• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • PM मोदी ने देश को समर्पित की 35 फसलों की विशेष किस्‍में, NIBST कैंपस का किया उद्घाटन

PM मोदी ने देश को समर्पित की 35 फसलों की विशेष किस्‍में, NIBST कैंपस का किया उद्घाटन

पीएम मोदी ने एनआईबीएसटी कैंपस का किया उद्घाटन. (Pic- ANI)

पीएम मोदी ने एनआईबीएसटी कैंपस का किया उद्घाटन. (Pic- ANI)

फसलों (Special Variety of Crops) की ये विशेष किस्में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद द्वारा विकसित की गई हैं ताकि जलवायु परिवर्तन और कुपोषण की दोहरी चुनौतियों से निपटा जा सके.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने जलवायु अनुकूल प्रौद्योगिकी को अपनाने के लिए बड़े पैमाने पर जागरूकता फैलाने के मकसद से मंगलवार को 35 फसलों (35 Crop Variety) की विशेष किस्मों को राष्ट्र को समर्पित किया. प्रधानमंत्री मोदी ने डिजिटल समारोह के दौरान छत्‍तीसगढ़ के रायपुर में ‘नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ बायोटिक स्ट्रेस टॉलरेंस’ (NIBST) के नवनिर्मित परिसर का उद्घाटन भी किया.

    इस दौरान पीएम मोदी ने कृषि विश्वविद्यालयों को हरित परिसर पुरस्कार भी प्रदान किया और नवाचार संबंधी तरीकों का इस्तेमाल करने वाले किसानों से संवाद किया. फसलों की विशेष किस्में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद द्वारा विकसित की गई हैं ताकि जलवायु परिवर्तन और कुपोषण की दोहरी चुनौतियों से निपटा जा सके. पीएमओ ने कहा कि 2021 में ऐसी 35 किस्में विकसित की गई हैं.

    इन विशेष लक्षण वाली फसल किस्मों में वे तत्व भी शामिल हैं जो मानव और पशु स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डालने वाले कुछ फसलों में पाए जाने वाले पोषण-विरोधी कारकों को दूर करते हैं. इस अवसर पर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि देश में 86 प्रतिशत किसान छोटे किसान हैं और प्रधानमंत्री का लक्ष्य इन किसानों की आय बढ़ाना है.

    किसानों को दूसरों की करुणा पर निर्भर नहीं रहना – नरेंद्र सिंह तोमर
    उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री का मानना है कि किसानों को दूसरों की करुणा पर निर्भर नहीं रहना चाहिए, बल्कि खुद के बल पर उठना चाहिए. इस उद्देश्य से उन्हें सशक्त बनाने के लिए प्रधानमंत्री-किसान जैसी कई योजनाएं और किसान रेल के माध्यम से परिवहन सुविधाएं शुरू की गई हैं. छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राष्ट्रीय जैविक तनाव सहिष्णुता संस्थान, रायपुर के नवनिर्मित परिसर के उद्घाटन के लिए प्रधानमंत्री को धन्यवाद दिया.

    उन्होंने कहा कि यह संस्थान राज्य में कृषि को बढ़ावा देगा. उन्होंने कहा, ‘जलवायु परिवर्तन दुनिया भर में चिंता का कारण है. हम अपने क्षेत्र में इसका प्रभाव देख रहे हैं. दो कारण हैं – एक प्राकृतिक है और दूसरा मिट्टी में कार्बन में कमी है.’ उन्होंने देश में जलवायु परिवर्तन के प्रभाव का पता लगाने के लिए व्यापक अध्ययन कराने पर जोर दिया.

    कार्यक्रम में केंद्रीय मत्स्य, पशु एवं कुक्कुट पालन मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला, कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी और शोभा करंदलाजे और छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह मौजूद थे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज