अपना शहर चुनें

States

अमेठी-अलवर सहित मोदी सरकार का देश को 5 सैनिक स्कूल का तोहफा

फाइल फोटो- भारतीय सेना.
फाइल फोटो- भारतीय सेना.

ज़मीन और दूसरी जरूरतों के लिए इस मामले में राज्य सरकारों से भी लिखित में समझौता हो चुका है. अब जल्द सैनिक स्कूल की स्थापना का काम शुरु हो जाने की उम्मीद है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 29, 2019, 11:31 AM IST
  • Share this:
देश की सेना को अच्छे और काबिल अफसर मिलें. देश के नौजवानों में बचपन से ही सेना में भी जाने का जज्बा पैदा हो. पढ़ाई के साथ-साथ स्कूल में बच्चे सेना के बारे में जानें और उसे नजदीक से देखें. इसी को ज़मीनी रूप देने के लिए मोदी सरकार ने देश को पांच नए सैनिक स्कूल का तोहफा दिया है. ज़मीन और दूसरी जरूरतों के लिए इस मामले में राज्य सरकारों से भी लिखित में समझौता हो चुका है. अब जल्द सैनिक स्कूल की स्थापना का काम शुरु हो जाने की उम्मीद है.

यहां खुलेंगे 5 नए सैनिक स्कूल

लोकसभा में सैनिक स्कूल के बारे में जानकारी देते हुए रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, “देश में इस वक्त 5 मिलिट्री स्कूल चैल हिमाचल प्रदेश, अजमेर-धौलपुर राजस्थान और बेलगांव-बेंगलोर कर्नाटक में चल रहे हैं. वहीं देश के 24 राज्यों में 31 सैनिक स्कूल पहले से ही संचालित किए जा रहे हैं.



जिसमे से राजस्थान में चितौड़गढ़-झुनझुन में और यूपी के मैनपुरी और झांसी में दो-दो स्कूल चलाए जा रहे हैं. यूपी-राजस्थान की जरूरत को देखते हुए अब अमेठी, यूपी और अलवर राजस्थान में जल्द ही एक-एक स्कूल और खोल दिया जाएगा.
वहीं उत्तराखण्ड के रूद्रप्रयाग, संभलपुर, ओडिशा और तेलंगाना के वारंगल में भी एक-एक सैनिक स्कूल खोला जाएगा.”

यह है सैनिक स्कूलों की कामयाबी

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने संसद में सैनिक स्कूलों की कामयाबी पर बात करते हुए बताया, “नेशनल डिफेंस एकेडमी (एनडीए) में हर साल बड़ी संख्या में सैनिक स्कूल के बच्चे भी जा रहे हैं. अच्छी बात यह है कि एनडीए में जाने वाले बच्चों की संख्या बढ़ रही हैं.

2016 में एनडीए में 595 में से 158 बच्चे सैनिक स्कूल के थे. इसी तरह से 2017 में 644 में से 179 सैनिक स्कूल के थे. वहीं 2018 में 662 में से 147 बच्चे सैनिक स्कूल के सिलेक्ट हुए थे.”

ये भी पढ़ें- मॉब लिंचिंग के शिकार हुए लोगों में आधे से ज्यादा गैर-मुस्लिम

मोदी सरकार का मुस्लिम लड़कियों को एक और बड़ा तोहफा

आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार का ये है ‘मिशन कश्मीर’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज