अपना शहर चुनें

States

जल्द से जल्द भारत आना चाहते हैं बोरिस जॉनसन, PM मोदी ने गणतंत्र दिवस परेड का दिया न्योता

पीएम मोदी ने बोरिस जॉनसन को गणतंत्र दिवस परेड के मुख्य अतिथि के तौर पर निमंत्रण दिया है  (प्रतीकात्‍मक फोटो-PTI)
पीएम मोदी ने बोरिस जॉनसन को गणतंत्र दिवस परेड के मुख्य अतिथि के तौर पर निमंत्रण दिया है (प्रतीकात्‍मक फोटो-PTI)

India-UK Ties: ब्रिटिश हाईकमीशन के प्रवक्ता ने न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा है कि हम फिलहाल इसे लेकर किसी भी तरह से पुष्टि नहीं कर सकते, हालांकि ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन जल्द से जल्द भारत आने के इच्छुक हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 2, 2020, 5:10 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (Britain PM Boris Johnson) 2021 गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर मुख्य अतिथि हो सकते हैं. हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने 27 नवंबर को टेलीफोन पर बातचीत के दौरान उन्हें औपचारिक रूप से आमंत्रित किया है. जॉनसन ने अपनी ओर से पीएम मोदी को अगले साल ब्रिटेन (Britain) में जी -7 शिखर सम्मेलन (G-7 Summit) के लिए आमंत्रित किया है. सूत्रों ने ये जानकारी दी है. इन खबरों पर ब्रिटिश हाईकमीशन के प्रवक्ता ने न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा है कि हम फिलहाल इसे लेकर किसी भी तरह से पुष्टि नहीं कर सकते, हालांकि ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन जल्द से जल्द भारत आने के इच्छुक हैं.

गणतंत्र दिवस परेड में आखिरी ब्रिटिश प्रधानमंत्री 1993 में जॉन मेजर थे. हालांकि नई दिल्ली ने इस मुद्दे पर फिलहाल कुछ नहीं कहा है, राजनयिकों को लगता है कि यह पीएम मोदी की एक अच्छी तरह से सोची-समझी रणनीति है, ताकि उनके ब्रिटेन के समकक्ष जो बाइडन प्रशासन वाले अमेरिका के भारत के साथ संबंधों को लेकर असहज न हो सकें. 27 नवंबर के अपने ट्वीट में, पीएम मोदी ने कहा कि उन्होंने अगले दशक में भारत-ब्रिटेन संबंधों के महत्वाकांक्षी रोड-मैप पर अपने मित्र यूके के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के साथ एक उत्कृष्ट चर्चा की.

ये भी पढ़ें- वैक्सीन का असर कितने वक्त तक रहेगा? क्या टीके के बाद भी बरतनी होगी सावधानी?



पीएम मोदी ने अपने ट्वीट में कहा, "हम सभी क्षेत्रों में हमारे सहयोग में एक क्वांटम लीप के साथ- व्यापार और निवेश, रक्षा और सुरक्षा, जलवायु परिवर्तन और लड़ाई लड़ने के लिए सहमत हुए हैं."
पीएम जॉनसन ने की थी ये पेशकश
ब्रिटेन में इस मामले से परिचित लोगों ने कहा कि दोनों प्रधानमंत्रियों के बीच बातचीत बहुत सकारात्मक थी, विशेष रूप से पीएम जॉनसन ने भारत के साथ एक मुक्त व्यापार समझौते की पेशकश की और जलवायु परिवर्तन के मुद्दों पर सहयोग को गहरा किया. दोनों नेताओं ने साझेदारी को और मजबूत करने और कोविड -19 प्रतिक्रिया को मजबूत करने के तरीकों पर चर्चा की.



जबकि यूके ग्रेट ब्रिटेन से ग्लोबल ब्रिटेन बनने का इच्छुक है, 1 जनवरी को ब्रेक्सिट लंदन पर गंभीर दबाव डालेगा क्योंकि यूरोपीय संघ के पास यूके के कुल व्यापार का 47% हिस्सा था; 43% ब्रिटेन निर्यात और 52% आयात करता है. यूरोप को एक कठिन सीमा के लिए तैयार करने और आने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के साथ पहले ब्रेक्सिट के बारे में अपनी आशंका व्यक्त करते हुए, यूके व्यापार मुद्दों पर अनिश्चितता का सामना कर रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज