PM मोदी ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को किया फोन, आपसी सहयोग पर बनी सहमति

PM मोदी ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को किया फोन, आपसी सहयोग पर बनी सहमति
पीएम मोदी ने राष्ट्रपति पुतिन से फोन पर बात की. (File Photo)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Russian President Vladimir Putin) को द्वितीय विश्व युद्ध (Second World War) में जीत की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर आयोजित समारोह की सफलता और रूस (Russia) में संवैधानिक संशोधनों पर वोट के सफल समापन के लिए बधाई दी.

  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Russian President Vladimir Putin) से गुरुवार को टेलीफोन पर बातचीत की. पीएम मोदी ने पुतिन को द्वितीय विश्व युद्ध (Second World War) में जीत की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर आयोजित समारोह की सफलता और रूस (Russia) में संवैधानिक संशोधनों पर वोट के सफल समापन के लिए बधाई दी. प्रधानमंत्री ने 24 जून 2020 को मास्को (Moscow) में आयोजित सैन्य परेड में एक भारतीय टुकड़ी की भागीदारी को भारत और रूस के लोगों के बीच दोस्ती का प्रतीक होने के रूप में याद किया.

दोनों नेताओं ने कोविड -19 वैश्विक महामारी (Covid-19 Global Pandemic) के नकारात्मक परिणामों को दूर करने के लिए दोनों देशों द्वारा किए गए प्रभावी उपायों पर बातचीत की. दोनों ने कोरोना वायरस के बाद दुनिया में आने वाली चुनौतियों से संयुक्त रूप से निपटने के लिए भारत-रूस संबंधों के महत्व पर सहमति जताई. मोदी और पुतिन द्विपक्षीय संपर्क और परामर्श की गति बनाए रखने के लिए सहमत हुए, जिससे इस वर्ष के अंत में भारत में होने वाले वार्षिक द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन (Bilateral Summit) का आयोजन किया जा सके. प्रधानमंत्री ने द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन के लिए भारत में राष्ट्रपति पुतिन का स्वागत करने के लिए अपनी उत्सुकता व्यक्त की.





ये भी पढ़ें :- लद्दाख झड़प पर बोले रविशंकर- अगर हमने 20 जवान खोए, तो चीन के दोगुने मारे
पुतिन ने किया मोदी का शुक्रिया
राष्ट्रपति पुतिन ने फोन कॉल के लिए प्रधानमंत्री को धन्यवाद दिया और सभी क्षेत्रों में दोनों देशों के बीच विशेष और विशेषाधिकार प्राप्त सामरिक साझेदारी को और मजबूत करने की अपनी प्रतिबद्धता को दोहराया.

ऐसा हुआ तो 2036 तक रूस के राष्ट्रपति रहेंगे पुतिन
बता दें द्वितीय विश्व युद्ध (Second World War) में जीत की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर रूस में आयोजिस कार्यक्रम में भारत की ओर से रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शिरकत की थी. इस समारोह में भारत की एक सैन्य टुकड़ी ने भी परेड में हिस्सा लिया था. वहीं रूस में बीते एक हफ्ते से संविधान में संशोधन के लिए मतदान भी हुए है. इसके अंतिम नतीजों का फिलहाल इंतजार है. रूस में यदि ये संविधान संशोधन हो जाता है तो व्लादिमीर पुतिन 2036 तक राष्ट्रपति बने रहेंगे. लेकिन यदि पुतिन इस जनमत संग्रह में हार जाते हैं तो 2024 में उनका कार्यकाल खत्म हो जाएगा और वह फिर से चुनाव नहीं लड़ पाएंगे. बता दें रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन 2000 में सत्ता में आए थे और इसके बाद से ही वह रूस के राष्ट्रपति बने हुए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading