Yaas Cyclone: PM मोदी ने की समीक्षा बैठक, समय पर लोगों को सुरक्षित स्‍थानों पर भेजने को कहा

पीएम मोदी ने की समीक्षा बैठक. (Pic- ANI)

पीएम मोदी ने की समीक्षा बैठक. (Pic- ANI)

Yaas Cyclone: प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से कहा गया है कि राष्ट्रीय आपदा मोचन बल यानी एनडीआरएफ ने चक्रवात यास से निपटने के लिए 46 टीमों को पहले से ही काम में लगाया है.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. टाउते तूफान (Tauktae Cyclone) के बाद अब पूर्वी तटीय क्षेत्रों पर यास तूफान का खतरा मंडरा रहा है. मौसम विभाग (IMD) ने बंगाल की खाड़ी में बने कम दबाव के क्षेत्र के चक्रवाती तूफान यास (Yaas Cyclone) में बदलने की संभावना जताई है और उसके 26 मई को पश्चिम बंगाल औरओडिशा तट पर पहुंचने का अनुमान जताया है. इस तूफान से निपटने के लिए चल रही तैयारियों की समीक्षा के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने रविवार को अफसरों और मंत्रियों के साथ वर्चुअल बैठक की. इसमें पीएम मोदी ने निर्देश दिए कि संभावित खतरे वाले स्‍थानों से लोगों को समय पर सुरक्षित स्‍थानों पर पहुंचाया जाए. बैठक में गृह मंत्री अमित शाह भी मौजूद रहे.

इस समीक्षा बैठक के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से कहा गया है कि राष्ट्रीय आपदा मोचन बल यानी एनडीआरएफ ने चक्रवात यास से निपटने के लिए 46 टीमों को पहले से ही काम में लगाया है. 13 टीम आज हवाई मार्ग से जा रही हैं. इसके साथ ही भारतीय तटरक्षक बल और नौसेना ने राहत, खोज, बचाव अभियानों के लिए जहाजों, हेलीकॉप्टरों को तैनात किया है.

पीएम मोदी ने बैठक के दौरान अफसरों को निर्देश दिए कि बिजली और टेलीफोन नेटवर्क की कटौती के समय को कम किया जाए. पीएम मोदी ने इस दौरान अफसरों से तूफान के समय लोगों को क्‍या करना है और क्‍या नहीं करना है, इसके दिशानिर्देश तैयार करने को भी कहा है. उन्‍होंने कहा कि ये दिशानिर्देश स्‍थानीय भाषा में भी लोगों के लिए जारी किए जाएं.

बैठक में पीएम मोदी को जानकारी दी गई कि कैबिनेट सचिव ने 22 मई को नेशनल क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की मीटिंग की थी. इसमें सभी तटीय राज्‍यों के प्रमुख सचिव और संबंधित मंत्रालय व एजेंसी शामिल थीं.


उन्‍हें यह भी जानकारी दी गई कि गृह मंत्रालय भी 24 घंटे स्थिति की समीक्षा कर रहा है. मंत्रालय लगातार संबंधित राज्‍य सरकारों और केंद्रीय एजेंसियों से संपर्क में हैं. गृह मंत्रालय ने सभी राज्‍यों में एसडीआरएफ को भी एडवांस में इंस्‍टॉलमेंट जारी कर दी गई है. इसके साथ ही पेट्रोलियम मंत्रालय समुद्र में मौजूद सभी तेल संबंधी जगहों की देखरेख और उनकी सुरक्षा के लिए तैयारी कर रहा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज