PM Modi ने कहा, अनुच्‍छेद-370 हटने से जम्‍मू-कश्‍मीर के लोगों को मिलेगा रोजगार, 10 खास बातें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने राष्‍ट्र के नाम संबोधन में कहा, अनुच्‍छेद-370 (Article-370) और 35A हटने से डॉ. भीमराव आंबेडकर, सरदार पटेल, डॉ. श्‍यामा प्रसाद मुखर्जी, पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी और करोड़ों देशभक्‍तों का सपना पूरा हो गया.

News18Hindi
Updated: August 8, 2019, 10:29 PM IST
PM Modi ने कहा, अनुच्‍छेद-370 हटने से जम्‍मू-कश्‍मीर के लोगों को मिलेगा रोजगार, 10 खास बातें
पीएम मोदी ने राष्‍ट्र के नाम संबोधन में कहा कि अनुच्‍छेद-370 हटने से पूरे देश में हर नागरिक के अधिकार और दायित्‍व समान हैं.
News18Hindi
Updated: August 8, 2019, 10:29 PM IST
जम्‍मू-कश्‍मीर (jammu-Kashmir) से अनुच्‍छेद-370 (Article-370) हटाकर सूबे को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटने के बाद पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने गुरुवार रात राष्‍ट्र को संबोधित किया. उन्‍होंने कहा कि अनुच्‍छेद-370 हटने के साथ ही डॉ. भीमराव आंबेडकर, सरदार पटेल, डॉ. श्‍यामा प्रसाद मुखर्जी, पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी और करोड़ों देशभक्‍तों का सपना पूरा हो गया. अब पूरे देश में हर नागरिक के अधिकार और दायित्‍व समान हैं.

अनुच्‍छेद-370 के कारण गई 42000 लोगों की जान
पीएम मोदी ने कहा कि अनुच्‍छेद-370 के कारण 42000 लोगों की जान चली गई. इसी अनुच्‍छेद के कारण सूबे में परिवारवाद और भ्रष्‍टाचार को बढ़ावा मिला. यह मान लिया गया कि इसमें कुछ बदलेगा ही नहीं. इसके चलते जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में हमारे भाई-बहनों व बच्चों को हो रहे नुकसान की चर्चा ही नहीं हुई. अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद-35ए (Article-35A) का देश के खिलाफ इस्तेमाल किया गया.



दूर हो गई जम्‍मू-कश्‍मीर और लद्दाख के विकास की बड़ी बाधा
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि एक राष्ट्र के तौर पर, एक परिवार के तौर पर, आपने, हमने, पूरे देश ने एक ऐतिहासिक फैसला लिया है. एक ऐसी व्यवस्था जिसकी वजह से जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के हमारे भाई-बहन अनेक अधिकारों से वंचित थे, जो उनके विकास में बड़ी बाधा थी, वो हम सबके प्रयासों से अब दूर हो गई है. जल्द ही केंद्रीय और राज्य के पदों को भरने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी. इसके साथ ही युवाओं को रोजगार के नए अवसर मिलेंगे. इसके अलावा, सेना और अर्धसैनिक बलों द्वारा युवाओं को रोजगार के लिए रैलियों का आयोजन किया जाएगा.


Loading...

अब भारतीय संसद के बनाए कानूनों से वंचित नहीं रहेगा जम्‍मू-कश्‍मीर
पीएम मोदी ने कहा कि हर सरकार संसद में कानून बनाकर देश की भलाई के लिए कार्य करती है. ये काम लगातार चलता रहता है. काफी बहस के बाद हर गंभीर पक्ष पर चर्चा के बाद बना कानून पूरे देश के लोगों का भला करता है. कोई कल्पना नहीं कर सकता कि संसद इतनी बड़ी संख्या में कानून बनाए और वो देश के एक हिस्से में लागू ही न हों. पहले की सरकारें कानून बनाकर वाहवाही लूटती थीं, लेकिन वो दावा नहीं कर पाती थीं कि उनका कानून जम्मू-कश्मीर में लागू होगा. सूबे के लोग उन कानूनों के लाभ से वंचित रह जाते थे. शिक्षा के अधिकार के लाभ से सूबे के बच्चे अब तक वंचित थे. अब ऐसा नहीं होगा.

जम्‍मू-कश्‍मीर को भी मिलेंगी केंद्रशासित प्रदेशों के बराबर सुविधाएं
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, केंद्र सरकार सुनिश्चित करेगी कि जम्मू-कश्मीर के कर्मचारियों व पुलिस को भी दूसरे केंद्रशासित प्रदेशों के बराबर सुविधाएं मिलें. हमने जम्मू-कश्मीर प्रशासन में नई कार्यसंस्कृति और पारदर्शिता लाने का प्रयास किया है. इसी का नतीजा है कि IIT, IIM, AIIMS, इरिगेशन प्रोजेक्ट्स, पावर प्रोजेक्ट्स और एंटी करप्शन ब्यूरो के काम में तेजी आई है. सूबे में दशकों से हजारों की संख्या में ऐसे लोग रहते हैं, जिन्हें लोकसभा के चुनाव में तो वोट डालने का अधिकार था, लेकिन वो विधानसभा और स्थानीय निकाय चुनाव में मतदान नहीं कर सकते थे. ये लोग बंटवारे के बाद पाकिस्तान से भारत आए थे. इनके बारे में भी विचार किया जाएगा.

