लाइव टीवी

800 KG की इस भगवद्गीता का 4 लोग मिलकर पलटते हैं पन्ना, PM आज करेंगे अनावरण

News18Hindi
Updated: February 26, 2019, 2:56 AM IST
800 KG की इस भगवद्गीता का 4 लोग मिलकर पलटते हैं पन्ना, PM आज करेंगे अनावरण
प्रतीकात्मक तस्वीर

इसे तैयार करने में सिंथेटिक कागज, सोना, चांदी और प्लेटिनम जैसे धातुओं का भी इस्तेमाल किया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 26, 2019, 2:56 AM IST
  • Share this:
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को दिल्ली के इस्कॉन टैंपल में विशाल 800 किलोमग्राम की भगवद्गीता का अनावरण करेंगे. यह विशाल भगवद्गीता 670 पन्नों की है और इसकी लंबाई 2.8 मीटर और चौड़ाई 2 मीटर है. इस धार्मिक पुस्तक के बारे में ऐसा कहा जा रहा है कि इसके हर पन्ने को पलटने के लिए चार लोगों की जरुरत पड़ती है.

प्रधानमंत्री कार्यालय ने इस बात की पुष्टि की है कि वे मंगलवार को इस कार्यक्रम में शामिल होंगे. इस्कॉन मंदिर के अनुसार इस भगवद्गीता को 'एस्टाउंडिंग भगवद् गीता' नाम दिया गया है. इंटरनेशनल सोसाइटी फॉर कृष्णा कॉन्शियसनेस (इस्कॉन) के देश विदेश में 400 से ज्यादा मंदिर हैं. यह धार्मिक संस्था 100 से ज्यादा शाकाहारी रेस्त्रा चलाती है.

कुरु क्षेत्र की युद्धभूमि में भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को जो उपदेश दिया था वह श्रीमद्भगवदगीता के नाम से जाना जाता है. गीता हिंदुओं के लिए बेहद ही पवित्र ग्रंथ है और अब इसका बेहद ही स्पेशल अवतार दिल्ली के इस्कॉन मंदिर में मंगलवार से देखने को मिलेगा.

रोजगार से लेकर भ्रष्टाचार और विपक्ष पर वारः राइजिंग इंडिया में PM मोदी के भाषण की खास बातें

दरअसल ये गीता इसलिए बेहद स्पेशल है क्योंकि ये दुनिया की सबसे ज्यादा वजन वाली गीता है, जिसे इटली में बनाया गया है. 12 फीट लंबी और 9 फीट चौड़ी किताब में 670 पेज हैं और इसका वजन 800 किलो है. इसे तैयार करने में सिंथेटिक कागज, सोना, चांदी और प्लेटिनम जैसे धातुओं का भी इस्तेमाल किया गया है.

PM मोदी ने बताया देश में बढ़ रही हैं नौकरियां, दिए ये 10 उदाहरण

इस श्रीमद्भगवदगीता को 11 नवंबर 2018 को इटली में प्रदर्शित किया गया था. गीता को इटली के मिलान शहर से समुद्री मार्ग द्वारा गुजरात के मुंद्रा लाया गया है और भगवद् गीता को इस्कॉन मंदिर की संस्था ने बनवाया है. इसे छपवाने में संस्था को करीब ढाई साल का समय लगा है. जिसे बनवाने में डेढ़ करोड़ रुपये खर्च हुए हैं. इस्कॉन संस्था की ओर से बताया गया कि इस्कॉन के संस्थापक आचार्य श्रीमद् एसी भक्ति वेदांत स्वामी श्रील प्रभुपाद ने इसे बनवाया है. इसे गीता प्रचार के 50 साल पूरे करने के उपलक्ष्य में बनवाया गया है.एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 26, 2019, 2:56 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर