• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • अयोध्‍या से लेकर आम चुनाव तक- पीएम नरेंद्र मोदी के इंटरव्‍यू की ये रहीं खास बातें

अयोध्‍या से लेकर आम चुनाव तक- पीएम नरेंद्र मोदी के इंटरव्‍यू की ये रहीं खास बातें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने समाचार एजेंसी एएनआई को दिए इंटरव्‍यू में राम मंदिर, राफेल सौदे, सर्जिकल स्‍ट्राइक और नोटबंदी से जुड़े तमाम सवालों के जवाब दिए.

  • Share this:
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2019 के आम चुनावों से पहले साल के पहले दिन इंटरव्‍यू दिया और सवालों के जवाब दिए. समाचार एजेंसी एएनआई को दिए इंटरव्‍यू में पीएम ने राम मंदिर, राफेल सौदे, सर्जिकल स्‍ट्राइक और नोटबंदी से जुड़े सवालों के जवाब दिए. उन्‍होंने साफ किया कि राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ही सरकार की ओर से कोई कदम उठाने पर विचार किया जाएगा.

    पीएम मोदी ने असहिष्‍णुता के आरोपों पर कहा कि मॉब लिंचिग की घटना सभ्‍य समाज को शोभा नहीं देती. इनकी कड़ी निंदा होनी चाहिए. यह गलत है. उन्‍होंने परोक्ष रूप से गाय का सम्‍मान करने की बात भी कही. पीएम ने कहा कि महात्‍मा गांधी और आचार्य विनोबा भावे ने जो बातें कहीं हैं उनका भी आदर होना चाहिए.

    राफेल सौदा
    उन पर निजी आरोप नहीं है. संसद में हमने इस पर जवाब दिया है. सुप्रीम कोर्ट तक मामला गया है वहां से भी जवाब मिला है. फ्रांस के राष्‍ट्रपति ने जवाब दिया है. भारत के प्रधानमंत्री ने जवाब दे दिया है. विपक्ष बार-बार आरोप लगाता है तो मुझे हर बार जवाब देने और उस पर उलझने की जरूरत नहीं है. मैंने तय किया है कि मुझ पर जितने आरोप लगेंगे सह लूंगा लेकिन मैं सेना को उनकी किस्मत पर नहीं छोड़ूंगा. उनकी जरूरत के लिए प्रक्रिया तेज कर पूरी करूंगा. मैं ईमानदारी और सत्य के साथ जीने वाला हूं और डर कर देश की सेना को निर्बल नहीं कर सकता.

    उर्जित पटेल का इस्‍तीफा
    पीएम नरेंद्र मोदी ने इंटरव्‍यू में आरबीआई गवर्नर पद से उर्जित पटेल के इस्‍तीफे के सवाल पर कहा कि उन्‍होंने निजी वजहों से पद छोड़ने की दरख्‍वास्‍त की थी. मैं पहली बार यह खुलासा कर रहा हूं कि उन्‍होंने मुझे 6-7 महीने पहले ही इस्‍तीफे के लिए कह दिया था. उन्‍होंने यह बात लिखित में भी दी थी. राजनीतिक दबाव का तो सवाल ही नहीं उठता. उन्‍होंने गवर्नर के रूप में बढि़या काम किया.

    नोटबंदी
    यह झटका नहीं था. हमने एक साल पहले ही लोगों को चेता दिया था कि यदि आपके पास ऐसी दौलत(काली कमाई) है तो आप इसे जमा करा दीजिए, पेनल्‍टी दीजिए और आपकी मदद की जाएगी. हालांकि उन्‍होंने सोचा कि मोदी भी बाकी लोगों की तरह ही काम करेगा इसलिए काफी कम लोग अपनी मर्जी से आगे आए.

    राम मंदिर मुद्दा
    राम मंदिर पर अध्‍यादेश लाने पर विचार कानूनी कार्यवाही पूरी होने के बाद ही किया जाएगा. कांग्रेस के नेता वकील के रूप में इसकी सुनवाई में अड़ंगा लगा रहे हैं. वे कांग्रेस से अपील करते हैं ऐसा न करें. बीजेपी के मेनिफेस्‍टो में लिखा था कि इसका समाधान निकाला जाएगा.

    सर्जिकल स्‍ट्राइक
    उरी हमले की घटना के बाद वे आहत थे. इसके बाद ही सर्जिकल स्‍ट्राइक की योजना बनी. दो बार सर्जिकल स्‍ट्राइक की योजना को टाला गया. इसके बाद इसे मंजूरी दी गई. इसमें प्राथमिकता जवानों का सुरक्षित लौटना था. इसका राजनीतिकरण नहीं होना चाहिए. लेकिन न तो सरकार के किसी मंत्री और न सरकार ने इसका जिक्र किया. सेना ने ही इसकी जानकारी दी थी. सर्जिकल स्ट्राइक पर सेना के अफसर ने जानकारी दी है, सरकार ने नहीं दी है. जबतक पाक को नहीं बताया तब देश की मीडिया को भी नहीं बताया. लेकिन देश का दुर्भाग्य है कि उसी दिन राजनीतिक नेताओं ने सर्जिकल स्ट्राइक पर संदेह जाहिर किया.

