PM मोदी ने 2015 से अबतक की 58 देशों की यात्रा, खर्च हुए 517.82 करोड़ रुपये

प्रधानमंत्री मोदी की 58 विदेश यात्राओं पर खर्च हुए 517.82 करोड़ रुपये
प्रधानमंत्री मोदी की 58 विदेश यात्राओं पर खर्च हुए 517.82 करोड़ रुपये

PM Narendra Modi foreign visits: राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (रांकापा) की फौजिया खान ने सरकार ने सवाल किया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2015 से अब तक कितने देशों का दौरा किया और इन दौरों पर कुल कितने रुपये खर्च हुए. इसके जवाब में मुरलीधरन ने बताया, '2015 से प्रधानमंत्री ने 58 देशों की यात्रा की. इन यात्राओं पर कुल 517.82 करोड़ रुपए व्यय हुआ.'

  • भाषा
  • Last Updated: September 22, 2020, 4:09 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने मार्च 2015 से नवंबर 2109 के बीच कुल 58 देशों की यात्रा की और इन यात्राओं पर कुल 517.82 करोड़ रुपये खर्च हुए. यह जानकारी मंगलवार को संसद में दी गई. राज्यसभा (Rajya Sabha) को एक सवाल के लिखित जवाब में विदेश राज्यमंत्री वी मुरलीधरन ने यह भी बताया कि प्रधानमंत्री के इन दौरों से द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर भारत के दृष्टिकोण के बारे में अन्य देशों की समझ बढ़ी तथा संबंधों में मजबूती आई है.

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (रांकापा) की फौजिया खान ने सरकार से जानना चाहा था कि वर्ष 2015 से आज की तारीख तक प्रधानमंत्री ने कितने देशों का दौरा किया और इन दौरों पर कुल कितना व्यय हुआ. इसके जवाब में मुरलीधरन ने बताया, '2015 से प्रधानमंत्री ने 58 देशों की यात्रा की. इन यात्राओं पर कुल 517.82 करोड़ रुपए व्यय हुआ.'

ये भी पढ़ें: नायडू ने विपक्ष के आरोपों को खारिज किया, कहा- उप सभापति ने हंगामा कर रहे सदस्यों से 13 बार अपील की



ये भी पढ़ें: बदल गया 65 साल पुराना एसेंशियल कमोडिटी एक्ट, दाल-आलू-प्याज अब नहीं रही जरूरी चीजें
पीएम की विदेश यात्राओं से अन्‍य देशों के साथ संबंधो में आई है मजबूती
विदेश राज्यमंत्री ने बताया कि प्रधानमंत्री की विदेश यात्राओं के दौरान उनके द्वारा किए गए पारस्परिक विचार-विमर्शों से द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर भारत के दृष्टिकोण के बारे में अन्य देशों की समझ बढ़ी है और इन वार्ताओं से व्यापार और निवेश, प्रौद्योगिकी, सामुद्रिक सहयोग, अंतरिक्ष, रक्षा सहयोग और लोगों के बीच परस्पर संपर्कों सहित अनेक क्षेत्रों में उनके साथ संबंध मजबूत हुए हैं. उन्होंने कहा, 'संबंधों में आई इस मजबूती ने हमारे आर्थिक विकास को बढ़ावा देने और हमारे नागरिकों की भलाई के लिए भारत के राष्ट्रीय विकास एजेंडे में योगदान दिया है.'

मुरलीधरन ने कहा कि भारत अब जलवायु परिवर्तन, अन्तरराष्ट्रीय अपराध और आतंकवाद, साइबर सुरक्षा और परमाणु अप्रसार सहित बहुपक्षीय स्तर पर वैश्विक एजेंडे को मूर्तरूप देने के लिए बढ़-चढ़कर योगदान दे रहा है और अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन और आपदा समर्थ अवसंरचना के लिए गठबंधन जैसे वैश्विक मुद्दों के लिए दुनिया को अपनी अनूठी पहलों की पेशकश कर रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज