लाइव टीवी

BRICS Summit: आर्थिक विकास, आतंकवाद और राष्‍ट्रीय संप्रभुता जैसे मुद्दे उठाएंगे पीएम मोदी

News18Hindi
Updated: November 12, 2019, 8:32 PM IST
BRICS Summit: आर्थिक विकास, आतंकवाद और राष्‍ट्रीय संप्रभुता जैसे मुद्दे उठाएंगे पीएम मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ भारत से उद्योगपतियों का एक बड़ा प्रतिनिधिमंडल भी ब्राजील में मौजूद रहेगा. यह प्रतिनिधिमंडल ब्रिक्स बिजनेस फोरम में शिरकत करेगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ब्राजील में ब्रिक्‍स शिखर सम्‍मेलन (BRICS Summit) के दौरान रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) से अलग-अलग द्विपक्षीय बातचीत करेंगे. पीएम मोदी ब्रिक्स बिजनेस फोरम के मुख्य सत्र और समापन समारोह में भी हिस्सा लेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2019, 8:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) 11वें ब्रिक्‍स सम्‍मेलन (BRICS Summit) में शामिल होने के लिए आज दोपहर ब्राजील (Brazil) रवाना हो चुके हैं. वह छठी बार ब्रिक्‍स शिखर सम्‍मेलन में शामिल हो रहे हैं. पहली बार उन्‍होंने 2014 में ब्राजील के फोर्टालेजा (Fortaleza) में हुए शिखर सम्‍मेलन में शिरकत की थी. इस बार शिखर सम्‍मेलन का विषय 'अभिनव भविष्‍य के लिए आर्थिक वृद्धि' है. माना जा रहा है कि इस बार पीएम मोदी समकालीन विश्‍व में राष्‍ट्रीय संप्रभुता (National Sovereignty) के सामने आने वाली चुनौतियों और अवसरों पर चर्चा करेंगे. साथ ही शिखर सम्‍मेलन में शिरकत करने वाले सभी देशों के नेताओं के बीच आर्थिक विकास के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर भी बातचीत होगी.

पुतिन और जिनपिंग से अलग से होगी द्विपक्षीय बातचीत
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ भारत से उद्योगपतियों (Industrialists) का एक बड़ा प्रतिनिधिमंडल भी ब्राजील में मौजूद रहेगा. यह प्रतिनिधिमंडल ब्रिक्स बिजनेस फोरम में शिरकत करेगा, जहां सभी पांच देशों का व्यावसायिक समुदाय मौजूद होगा. प्रधानमंत्री मोदी रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) से भी अलग-अलग द्विपक्षीय बातचीत करेंगे. पीएम मोदी ब्रिक्स बिजनेस फोरम के मुख्य सत्र और समापन समारोह में भी हिस्सा लेंगे. इसके बाद ब्रिक्स के पूर्ण अधिवेशन का कार्यक्रम होगा. इसमें ब्रिक्स के सभी नेता आपस में आर्थिक विकास (Economic Devlopment) के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर बातचीत करेंगे.

व्‍यापार और निवेश प्रोत्‍साहन एजेंसियां के बीच होगा करार

पीएम मोदी ब्रिक्स बिजनेस काउंसिल के ब्रिक्स नेताओं के साथ बैठक में भी हिस्सा लेंगे. इसमें ब्राजिलियन ब्रिक्स बिजनेस काउंसिल के अध्यक्ष और न्यू डेवलपमेंट बैंक के अध्यक्ष अपनी-अपनी रिपोर्ट पेश करेंगे. इस दौरान व्यापार और निवेश प्रोत्‍साहन एजेंसियों के बीच ब्रिक्स एमओयू पर भी हस्ताक्षर होंगे. ब्रिक्स पांच उभरती अर्थव्यवस्थाओं वाले देशों ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका का समूह है. इस समूह के देशों की जनसंख्या विश्व की जनसंख्या का 42 फीसदी है. ये देश दुनिया के सकल घरेलू उत्‍पाद (GDP) के 23 फीसदी का प्रतिनिधित्व करते हैं. इन देशों की वैश्विक व्यापार में 17 फीसदी हिस्‍सेदारी है.

पीएम ने कहा - व्‍यापक सहयोग पर चर्चा को लेकर आशान्वित हूं
पीएम मोदी ने ब्राजील रवाना होने से पहले ट्वीट किया, 'मैं 13-14 नवंबर को ब्राजील में आयोजित हो रहे ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में हिस्सा लूंगा. इस शिखर सम्मेलन की थीम 'अभिनव भविष्य के लिए आर्थिक वृद्धि' है. मैं ब्रिक्स नेताओं के साथ विभिन्‍न विषयों पर व्यापक सहयोग के संबंध में चर्चा को लेकर आशान्वित हूं.' वहीं, आज उन्‍होंने ट्वीट किया, 'ब्रिक्‍स सम्‍मेलन में शिरकत के दौरान मुझे ब्राजील के राष्‍ट्रपति जेयर बोलसोनारो से मुलाकात करने और भारत-ब्राजील के रणनीतिक संबंधों को मजबूती देने का मौका मिलेगा. दोनों देशों के बीच व्‍यापार, कृषि, रक्षा और ऊर्जा क्षेत्र में सहयोग की अपार संभावनाएं हैं.' बता दें कि ब्रिक्स का पहला सम्मेलन 2009 में रूस में आयोजित किया गया था. उस समय ब्रिक्स को ब्रिक के नाम से जाना जाता था. दक्षिण अफ्रीका के 2011 में जुड़ने के बाद इस संगठन का नाम ब्रिक्स हो गया.

पीएम मोदी के साथ फोरम में भाग लेगा व्‍यापार प्रतिनिधिमंडल
विदेश मंत्रालय में आर्थिक संबंधों के सचिव टीएस त्रिमूर्ति ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के साथ एक आधिकारिक प्रतिनिधिमंडल भी होगा. भारत से एक बड़ा व्यापार प्रतिनिधिमंडल ब्रिक्स बिजनेस फोरम में भाग लेने जा रहा है. पीएम मोदी 13 नवंबर को द्विपक्षीय बैठकों में भाग लेंगे. इससे पहले पीएम मोदी थाईलैंड दौरे पर गए थे. जहां उन्होंने आसियान (ASEAN) और आरईसीपी (RCEP) सम्‍मेलन में हिस्सा लिया. इस दौरे पर पीएम मोदी ने कई देशों के नेताओं से मुलाकात की और अहम मुद्दों पर चर्चा की.

ये भी पढ़ें:

जानें, आरएसएस के केंद्र में कब और कैसे आया राम मंदिर आंदोलन
सऊदी अरब ने नारीवाद, समलैंगिकता और नास्तिकता को बताया अतिवाद, हो सकती है जेल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 12, 2019, 6:33 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...