पारदर्शी वातावरण में जल्‍द होंगे जम्‍मू-कश्‍मीर विधानसभा के चुनाव
पीएम मोदी ने कहा कि अनुच्छेद-370 हटाने के साथ कुछ समय के लिए सूबे को सीधे केंद्र के शासन में रखने का फैसला बहुत सोच-समझकर लिया गया है. गवर्नर शासन लागू होने के बाद से सूबे का प्रशासन सीधे केंद्र के संपर्क में है. हम यही चाहते हैं कि आने वाले समय में जम्मू-कश्मीर विधानसभा चुनाव हों. मैं जम्मू-कश्मीर के लोगों को भरोसा देता हूं कि आपको बहुत ईमानदारी के साथ पूरे पारदर्शी वातावरण में अपने प्रतिनिधि चुनने का अवसर मिलेगा.



अब अलगाववाद को हराकर नई आशाओं से आगे बढ़ें लोग
प्रधानमंत्री मोदी ने भरोसा जताया कि जम्मू-कश्मीर की जनता अलगाववाद को हराकर नई आशाओं के साथ आगे बढ़ेगी. मैं राज्य के गवर्नर से आग्रह करूंगा कि पिछले दो-तीन दशकों से लंबित ब्लॉक डेवलपमेंट काउंसिल का गठन करने का काम जल्द करें. वहीं, उन्‍होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर के केसर का रंग हो या कहवा का स्वाद, सेब का मीठापन हो या खुबानी का रसीलापन, कश्मीरी शॉल हो या कलाकृतियां, लद्दाख के ऑर्गैनिक प्रॉडक्ट्स हों या हर्बल मेडिसिन, सबका प्रसार दुनियाभर में किए जाने की जरूरत है. इस दिशा में तेजी से काम किया जाएगा.

स्‍थानीय युवा करेंगे जम्‍मू-कश्‍मीर के विकास का नेतृत्‍व
पीएम मोदी ने कहा कि दशकों के परिवारवाद ने जम्मू-कश्मीर के युवाओं को नेतृत्व का अवसर ही नहीं दिया. अब यहां के युवा जम्मू-कश्मीर के विकास का नेतृत्व कर नई ऊंचाई पर ले जाएंगे. मैं सूबे के नौजवानों, बहनों-बेटियों से आग्रह करूंगा कि अपने क्षेत्र के विकास की कमान खुद संभालिए. मुझे विश्वास है कि लोग गुड गवर्नेंस और पारदर्शिता के माहौल में नए उत्साह के साथ अपने लक्ष्यों को हासिल करेंगे. अब लद्दाख के नौजवानों की इनोवेटिव स्पिरिट को बढ़ावा मिलेगा. उन्हें बेहतर संस्थान, अच्छे अस्पताल और आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर मिलेंगे.

आपत्ति जताने वाले देशहित को ध्‍यान में रखकर करें व्‍यवहार
पीएम ने कहा कि लोकतंत्र में स्वाभाविक है कि कुछ लोग फैसले के पक्ष में हैं और कुछ इससे इत्‍तेफाक नहीं रखते. मैं उनके मतभेद का सम्मान करता हूं. इस पर होने वाली बहस का केंद्र सरकार जवाब भी दे रही है. ये हमारा लोकतांत्रिक दायित्व है. मेरा आपत्ति जताने वालों से आग्रह है कि वो देशहित को सर्वोपरि रखते हुए व्यवहार करें. वे जम्मू-कश्मीर-लद्दाख को नई दिशा देने में सरकार की मदद करें. संसद में किसने मतदान किया, किसने नहीं, इससे आगे बढ़कर हमें जम्मू-कश्मीर-लद्दाख के हित में मिलकर काम करना है.



माहौल बिगाड़ने की कोशिश करने वालों को जवाब दे रहे सूबे के लोग
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि अनुच्छेद-370 हटाने के बाद उठाए गए एहतियाती कदमों से होने वाली परेशानी का मुकाबला भी जम्‍मू-कश्‍मीर के ही लोग कर रहे है. कुछ मुट्ठी भर लोग वहां हालात बिगाड़ना चाहते हैं. उन्हें जवाब भी वहां के स्थानीय लोग ही दे रहे हैं. हमें नहीं भूलना चाहिए कि आतंकवाद और अलगाववाद को बढ़ावा देने की पाकिस्तानी साजिशों के विरोध में जम्मू-कश्मीर के ही देशभक्त डटकर खड़े हुए हैं. जम्मू-कश्मीर के साथियों को भरोसा देता हूं कि धीरे-धीरे हालात सामान्य हो जाएंगे. उनकी परेशानी भी कम होती चली जाएगी.

सरकार रख रही है ध्‍यान ताकि ईद मनाने में न आए दिक्‍कत
पीएम मोदी ने कहा कि ईद नजदीक ही है. ईद की सभी को बहुत-बहुत शुभकामनाएं. सरकार ध्यान रख रही है कि जम्मू-कश्मीर में ईद मनाने में कोई परेशानी न हो. बाहर रह रहे जम्मू-कश्मीर के लोगों की सरकार हरसंभव मदद कर रही है. सुरक्षाबलों, प्रशासनिक अधिकारियों, जम्मू-कश्मीर पुलिस के परिश्रम ने मेरा ये विश्वास बढ़ाया है कि बदलाव हो सकता है. ये फैसला जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के साथ ही पूरे भारत की आर्थिक प्रगति में सहयोग करेगा.

ये भी पढ़ें:

PM Narendra Modi Speech Live: Jammu & Kashmir से Article 370 और 35A हटने के बाद कश्मीर को बधाई, अटल, पटेल और अंबेडकर का सपना पूरा हुआ

 
First published: August 8, 2019, 8:31 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...