• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • भारतीय संस्थानों में विदेशों से छात्र आकर करेंगे पढ़ाई: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

भारतीय संस्थानों में विदेशों से छात्र आकर करेंगे पढ़ाई: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

राष्ट्रीय शिक्षा नीति का एक साल पूरा हो गया है. (फाइल फोटो)

राष्ट्रीय शिक्षा नीति का एक साल पूरा हो गया है. (फाइल फोटो)

PM Modi Address to Nation: पीएम मोदी ने कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति युवाओं को ये विश्वास दिलाती है ​कि देश अब पूरी तरह से उनके और उनके हौसलों के साथ है. राष्ट्रीय शिक्षा नीति को किसी भी तरह के दबाव से मुक्त रखा गया है.

  • Share this:

    नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति (New Education Policy) को केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा मंजूरी दिए जाने का एक साल पूरा होने के अवसर पर राष्ट्र को संबोधित किया. इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पिछले एक साल में नई शिक्षा नीति को धरातल पर उतारने के लिए बहुत काम हुआ है. कोरोना काल में ही इसे चरणबद्ध तरीके से लागू किया जा रहा है. पीएम मोदी ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लागू करना आज़ादी के अमृत महोत्सव का प्रमुख हिस्सा बन गया है. इतने बड़े महापर्व के बीच राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत आज शुरू हुईं योजनाएं नए भारत के निर्माण में बहुत बड़ी भूमिका निभाएंगी.

    प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भविष्य में हम कितना आगे जाएंगे, कितनी ऊंचाई प्राप्त करेंगे, ये इस बात पर निर्भर करेगा कि हम अपने युवाओं को वर्तमान में यानी आज कैसी शिक्षा दे रहे है, कैसी दिशा दे रहे हैं. पीएम मोदी ने कहा कि मैं मानता हूं भारत की नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति राष्ट्र निर्माण के महायज्ञ में बड़े फैक्टर्स में से एक है. पीएम मोदी ने कहा कि 21वीं सदी का आज का युवा अपनी व्यवस्थाएं, अपनी दुनिया खुद अपने हिसाब से बनाना चाहता है. इसलिए, उसे एक्सपोजर चाहिए, उसे पुराने बंधनों, पिंजरों से मुक्ति चाहिए.

    ये भी पढे़ं- अमेरिकी विदेश मंत्री के दलाई लामा के प्रतिनिधियों से मुलाकात पर भड़का चीन, कही ये बात

    पीएम मोदी ने कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति युवाओं को ये विश्वास दिलाती है ​कि देश अब पूरी तरह से उनके और उनके हौसलों के साथ है. राष्ट्रीय शिक्षा नीति को किसी भी तरह के दबाव से मुक्त रखा गया है.  उन्होंने कहा  जिस आर्टिफिसियल इंटेलीजेंस के प्रोग्राम को अभी लॉन्च किया गया है, वो भी हमारे युवाओं को भविष्योन्मुख बनाएगा, और एआई संचालित अर्थव्यवस्था के रास्ते खोलेगा.

    अब विदेशी छात्र करेंगे भारत आकर पढ़ाई
    पीएम मोदी ने कहा कि हमने-आपने दशकों से ये माहौल देखा है जब समझा जाता था कि अच्छी पढ़ाई करने के लिए विदेश ही जाना होगा. लेकिन अच्छी पढ़ाई के लिए विदेशों से स्टूडेंट्स अच्छे संस्थानों में भारत आयें, ये अब हम देखने जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि आज बन रही संभावनाओं को साकार करने के लिए हमारे युवाओं को दुनिया से एक कदम आगे होना पड़ेगा, एक कदम आगे का सोचना होगा.

    पीएम मोदी ने कहा कि हेल्थ हो, डिफेंस हो, इंफ्रास्ट्रक्चर हो, टेक्नोलॉजी हो, देश को हर दिशा में समर्थ और आत्मनिर्भर होना होगा. उन्होंने कहा कि मुझे खुशी है कि 8 राज्यों के 14 इंजीनियरिंग कॉलेज, 5 भारतीय भाषाओं- हिंदी-तमिल, तेलुगू, मराठी और बांग्ला में इंजीनियरिंग की पढ़ाई शुरू करने जा रहे हैं. इंजीनिरिंग के कोर्स का 11 भारतीय भाषाओं में ट्रांसलेशन के लिए एक टूल भी तैयार किया जा चुका है.

    ये भी पढ़ें- देश भर में लगे लॉकडाउन से महिलाओं की हेल्‍थ पर नेगेटिव प्रभाव : अध्‍ययन

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मौके पर शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े कई महत्वपूर्ण कार्यक्रमों जैसे- अकेडमिक बैंक ऑफ क्रेडिट्स और नेशनल डिजिटल एजुकेशन आर्किटेक्चर को लॉन्च किया.

    पिछले साल दी गई थी नई शिक्षा नीति को मंजूरी
    राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 को पिछले साल 29 जुलाई को प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने मंजूरी दी थी. इस नीति में शिक्षा की पहुंच, समता, गुणवत्ता, वहनीयता और उत्तरदायित्व जैसे मुद्दों पर विशेष ध्यान दिया गया है.

    नई शिक्षा नीति के तहत केंद्र व राज्य सरकार के सहयोग से शिक्षा क्षेत्र पर देश की जीडीपी के 6 प्रतिशत हिस्से के बराबर निवेश का लक्ष्य रखा गया है. नई शिक्षा नीति के अंतर्गत ही ‘मानव संसाधन विकास मंत्रालय’ का नाम बदल कर ‘शिक्षा मंत्रालय’ करने को भी मंज़ूरी दी गई है.

    नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में स्कूली पढाई से लेकर उच्च शिक्षा तक कई बदलाव किए जाने का प्रस्ताव रखा गया है जिसका मुख्य उद्देश्य बच्चों का पूर्ण रूप से विकास और उन्हें विश्व स्तर पर सशक्त बनाना है.

    नई शिक्षा नीति में स्कूल शिक्षा से लेकर उच्च शिक्षा तक कई बड़े बदलाव किए गए हैं. पहली बार मल्टीपल एंट्री और एग्जिट सिस्टम लागू किया गया है. इससे उन छात्रों को बहुत फ़ायदा होगा जिनकी पढ़ाई बीच में किसी वजह से छूट जाती है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज