लाइव टीवी

BJP कार्यकर्ताओं से बोले PM मोदी- साल में एक बार कराएं पुराने कार्यकर्ताओं का मिलन समारोह

भाषा
Updated: October 24, 2019, 8:28 PM IST
BJP कार्यकर्ताओं से बोले PM मोदी- साल में एक बार कराएं पुराने कार्यकर्ताओं का मिलन समारोह
पीएम मोदी ने बीजेपी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने गुरुवार को वाराणसी में भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janta Party) के कार्यकर्ताओं को दीपोत्सव कार्यकर्ता संवाद के जरिए बातचीत की.

  • Share this:
लखनऊ. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) ने गुरुवार को भाजपा कार्यकर्ताओं को सुझाव दिया कि वे पुराने कार्यकर्ताओं की सूची तैयार कर साल में कम से कम एक बार उनका मिलन समारोह करायें. पीएम मोदी अपने निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी के कार्यकर्ताओं से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए संवाद कर रहे थे. उन्होंने कहा, 'हमारी पार्टी अचानक नहीं बनी है, चार-चार पीढ़ी तक कार्यकर्ताओं ने अथाह परिश्रम किया है. परिवार के परिवार खपा दिये हैं. तब जाकर हमने लोगों का विश्वास पाया है.'

उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं (BJP Workers) को सुझाव दिया, 'पुराने कार्यकर्ताओं की सूची बनायें. तय करें कि साल में एक बार इन सबका मिलन समारोह करेंगे.'

'पुराने कार्यकर्ताओं के घर जाएं'
मोदी ने कार्यकर्ताओं से कहा कि उन्हें समूह में पार्टी के पुराने कार्यकर्ताओं के घर जाना चाहिए. उनके साथ कार्य करेंगे तो आपके अगल बगल से आपको प्रेरणा मिलेगी. पुराने कार्यकर्ताओं से पार्टी का इतिहास पूछना चाहिए.

प्रधानमंत्री ने कहा कि सभी जागरूक कार्यकर्ताओं का काम है कि अगल बगल में जितने परिवार रहते हैं, उन्हें सरकारी योजनाओं के बारे में बतायें. हकदार लोगों को पता नहीं होता कि सरकार उनके लिए कौन सी योजनाएं चला रही है. ऐसे में थोड़ा सा उनसे संपर्क कर उन्हें बतायें. सरकार की सामाजिक सुरक्षा स्कीमों के बारे में बतायें. उन्होंने कहा कि अगर हम देशवासियों की मूलभूत समस्याओं का समाधान करते हैं तो देशवासी देश को आगे बढाने में बहुत बडा काम कर सकते हैं.

काशीवासियों के चलते हो रहा है बदलाव
मोदी ने कहा, 'काशी की गलियां काशी की आन बान शान हैं. किस प्रकार बाबा भोलेनाथ के दर्शन के लिए इन गलियों से गुजरने में मुश्किल हो जाती थी. मां गंगा के दर्शन में भी रूकावटें होती थीं. अतिक्रमण हो गया था.'
Loading...

उन्होंने कहा कि काशी विश्वनाथ धाम कॉरिडोर से वहां जो बदलाव आ रहा है, उस पर देश के कोने कोने से आने वाले यात्री खुशी व्यक्त करते हैं. इतना बड़ा काम सरकार या प्रशासन की वजह से संभव नहीं हुआ. तीन सौ परिवारों ने अपनी पुश्तैनी प्रॉपर्टी सौंपकर योगदान दिया है. काशीवासियों के सहयोग के बिना ये निर्माण संभव नहीं हो सकता था.

मोदी ने कहा कि इस प्रक्रिया में दर्जनों प्राचीन मंदिर, जो दबे पड़े थे, ये सब बाहर निकलकर आये . इसके कारण नयी काशी की पहचान हुई. अधिकतर लोगों को अब पता चला है कि काशी में बाबा का पूरा दरबार मौजूद है.

ये भी पढ़ें-
ट्वीट कर गृहमंत्री अमित शाह ने ऐसे हरियाणा में सरकार बनाने के दिए संकेत

UP उपचुनाव 2019: बीजेपी को चेतावनी, सपा के लिए शुभ संकेत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वाराणसी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 24, 2019, 7:07 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...