होम /न्यूज /राष्ट्र /फ्लैट की चाबी मिलते ही बोले दिल्ली भूमिहीन शिविर के लोग, मोदी जी के लिए फर्ज पूरा करेंगे, सपना पूरा होते ही छलकी खुशी

फ्लैट की चाबी मिलते ही बोले दिल्ली भूमिहीन शिविर के लोग, मोदी जी के लिए फर्ज पूरा करेंगे, सपना पूरा होते ही छलकी खुशी

बुधवार को अवतार का वर्षों पुराना सपना तब पूरा हुआ जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक समारोह के दौरान उन्हें अपने फ्लैट की चाबियां सौंपी.

बुधवार को अवतार का वर्षों पुराना सपना तब पूरा हुआ जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक समारोह के दौरान उन्हें अपने फ्लैट की चाबियां सौंपी.

PM Narendra Modi: राम अवतार करीब 45 साल से दिल्ली के कालकाजी में भूमिहीन कैंप की गंदी गलियों में रह रहा है. बुधवार को अ ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

पीएम मोदी से बात कर खुश हो गया बब्लू, परिवार की दी जानकारी
फ्लैटों ड्रॉ में नाम देख खुशी से आंखों में आंसू छलक पड़े

नई दिल्ली. राम अवतार करीब 45 साल से दिल्ली के कालकाजी में भूमिहीन कैंप की गंदी गलियों में रह रहा है. इस शिविर में ही उनके बेटे और बेटी का जन्म हुआ. अवतार एक मजदूर है और हमेशा से ही सम्मानजनक जीवन का सपना देखता था, लेकिन अपने सीमित साधनों के साथ, वह जानता था कि यह असंभव है. बुधवार को अवतार का वर्षों पुराना सपना तब पूरा हुआ जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक समारोह के दौरान उन्हें अपने फ्लैट की चाबियां सौंपी. लगभग 500 आवेदकों को भूमिहीन शिविर के निवासियों के लिए नवनिर्मित घरों के लिए पत्र दिए गए.

पिता और पुत्र दोनों के पास मोदी सरकार को इस सौगात पर पर्याप्त धन्यवाद देने शब्द नहीं हैं. अवतार का बेटा बब्लू कहता है ‘हम एक झोपड़ी से एक फ्लैट में चले जाएंगे, यह अपने आप में एक बहुत बड़ा बदलाव है. उनके जीवन को बदल देगा. मोदी जी के लिए वह अपना फर्ज पूरा करेगा.’ अवतार के परिवार के लिए एक किचन-कम-बेडरूम-कम-डाइनिंग रूम है. उनके बेटे का कहना है कि परिवार अब शराब के नशे में लोगों को गाली दिए बिना शांतिपूर्ण जीवन जी सकता है, जो झोपड़ी में एक आम बात रही है.

पीएम मोदी से बात कर खुश हो गया बब्लू, पूछा कब से हो दिल्ली में?
उसका कहना है ‘मैं पहली बार पीएम मोदी से मिला. उन्होंने मुझसे मेरा नाम, गांव और कितने सालों से दिल्ली में रह रहा हूं, इसके बारे में पूछा. मैंने उनसे कहा कि मैं गोंडा जिले से हूं और पिछले 40 सालों से यहां रह रहा हूं. उन्होंने मुझसे पूछा कि क्या मैंने फ्लैट देखा है और मुझे यह पसंद है? मैंने हां में जवाब दिया. मेरे रिश्तेदारों ने मुझे यह कहने के लिए बुलाया कि मैं बहुत खुशकिस्मत हूं कि मुझे उनसे मिलने का मौका मिला.

फ्लैटों ड्रॉ में नाम देख खुशी से आंखों में आंसू छलक पड़े
कालकाजी की मुख्य सड़क पर, डीडीए के फ्लैटों के ठीक सामने, आशा और करुणा रहती हैं, जिन्हें नया घर मिलने की खुशी साफ झलकती है. करुणा कहती हैं ‘हम फ्लैट को पेंट कर सकते हैं, इसे दिवाली पर सजा सकते हैं और लोगों को आमंत्रित कर सकते हैं. पहले तो मैं ड्रॉ में अपना नाम नहीं देख पाई, लेकिन जब मैंने देखा तो मैं खुशी के चलते रोने लगी.

Tags: New Delhi news, Pm narendra modi

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें