पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात को दिया गिफ्ट, रोप-वे, अस्पताल और किसान योजना की हुई शुरुआत

पीएम ने तीन योजनाओं का उद्घाटन किया.
पीएम ने तीन योजनाओं का उद्घाटन किया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने किसानों के लिए किसान सूर्योदय योजना, गिरनार रोपवे और अहमदाबाद स्थित यूएन मेहता हृदयरोग संस्थान और शोध केंद्र से संबंद्ध बच्चों के हृदयरोग से जुड़े अस्पताल का उद्घाटन किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 24, 2020, 12:29 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से गुजरात में तीन परियोजनाओं का उद्घाटन किया. मोदी ने गुजरात के किसानों के लिए किसान सूर्योदय योजना की शुरुआत की. इसके अलावा प्रधानमंत्री ने जूनागढ़ जिले में गिरनार रोपवे और अहमदाबाद स्थित यू एन मेहता हृदयरोग संस्थान और शोध केंद्र से संबंद्ध बच्चों के हृदयरोग से संबंधित अस्पताल का उद्घाटन किया. इस अवसर पर वह अहमदाबाद सदर अस्पताल में टेली-कार्डियोलॉजी के लिए मोबाइल एप्लीकेशन सुविधा का भी उद्घाटन किया.

इस दौरान एक संक्षिप्त संबोधन में पीएम ने कहा कि किसानों को रात के बजाय जब सुबह यानी 5 बजे से लेकर रात 9 बजे के दौरान तीन फेज बिजली मिलेगी, तो ये नया सवेरा ही तो है. मैं गुजरात सरकार को बधाई दूंगा कि बाकी व्यवस्थाओं को प्रभावित किए बिना, ट्रांसमिशन की बिल्कुल नई कैपेसिटी तैयार करके ये काम किया जा रहा है.

ट्रांसमिशन लाइनों को बिछाने का होगा काम - PM
पीएम मोदी ने कहा कि इस योजना के तहत अगले 2-3 वर्षों में लगभग साढ़े 3 हज़ार सर्किट किलोमीटर नई ट्रांसमिशन लाइनों को बिछाने का काम किया जाएगा. मुझे बताया गया है कि आने वाले कुछ दिनों तक हज़ार से ज्यादा गांवों में ये योजना लागू भी हो जाएगी. इनमें भी ज्यादा गांव आदिवासी बाहुल्य इलाकों में हैं.
प्रधानमंत्री ने कहा कि गुजरात ने तो बिजली के साथ सिंचाई और पीने के पानी के क्षेत्र में भी शानदार काम किया है. इस कार्यक्रम में जुड़े हम सभी जानते हैं कि गुजरात में पानी की क्या स्थिति थी. बीते दो दशकों के प्रयासों से आज गुजरात उन गांवों तक भी पानी पहुंच गया है, जहां कोई पहले सोच भी नहीं सकता था. बीते दो दशकों में गुजरात ने आरोग्य के क्षेत्र में अभूतपूर्व काम किया है. चाहे वो आधुनिक अस्पतालों का नेटवर्क हो, मेडिकल कॉलेज हों, गांव-गांव को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं से जोड़ने का बहुत बड़ा काम किया गया है.



PM ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना के तहत गुजरात के 21 लाख लोगों को मुफ्त इलाज मिला है. सस्ती दवाइयां देने वाले सवा पांच सौ से ज्यादा जनऔषधि केंद्र गुजरात में खुल चुके हैं. इसमें से लगभग 100 करोड़ रुपए की बचत गुजरात के सामान्य मरीज़ों को भी हुई है. उन्होंने कहा कि गिरनार पर्वत पर मां अंबे भी विराजती हैं, गोरखनाथ शिखर भी है, गुरु दत्तात्रेय का शिखर है और जैन मंदिर भी है. यहां की सीढ़ियां चढ़कर जो शिखर पर पहुंचता है, वो अद्भुत शक्ति और शांति का अनुभव करता है. अब यहां विश्व स्तरीय रोप-वे बनने से सबको सुविधा मिलेगी, दर्शन का अवसर मिलेगा.

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी अब कितना बड़ा टूरिस्ट अट्रेक्शन बन रही- PM,
पीएम ने कहा कि इस नई सुविधा के बाद यहां ज्यादा से ज्यादा श्रद्धालु आएंगे, ज्यादा पर्यटक आएंगे. आज जिस रोप-वे की शुरुआत हुई है, वो गुजरात का चौथा रोप-वे है. बनासकांठा में अंबाजी के दर्शन के लिए, पावागढ़ में, सतपूड़ा में तीन और रोप-वे पहले से काम कर रहे हैं. कहा कि अगर गिरनार रोप-वे कानूनी उलझनों में नहीं फंसा होता, तो लोगों को इसका लाभ बहुत पहले ही मिलने लग गया जाता. हमें सोचना होगा कि जब लोगों को इतनी बड़ी सुविधा पहुंचाने वाली व्यवस्थाओं का निर्माण, इतने लंबे समय तक अटका रहेगा, तो लोगों का कितना नुकसान होता है.

उन्होंने कहा कि अभी आपने भी देखा है शिवराजपुर बीज को अंतरराष्ट्रीय पहचान मिली है, ब्लू फ्लैग सर्टिफिकेशन मिला है. ऐसे स्थलों को विकसित करने पर वहां पर्यटक आएंगे और अपने साथ रोजगार के नए अवसर भी लाएंगे. स्टैच्यू ऑफ यूनिटी अब कितना बड़ा टूरिस्ट अट्रेक्शन बन रही है.

क्या है इन तीन योजनाओं में खास?
बता दें सौराष्ट्र क्षेत्र के जूनागढ़ के निकट गिरनार पहाड़ी पर हाल ही में रोपवे बनकर तैयार हुआ है. पहाड़ी के ऊपर मां अम्बे का मंदिर है. लगभग 2.13 किलोमीटर की दूरी तय कर लोग रोपवे से मंदिर तक का सफर आठ मिनट में पूरा कर सकते हैं. एक आधिकारिक बयान के मुताबिक इस रोपवे के जरिए प्रति घंटे 800 सवारियों को लाया और ले जाया जा सकता है. इस परियोजना की परिकल्पना दो दशक पूर्व की गई थी लेकिन हाल ही में 130 करोड़ रूपये की लागत से यह पूरी हुई है.

वहीं गुजरात सरकार ने सिंचाई के लिए दिन के समय बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित करने के मकसद से हाल ही किसान सूर्योदय योजना की शुरुआत की गई थी. इसके तहत किसानों को सुबह पांच बजे से रात के नौ बजे तक बिजली की आपूर्ति किए जाने का प्रावधान है. इस योजना के पहले चरण में दाहोद, पाटण, महिसागर, पंचमहाल, छोटा उदयपुर, खेड़ा, आणंद और गिर-सोमना जिले को शामिल किया गया है. शेष बचे जिलों को चरणबद्ध तरीके से इस योजना में 2023 तक शामिल किया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज