ऑक्सीजन की किल्लत का स्थाई समाधान होगा.

विशेष ट्रेनों का इस्तेमाल कर पहुंचाई जा रही ऑक्सीजन

कई राज्यों में ऑक्सीजन की कमी की वजह से कोरोना मरीज जूझते देखे जा रहे हैं. ऑक्सीजन सप्लाई के विशेष ट्रेनों का इस्तेमाल किया जा रहा है लेकिन इतनी बड़ी संख्या में मामले सामने आने की वजह से कमी बनी हुई है. वायुसेना भी अपने विशेष विमानों के जरिए देश के विभिन्न हिस्सों में ऑक्सीजन पहुंचाने का काम कर रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज