फ्रांस में बोले पीएम मोदी- लोगों ने नए भारत के निर्माण के लिए मजबूत जनादेश दिया

News18Hindi
Updated: August 23, 2019, 6:51 PM IST
फ्रांस में बोले पीएम मोदी- लोगों ने नए भारत के निर्माण के लिए मजबूत जनादेश दिया
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Pm Narendra Modi) फ्रांस (France) की यात्रा पर हैं और उन्होंने भारतीयों को संबोधित किया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Pm Narendra Modi) फ्रांस (France) की यात्रा पर हैं और उन्होंने भारतीयों को संबोधित किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 23, 2019, 6:51 PM IST
  • Share this:
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  (Narendra Modi) ने शुक्रवार को कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव का प्रचंड जनादेश सिर्फ एक सरकार को नहीं, बल्कि एक ऐसे ‘न्यू इंडिया’ (New India)के निर्माण के लिए है, जो कारोबार की सुगमता के साथ बेहतर जीवनयापन पर केन्द्रित हो.

प्रधानमंत्री मोदी ने फ्रांस (France) में 1950 और 1960 के दशक में एयर इंडिया के दो विमान हादसों में मारे गये लोगों के सम्मान में एक स्मारक का उद्घाटन करने के बाद यहां यूनेस्को मुख्यालय में भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए यह बात कही. उन्होंने कहा कि ‘न्यू इंडिया’ में भ्रष्टाचार, परिवारवाद, जनता के पैसे की लूट, आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है.

जम्मू-कश्मीर (Jammu And Kashmir) के विशेष दर्जे को समाप्त करने के बारे में स्पष्ट संकेत करते हुए उन्होंने कहा, 'भारत में अस्थायी चीजों के लिए कोई जगह नहीं है. आपने देखा होगा कि 1.25 अरब लोगों के देश, महात्मा गांधी, गौतम बुद्ध, राम, कृष्ण की भूमि में, उसे हटाने में 70 साल लग गए, जो अस्थायी था.'

'भारत 2025 में क्षय रोग (टीबी) से मुक्त हो जाएगा'

तीन देशों के अपने दौरे के पहले चरण में फ्रांस पहुंचे मोदी ने कहा कि लोगों ने ‘न्यू इंडिया’ के निर्माण के लिए भाजपा सरकार को प्रचंड जनादेश दिया है. उन्होंने कहा कि भारत विकास के पथ पर तेजी से आगे बढ़ रहा है.

तीन तलाक (Triple Talaq Law) पर उन्होंने कहा, 'हमने तीन तलाक की प्रथा को खत्म किया, नए भारत में मुस्लिम महिलाओं के साथ अन्याय नहीं किया जा सकता.' उन्होंने कहा कि भारत जलवायु परिवर्तन के 2030 तक के ज्यादातर लक्ष्यों को अगले डेढ़ साल में ही हासिल कर लेगा. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत 2025 में क्षय रोग (टीबी) से मुक्त हो जाएगा.

स्मारक का उद्घाटन किया
Loading...

इससे पहले  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ्रांस के मोंट ब्लांक पर्वतमाला में एअर इंडिया के दो विमान हादसों में मारे गये लोगों की याद में बनाये गये स्मारक (Air India crashes in France) का शुक्रवार को उद्घाटन किया. इन दुर्घटनाओं में भारत के परमाणु कार्यक्रम के जनक माने जाने वाले होमी जहांगीर भाभा समेत कई भारतीयों की मौत हो गयी थी.

माउंट ब्लांक की तलहटी में बना स्मारक ‘नीड डीइगल’ भाभा और कई अन्य भारतीयों को समर्पित है जो 1950 एवं 1966 में दुर्घटनाग्रस्त हुए एअर इंडिया के दो विमानों में सवार थे.

कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये स्मारक का उद्घाटन

मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये स्मारक का उद्घाटन करने के बाद यहां यूनेस्को मुख्यालय में भारतीय समुदाय को संबोधित किया. उन्होंने कहा, ‘‘दुख के इस क्षण में भारत और फ्रांस एकसाथ खड़े हैं. दोनों विमान दुर्घटनाओं में हमने होमी भाभा समेत कई भारतीय यात्रियों को खोया. उन हादसों में अपनी जान गंवाने वाले भारतीयों को मेरी श्रद्धांजलि. यह दो देशों के लोगों के बीच एक दूसरे के प्रति सहानुभूति का उदाहरण है.'

चालक दल के सदस्यों का शव कभी नहीं निकाला जा सका

फ्रांस की आल्पस पर्वतमाला के माउंट ब्लांक पर्वत पर 1966 में विमान दुर्घटना में भाभा की मौत हो गयी थी, जिसे भारत के वैज्ञानिक विकास की दिशा में एक बड़ी क्षति माना जाता है. 24 जनवरी 1966 को दुर्घटनाग्रस्त हुए एअर इंडिया के विमान 101 में कुल 106 यात्री और चालक दल के नौ सदस्य थे. इस विमान का नाम ‘कंचनजंघा’ था.

कंचनजंघा विमान दुर्घटना माउंट ब्लांक के उसी जगह हुई थी जहां 16 साल पहले तीन नवंबर 1950 को एअर इंडिया का एक और विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ था. इस दुर्घटना में 48 यात्री और चालक दल के सदस्य सवार थे.

बर्फ से ढंके इस पर्वतीय क्षेत्र से यात्रियों और चालक दल के सदस्यों का शव कभी नहीं निकाला जा सका.

यह भी पढ़ें:  मोदी को जिस नेता ने भी गाली दी वह गहरे गड्ढे में गया: शिवराज

भाषा इनपुट के साथ

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 23, 2019, 2:37 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...