नकवी बोले- पीएम मोदी बिना थके फ्रंट में आकर करते हैं लोगों की समस्या का समाधान

नकवी का कहना है कि कोरोना काल पूरी दुनिया के लिए परीक्षा का समय है.

नकवी ने कहा, 'यह उनकी मजबूत इच्छाशक्ति को दिखाता है. आज अगर हम इस संकट से उबर रहे हैं, कोरोना के संकट को परास्त कर रहे है, देश सामान्य स्थिति की ओर आ रहा है तो इसका कारण पीएम नरेंद्र मोदी की दृढ़ इच्छाशक्ति है.'

  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के विश्व के सबसे लोकप्रिय नेता चुने जाने पर केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी (Mukhtar Abbas Naqvi) का कहना है कि जिस तरह से बिना रुके हुए बिना थके हुए जनता के लिए और उनके सरोकार के लिए जिस जुनून और जज्बे के साथ पीएम मोदी काम करते हैं यह उनकी लोकप्रियता का सबसे बड़ा कारण है. नकवी का कहना है कि पीएम मोदी संकट के समय संकटमोचक के तौर पर फ्रंट में आकर लोगों के लिए काम करते हैं.

उन्होंने कहा कि यह दुनिया में प्रशंसनीय है. नकवी का कहना है कि कोरोना काल पूरी दुनिया के लिए परीक्षा का समय है. 2020 में कोरोना की पहली वेब आई और उसके बाद दूसरी वेब आती है लेकिन इस एक साल के अंदर पीएम नरेंद्र मोदी ने सुविधाओं और संसाधन की व्यवस्था जिस तरह से की है और महीने, दो महीने के अंदर इन वेब को पूरी तरह से नियंत्रित किया.

कोरोना काल में पीएम मोदी ने दिखाई द्दढ़ इच्छाशक्ति
नकवी ने कहा, 'यह उनकी मजबूत इच्छाशक्ति को दिखाता है. आज अगर हम इस संकट से उबर रहे हैं, कोरोना के संकट को परास्त कर रहे है, देश सामान्य स्थिति की ओर आ रहा है तो इसका कारण पीएम नरेंद्र मोदी की दृढ़ इच्छाशक्ति है. साथ ही यह उनके संकल्प और सावधानी के साथ काम करने का परिणाम है. पीएम नरेंद्र मोदी जब गुजरात में सीएम थे तो बड़ा भूकंप आया था और लाखों लोग इससे प्रभावित हुए थे. यह संभवतः दुनिया का सबसे बड़ा भूकंप था. उसमें भी पीएम मोदी ने कुशलता के साथ राहत और पुनर्वास का काम किया था. स्पेनिश फ्लू 1918-19 में आया था जो कोरोना वायरस की तरह भयावह था.

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि उस वक्त 30 करोड़ की आबादी वाले भारत में दो करोड़ लोगों की असमय मौत हुई थी जिसमें अधिकांश लोगों की मौत भूख के कारण हुई थी. लेकिन कोरोना काल में पीएम नरेंद्र मोदी ने गरीब कल्याण योजना के तहत 80 करोड़ लोगों के लिए मुफ्त में अनाज  की व्यवस्था की ताकि इस संकट के समय में कोई भूखा न रह जाए और भूख के कारण किसी की मौत न हो जाए.

नकवी का कहना है कि जब भी इतिहास लिखा जाएगा तो इस बात को लिखा जाएगा कि पीएम नरेंद्र मोदी को इस बात का अहसास था और 1918- 19 में स्पेनिश फ्लू के कारण जिस तरह बीमारी के साथ साथ भुखमरी से लोगों की मौत हुई वह घटना फिर से न दोहराई जाए. इसलिए आर्थिक पैकेज के साथ-साथ पीएम नरेंद्र मोदी ने 80 करोड़ लोगों के खाने के लिए राशन की व्यवस्था की.

विपक्षी पार्टियों के तर्क में कंगाली 
कोरोना से निपटने के मुद्दे पर पीएम नरेंद्र मोदी को विपक्षी पार्टियों द्वारा विरोध किए जाने के मुद्दे पर केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि जो विपक्ष के लोग हैं उनकी एक समस्या है. वह किसी भी चीज पर फोकस नहीं करते हैं. साथ ही किसी को भी विरोध करना चाहिए तो फोकस होकर और तर्कों के साथ विरोध करना चाहिए लेकिन विपक्षी पार्टियों के पास तर्कों की कंगाली है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.