PM मोदी के 'मन की बात' कार्यक्रम से 6 साल में हुई 30 करोड़ रुपये से ज्यादा की कमाई

Mann Ki Baat: आरटीआई के मुताबिक मन की बात कार्यक्रम से 2014-15 में 1.16 करोड़ रुपये, 2015-16 में 2.81 करोड़ रुपये, 2016-17 में 5.12 करोड़ रुपये, 2017-18 में 10.58 करोड़ रुपये, 2018-19 में 7.47 करोड़ रुपये, 2019-20 में 2.56 करोड़ रुपये और साल 2020 से अब तक 58 लाख रुपये की कमाई हुई है.
Mann Ki Baat: आरटीआई के मुताबिक मन की बात कार्यक्रम से 2014-15 में 1.16 करोड़ रुपये, 2015-16 में 2.81 करोड़ रुपये, 2016-17 में 5.12 करोड़ रुपये, 2017-18 में 10.58 करोड़ रुपये, 2018-19 में 7.47 करोड़ रुपये, 2019-20 में 2.56 करोड़ रुपये और साल 2020 से अब तक 58 लाख रुपये की कमाई हुई है.

Mann Ki Baat: आरटीआई के मुताबिक मन की बात कार्यक्रम से 2014-15 में 1.16 करोड़ रुपये, 2015-16 में 2.81 करोड़ रुपये, 2016-17 में 5.12 करोड़ रुपये, 2017-18 में 10.58 करोड़ रुपये, 2018-19 में 7.47 करोड़ रुपये, 2019-20 में 2.56 करोड़ रुपये और साल 2020 से अब तक 58 लाख रुपये की कमाई हुई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 17, 2020, 12:01 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के पहले कार्यकाल 2014 से शुरू मासिक रेडियो प्रोग्राम मन की बात (Mann Ki Baat) से अब तक 30 करोड़ रुपये की कमाई हो चुकी है. एक आरटीआई (RTI) में इस बात का खुलासा हुआ है. आरटीआई में पता चला है कि ऑल इंडिया रेडियो (All India Radio) पर चर्चित कार्यक्रम से पिछले 6 सालों में ₹ 30 करोड़ 28 लाख की कमाई हुई है. आरटीआई में इस बात का पता चला है कि इस कार्यक्रम के अखबारों में विज्ञापन पर कुल 7 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं. जबकि इससे तीन गुना करीब इस कार्यक्रम की आय हुई है.

आरटीआई के मुताबिक मन की बात कार्यक्रम से 2014-15 में 1.16 करोड़ रुपये, 2015-16 में 2.81 करोड़ रुपये, 2016-17 में 5.12 करोड़ रुपये, 2017-18 में 10.58 करोड़ रुपये, 2018-19 में 7.47 करोड़ रुपये, 2019-20 में 2.56 करोड़ रुपये और साल 2020 से अब तक 58 लाख रुपये की कमाई हुई है. इसके अलावा मन की बात कार्यक्रम के रेडियो, टेलीविजन, ऑनलाइन और अन्य तरीके के विज्ञापनों पर हुए खर्च का खुलासा भी आरटीआई में सामने आया है. आरटीआई के अनुसार, प्रिंट मीडिया में 6 साल में 7 करोड़ 29 लाख 88 हजार 765 रुपये का खर्च हुआ है. इसके अलावा अन्य किसी भी साधन पर कोई खर्च नहीं हुआ है.

ये भी पढ़ें- नीतीश कुमार बने सीएम; बीजेपी के 7, JDU के 5 और HAM-VIP के एक-एक मंत्री ने ली शपथ



अनिकेत गौरव नाम के एक शख्स द्वारा मांगी गई जानकारी में बताया गया है कि 2014-25 में विज्ञापन पर कुल खर्च कुल खर्च 1,83,34,738 रुपये. 2015-16 में कुल खर्च 2,38,96,241 रुपये, 2016-17 में कुल खर्च 75,976 रुपये, जबकि 2017-18 का आंकड़ा कुल 15,09,740 रुपये खर्च हुए. वहीं 2019-20 और 21 सितंबर 2020 तक हुए खर्च की जानकारी नहीं दी गई है.
आरटीआई में विज्ञापन को लेकर दी गई जानकारी अक्टूबर 2014 से सितंबर 2020 के बीच की है.

ये भी पढ़ें- सुशील मोदी पर नीतीश ने कहा- डिप्टी CM नहीं बनाने का फैसला BJP का, उनसे पूछिए

बता दें प्रधानमंत्री अपने इस मासिक रेडियो प्रोग्राम में विभिन्न जन सरोकार की बातें करते हैं. इसके अलावा वह लोगों से इस कार्यक्रम के मुद्दों को लेकर सुझाव भी मांगते. इसके अलावा समय-समय पर प्रधानमंत्री इस कार्यक्रम में लोगों से बातें भी करते रहते हैं. (शैलेंद्र वांगू के इनपुट सहित)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज