क्‍या देश में फिर से लगेगा लॉकडाउन? जानिये PM मोदी का जवाब

क्‍या देश में फिर से लगेगा लॉकडाउन? जानिये PM मोदी का जवाब
पीएम मोदी ने लॉकडाउन को लेकर दिया स्‍पष्‍टीकरण.

देश में बुधवार शाम तक कोरोना वायरस (Covid 19) के कुल मामलों की संख्‍या 3.54 लाख से अधिक हो गई है. इसके साथ ही देश में अब तक 11903 लोगों की जान जा चुकी है.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. देश में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी जारी है. स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के अनुसार देश में बुधवार शाम तक कोरोना वायरस (Covid-19) के कुल मामलों की संख्‍या 3.54 लाख से अधिक हो गई है. इसके साथ ही देश में अब तक 11903 लोगों की जान जा चुकी है. बढ़ रहे कोरोना केस (Covid-19 in India) के बीच सरकार की ओर से लॉकडाउन (Lockdown) फिर से लगाए जाने के संबंध में कई तरह की चर्चाएं चल रही हैं. इस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने बुधवार को मुख्‍यमंत्रियों से बातचीत के दौरान स्थिति स्‍पष्‍ट की है.

बुधवार को पीएम मोदी ने कोविड 19 महामारी को लेकर 15 राज्‍यों के मुख्‍यमंत्रियों से चर्चा की. इस दौरान तेलंगाना के मुख्‍यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने लॉकडाउन फिर लगाए जाने की इन चर्चाओं का हवाला देते हुए पीएम मोदी से स्‍पष्‍टीकरण मांगा कि देश में क्या लॉकडाउन फिर लगाया जाएगा. तेलंगाना के मुख्‍यमंत्री कार्यालय के अनुसार इस पर पीएम मोदी ने स्‍पष्‍टीकरण दिया कि अब लॉकडाउन नहीं है. देश अब अनलॉकिंग (खुलने) के चरण में है.

बता दें कि मुख्‍यमंत्रियों से बातवीत के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना वायरस संक्रमण (Covid-19 in India) के मामलों को देखते हुए बुनियादी स्‍वास्‍थ्‍य सेवाएं बढ़ाना हमारी सर्वोच्‍च प्राथमिकता होनी चाहिए. उन्‍होंने कहा, 'ऐसा तभी होगा जब प्रत्‍येक कोरोना वायरस संक्रमण के मरीज को बेहतर इलाज मिलेगा. इसके लिए हमें कोविड 19 टेस्‍ट बढ़ाने होंगे जिससे कि संक्रमित लोगों की पहचान की जा सके.'



पीएम मोदी ने कहा, 'तीन महीने पहले पूरे विश्‍व में पीपीई किट और टेस्टिंग किट की किल्‍लत थी. भारत के साथ भी ऐसा ही था, क्‍योंकि हम इनके लिए आयात पर निर्भर थे. लेकिन मौजूदा समय में राज्‍यों के पास 1 करोड़ पीपीई किट और 1 करोड़ एन 95 मास्‍क पहुंच चुके हैं.'
पीएम मोदी ने कहा कि देश में कोरोना से ठीक हो रहे लोगों की संख्‍या कोरोना के मरीजों से अधिक है. देश में मौजूदा समय में वेंटिलेटर और आईसीयू की जरूरत कुछ मरीजों को ही है. हमने समय पर निर्णायक कदम उठाए इसलिए हम कोरोना से जंग लड़ पाने और इसके प्रसार को रोकने में सक्षम हैं.

यह भी पढ़ें:
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज