SCO बैठक में प्रधानमंत्री उठा सकते हैं आतंकवाद का मुद्दा

सरमा ने कहा कि उम्मीद है कि भारत शिखर सम्मेलन में आतंकवाद के मुद्दे को उठाएगा लेकिन वह किसी खास देश के बारे में बात नहीं करेगा.

News18Hindi
Updated: June 11, 2019, 8:19 AM IST
SCO बैठक में  प्रधानमंत्री उठा सकते हैं आतंकवाद का मुद्दा
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की फाइल फोटो
News18Hindi
Updated: June 11, 2019, 8:19 AM IST
बिश्केक (Bishkek) में 13-14 जून को आयोजित शंघाई सहयोग संगठन (SCO) के वार्षिक शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आतंकवाद के बढ़ते खतरे सहित क्षेत्र की प्रमुख चुनौतियों से निपटने के बारे में भारत के रूख को स्पष्ट करने की उम्मीद है.

मोदी के लगातार दूसरी बार सत्ता में आने के बाद यह पहली बहुपक्षीय बैठक होगी जिसमें वह भाग लेने जा रहे हैं. विदेश मंत्रालय में सचिव (पश्चिम) ए गितेश सरमा ने कहा कि प्रधानमंत्री SCO बैठक से इतर चीन के राष्ट्रपति शी चिनपिंग और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ द्विपक्षीय बैठकें करेंगे.



सरमा ने कहा कि किर्गिस्तान में शिखर सम्मेलन में भाग लेने वाले नेताओं के वैश्विक सुरक्षा स्थिति, बहुपक्षीय आर्थिक सहयोग, लोगों से लोगों का संपर्क और अंतरराष्ट्रीय तथा क्षेत्रीय महत्व के सामयिक मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करने की उम्मीद हैं. सरमा ने कहा कि उम्मीद है कि भारत शिखर सम्मेलन में आतंकवाद के मुद्दे को उठाएगा लेकिन वह किसी विशिष्ट देश के बारे में बात नहीं करेगा.

यह भी पढ़ें:  सवा लाख 'फर्जी किसानों' के बैंक अकाउंट से वापस हुआ पीएम किसान सम्मान निधि स्कीम का पैसा, ये है वजह!

2017 में मिली SCO की सदस्यता

भारत साल 2005 से SCO में एक पर्यवेक्षक रहा है और समूह की मंत्री स्तरीय बैठकों में भाग लिया है. भारत और पाकिस्तान कोसाल  2017 में SCO की स्थायी सदस्यता दी गई थी. सरमा ने कहा कि भारत SCO देशों के सदस्यों के बीच व्यापार को बढ़ावा देने के लिए क्षेत्रीय संपर्क परियोजनाओं के महत्व पर भी जोर देने की संभावना है.

SCOकी स्थापना साल 2001 में शंघाई में हुयी थी. SCO अभी दुनिया की आबादी के लगभग 42 प्रतिशत और वैश्विक जीडीपी के 20 प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करता है.
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...