COVID-19: PM मोदी बोले- पहले जैसी नहीं रहेगी धरती... कोरोना से पहले और बाद के रूप में करेंगे याद

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर वेसाक ग्लोबल सेलिब्रेशन  को वर्चुअली संबोधित किया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर वेसाक ग्लोबल सेलिब्रेशन को वर्चुअली संबोधित किया.

प्रधानमंत्री मोदी (PM Narendra Modi) ने कहा कि कोरोना (Coronavirus Second Wave) ने पूरी दुनिया को बदलकर रख दिया है. इस मुश्किल वक्त में बुद्ध के आदर्शों पर चलना जरूरी है. कोरोना के खिलाफ जंग में हमें बौद्ध संस्थाओं से सहयोग मिल रहा है.

  • Share this:

नई दिल्ली. देश में कोरोना वायरस (Coronavirus Second Wave) की दूसरी लहर से संक्रमितों का आंकड़ा तेजी से बढ़ता जा रहा है. अब तक 3 लाख से ज्यादा लोगों की जान इस वायरस से जा चुकी है. इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने बुधवार को बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर वेसाक ग्लोबल सेलिब्रेशन (Vesak Global Celebrations) को वर्चुअली संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने कोरोना महामारी पर अपनी बात रखी. पीएम ने कहा, 'जिन लोगों ने महामारी के दौरान अपनों को खोया है, उनके प्रति मेरी संवेदनाएं हैं. भारत समेत कई देशों ने कोरोना की दूसरी लहर का सामना किया है. इस लड़ाई को साथ मिलकर ही जीता जा सकता है.

पीएम मोदी ने कहा, 'हमें अपने वैज्ञानिकों पर भी गर्व है, जिन्होंने एक साल से भी कम समय में वैक्सीन बनाई, जिससे हम लोगों की जान बचाने में सफल हो पाए.' प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कोरोना ने पूरी दुनिया को बदलकर रख दिया है. इस मुश्किल वक्त में बुद्ध के आदर्शों पर चलना जरूरी है. कोरोना के खिलाफ जंग में हमें बौद्ध संस्थाओं से सहयोग मिल रहा है.

COVID-19: ठीक होने के बाद भी लंबे वक्त तक परेशान कर सकता है कोरोना, ये लक्षण दिखें तो हो जाएं सावधान

उन्होंने कहा, 'अब हमारे पास महामारी से लड़ने की अच्छी समझ विकसित हो गई है. अब हमारे पास वैक्सीन भी है, जिससे यह लड़ाई और मजबूत हुई है. इस संकट के समय में हमारे हेल्थकेयर, फ्रंट लाइन वर्कर्स अपनी जान जोखिम में डालकर लोगों की जानें बचा रहे हैं. डॉक्टर्स और नर्सों के योगदान को कोई भूला नहीं पाएगा.'


Covid Update: देश में 24 घंटे में 2.08 लाख कोरोना केस, 4157 मरीजों की हुई मौत

वेसाक ग्लोबल सेलिब्रेशन का आयोजन संस्कृति मंत्रालय अंतरराष्ट्रीय बौद्ध परिसंघ (IBC) के सहयोग से किया गया. इस वर्चुअल कार्यक्रम में दुनिया भर के बौद्ध संघों के प्रमुख शामिल हुए. श्रीलंका और नेपाल के प्रधानमंत्री के अलावा दुनियाभर के 50 से ज्यादा बौद्ध धर्मगुरु भी समारोह से जुड़े. श्रीलंका में इस दिन को वेसाक के नाम से मनाया जाता है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज