Assembly Banner 2021

उन सभी शहरों को बधाई जिन्होंने स्वच्छ सर्वेक्षण में शीर्ष स्थान प्राप्त किया: PM

पीएम मोदी ने कहा है कि इन शहरों से दूसरे शहर भी भविष्य में प्रभावित होंगे. (फाइल फोटो)

पीएम मोदी ने कहा है कि इन शहरों से दूसरे शहर भी भविष्य में प्रभावित होंगे. (फाइल फोटो)

पीएम मोदी (PM Narendra Modi) ने कहा कि इससे भविष्य में दूसरे शहर भी स्वच्छता को प्रोत्साहित होंगे. ये सकारात्मक प्रतियोगी भावना भविष्य (Competitive Spirit) में स्वच्छ भारत मिशन (Swachh Bharat Mission) को और भी ज्यादा मजबूत करेगी जिससे करोड़ों लोगों को फायदा होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 20, 2020, 9:52 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने उन सभी शहरों को बधाई दी है जिन्होंने स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 (Swachh Survekshan 2020) में शीर्ष स्थान प्राप्त किया है. उन्होंने कहा कि इससे भविष्य में दूसरे शहर भी स्वच्छता के लिए प्रोत्साहित होंगे. ये सकारात्मक प्रतियोगी भावना भविष्य में स्वच्छ भारत मिशन को और भी ज्यादा मजबूत करेगी जिससे करोड़ों लोगों को फायदा होगा.

गौरतलब है कि 2014 में देश का प्रधानमंत्री बनने के बाद से ही नरेंद्र मोदी ने स्वच्छता को लेकर व्यापक अभियान चलाया है. इसी के तहत हर साल विभिन्न क्षेत्रों में साफ-सफाई के स्तर को लेकर ये राष्ट्रीय सर्वेक्षण जारी किया जाता है. मध्य प्रदेश का इंदौर शहर स्वच्छता के मामले में लगातार बाजी मारता रहा है. इस बार भी इंदौर देश का सबसे स्वच्छ शहर घोषित किया गया है.

यूपी को मिले सबसे ज्यादा पुरस्कार
अखिल भारतीय स्तर पर कराए गए स्वच्छ सर्वेक्षण-2020 में उत्तर प्रदेश के 19 निकायों ने विभिन्न श्रेणियों में देश के दूसरे निकायों को पीछे छोड़ते हुए सम्मान हासिल किया है. इस उपलब्धि के साथ ही उत्तर प्रदेश स्वच्छ सर्वेक्षण-2020 में देश में सबसे ज्यादा पुरस्कार पाने वाला राज्य बना है. प्रदेश के कुल 19 नगर निकायों, जिनमें 2 कैंट क्षेत्र भी शामिल हैं, को यह सम्मान मिला है. वहीं टॉप 12 अवॉर्ड में से 2 पर यूपी काबिज हुआ है.
Youtube Video




बिहार का प्रदर्शन बेहद खराब, पटना अंतिम पायदान पर
सर्वेक्षण में बिहार को निराशा हाथ लगी है. राज्य की राजधानी पटना पूर्वी भारत में 10 लाख से ज्यादा जनसंख्या की कैटेगरी में 47वें पायदान पर है. बता दें कि इस कैटेगरी में ये सबसे निचला स्थान है. सबसे खास बात ये कि एक लाख से दस लाख और दस लाख से अधिक आबादी वाले स्वच्छ टॉप टेन शहरों में बिहार का कोई भी शहर नहीं है. हालांकि पटना का प्रदर्शन पहले की तुलना में बहुत बेहतरीन रहा है और देशभर में 105 वा रैंक मिला है.

पटना नगर निगम ने वर्ष 2021 में पटना को देशभर में टॉप 50 में लाने का लक्ष्य तय किया है. इससे पहले बिहार की राजधानी पटना का 2019 में देशभर में 318 वां रैंक और 2018 में 309 वां रैंक था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज