आज नहीं अब 15 फरवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिखाएंगे वंदेभारत एक्‍सप्रेस को हरी झंडी

भारतीय रेल में गेम-चेंजर की तरह देखी जाने वाली इस ट्रेन में 2 एग्जीक्यूटिव और 14 नॉन-एग्जीक्यूटिव क्लास को मिलाकर कुल 16 डिब्बे हैं, जिनमें 128 लोग बैठ सकते हैं.

Anil Rai | News18Hindi
Updated: February 7, 2019, 11:39 AM IST
आज नहीं अब 15 फरवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिखाएंगे वंदेभारत एक्‍सप्रेस को हरी झंडी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वंदेभारत एक्‍सप्रेस को 15 फरवरी को दिखाएंगे हरी झंडी
Anil Rai
Anil Rai | News18Hindi
Updated: February 7, 2019, 11:39 AM IST
रेल मंत्रालय ने ट्रेन18 के चलने की तारीख का ऐलान कर दिया है. अब ये ट्रेन 15 फरवरी से चलेगी. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ट्रेन को नई दिल्ली स्टेशन से हरी झंडी दिखाएंंगे. रेल मंत्रालय की प्रवक्ता स्मित वत्स ने न्यूज़18 तो बाताया कि ट्रेन चलाने की सभी तैयारियां पूरी कर लगी गई हैं और प्रधानमंत्री कार्यालय ने प्रधानमंत्री का कार्यक्रम भी कन्फर्म कर दिया है.

रेल मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार रेल मंत्रालय ने ट्रेन18 के संचालन से संबंधित सभी तैयारियां जनवरी के अंतिम सप्ताह में ही पूरी कर ली थीं और प्रधानमंत्री कार्यालय से प्रधानमंत्री के समय के लिए पत्र लिखा था लेकिन बजट सत्र और लगातार रैलियों के होते रहने से प्रधानमंत्री का समय नहीं मिल पा रहा था. इससे पहले ये खबरें आ रही थीं कि प्रधानमंत्री इस ट्रेन से यात्रा करेंगे और कई रेलवे स्टेशनों पर सभाओं को भी संबोधित करेंगे लेकिन रेलवे सूत्रों ने इस जनसभाओं का खंडन किया है. आपको बता दें कि रेलमंत्री पीयूष गोलय ने ट्रेन18 का नाम वंदेभारत ऐक्सप्रेस करने का ऐलान किया था.



भारतीय रेल में गेम-चेंजर की तरह देखी जाने वाली इस ट्रेन में 2 एग्जीक्यूटिव और 14 नॉन-एग्जीक्यूटिव क्लास को मिलाकर कुल 16 डिब्बे हैं, जिनमें 128 लोग बैठ सकते हैं. ट्रेन की खिड़की भी इस तरह से बनाई गई है कि सफर के दौरान यात्रा आराम से बाहर देख सकें. चौड़ी-चौड़ी खिड़कियों में बीच में किसी भी तरह का पार्टिशन नहीं है और बाहर का दृश्य देखा जा सकता है. सीटें इस तरह से डिजाइन की गई हैं कि वे 360 डिग्री पर घूम सकती हैं. ट्रेन में यात्रियों को अधिकतम सुविधा देने के लिए हर डिब्बे में वाई-फाई रहेगा. साथ ही एडवांस पैसेंजर इंफॉर्मेशन सिस्टम रहेगा ताकि यात्री रीयल टाइम एक्सेस कर सकें. यात्रा के दौरान पढ़ने-लिखने का आनंद लिया जा सके, इसके लिए खास रीडिंग लाइट्स लगाई गई है तो सोने वालों की नींद में खलल न पड़े, इसके लिए डिफ्यूजिंग लाइट भी है. टी18 में दिव्यांगों और बड़ी उम्र के लोगों के लिए खास व्यवस्था है.

इसे भी पढ़ें :- मोदी सरकार के लिए खुशखबरी! दूसरे देशों ने दिखाई Train 18 को खरीदने में दिलचस्पी

अभी तक चल रही ट्रेनों में चलने-फिरने से लाचार लोगों को चढ़ने-उतरने में काफी तकलीफ का सामना करना पड़ा था. नई ट्रेन में व्हील चेयर का इस्तेमाल किया जा सकता है. अगर यात्रा चाहे तो व्हील चेयर समेत ही बैठ सकने की भी व्यवस्था है. चलती हुई ट्रेन में चढ़ने या उससे उतरने में होने वाली दुर्घटनाओं को भी दरकिनार नहीं किया गया है. ट्रेन के दरवाजे टच-सेंसिटिव होंगे और तभी खुलेंगे, जब ट्रेन पूरी तरह से रुक जाए. इसी तरह से ट्रेन चलना भी तभी शुरू करेगी जब ट्रेन के दरवाजे पूरी तरह से बंद हो जाएं.

Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...