    पाकिस्‍तान से रिश्‍ते
    एक लड़ाई से पाकिस्‍तान सुधर जाएगा ये सोचना बहुत बड़ी गलती होगी. पाकिस्‍तान को सुधरने में अभी और समय लगेगा. साथ ही पाकिस्‍तान के साथ संबंधों को लेकर सरकार की क्‍या योजना है इस बारे में मीडिया में तो बताया नहीं जा सकता. लेकिन प्रत्‍येक सरकार ने पाकिस्‍तान से संबंध सुधारने के लिए काम किया है. भारत में चाहे किसी की भी सरकार हो उसने कभी भी पाकिस्‍तान से बातचीत का विरोध नहीं किया. यह देश की लंबे समय से चले आ रही नीति है न कि मोदी सरकार या मनमोहन सरकार की. हमने केवल एक बात कही कि बम और बंदूक के शोर में बातचीत की आवाज सुनाई नहीं देती.

    कांग्रेसमुक्‍त भारत का नारा
    कांग्रेस के लोग भी मानते हैं कि कांग्रेस एक विचारधारा है, एक संस्‍कृति है. जब मैं कांग्रेस मुक्‍त भारत की बात कहता हूं तो मैं चाहता हूं कि देश को इस संस्‍कृति और विचारधारा से मुक्ति मिले. और मैं कहता हूं कि कांग्रेस को भी कांग्रेसी संस्‍कृति से मुक्‍त होना चाहिए.

    कर्ज लेकर भागने वाले लोग
    जो लोग इस सरकार के समय में बाहर भागे हैं उन्‍हें आज नहीं तो कल वापस लाया जाएगा. कूटनीतिक माध्‍यमों, कानूनी रास्‍तों और संपत्ति की जब्‍ती जैसे रास्‍तों को अपनाया जा रहा है. जिन लोगों ने भारत का पैसा चुराया है उन्‍हें एक-एक रुपया चुकाना होगा.

    संवैधानिक संस्‍थाओं पर हमला
    संवैधानिक संस्‍थाओं को कमजोर करने के आरोप पर पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि 10 साल तक पीएम कमजोर रहा और नेशनल एडवायजरी कमीशन बनाया गया. यह संस्‍थाओं का अपमान करना था. किस तंत्र में एक पार्टी नेता को कैबिनेट द्वारा लिए गए फैसले को फाड़ने का अधिकार होता है. हमें संस्‍थाओं का सम्‍मान करना चाहिए. हमारे एक पूर्व प्रधानमंत्री ने योजना आयोग को 'जोकरों का दल' कह दिया था. आपको पता है उस समय योजना आयोग के डिप्‍टी चेयरमैन कौन हैं. मोदी ने इस बयान के जरिए राजीव गांधी के बयान की ओर इशारा किया. उस समय मनमोहन सिंह योजना आयोग के डिप्‍टी चेयरमैन थे.

    चीन से संबंध
    भारत को डोकलाम पर उसके जवाब के लिए जाना जाएगा. भारत ने ऐसा कुछ नहीं किया जिसे धोखा माना जाए लेकिन हमारी शुरू से स्थिति रही है कि वह पड़ोसियों से दोस्‍ताना रिश्‍ते चाहता है.

    तीन तलाक और सबरीमाला विवाद
    कई देशों ने तीन तलाक पर प्रतिबंध लगाया हुआ है यह आस्था का मसला नहीं है. मंदिर की अपनी मान्यता है कुछ मंदिरों में पुरुष भी नहीं जाते, सबरीमाला और तीन तलाक को अलग कर देखने की जरूरत है.

    2019 के आम चुनाव
    पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश की जनता चुनाव की दिशा तय करेगी और एजेंडा तय करेगी. 2019 में जनता बनाम गठबंधन होने जा रहा है. तेलंगाना में गठबंधन का पहला प्रयोग था और बहुत बुरा हाल रहा, लेकिन कोई इस पर चर्चा नहीं करता.

    कांग्रेस नेतृत्‍व
    यह एक तथ्‍य है कि जिनको पहला परिवार माना जाता था, जिन्‍होंने चार दशकों तक देश को चलाया वे लोग वित्‍तीय गड़बडि़यों के चलते जमानत पर हैं. यह बड़ी बात है. जो लोग उनकी सेवा में हैं वे ऐसी सूचनाओं को दबा रहे हैं.

    जीएसटी
    आदमी जैसे सोचता है वैसे ही बोलता है. क्‍या जीएसटी देश की सभी राजनीतिक पार्टियों की सहमति से नहीं लाया गया है. जब प्रणब मुखर्जी वित्‍त मंत्री थे तब से जीएसटी की प्रकिया शुरू हुई थी. GST संसद में सर्वसम्मति से पास हुआ. GST ने छुपे हुए टैक्स को खत्म कर दिया है. जीएसटी पर फैसला अकेले केंद्र सरकार नहीं लेती. वह फैसला जीएसटी काउंसिल लेती है जिसमें राज्य सरकारें, केंद्र शासित प्रदेश की सरकारें और केंद्र है.

    गंगा सफाई
    गंगा की सफाई के लिए मैंने पूरी ईमानदारी से काम किया. गंगा किनारे जो गांव हैं वे बाहर शौच जाने से मुक्‍त हो चुके हैं. इस काम में पांच राज्‍यों की सरकारें शामिल है जिनमें से चार में बीजेपी की सरकार है. ऐसे में काम तेजी से हो रहा है. राजीव गांधी ने गंगा सफाई को लेकर मिशन बनाया था लेकिन कुछ खास नहीं हुआ. ऐसे में हमने उसका पूरा अध्‍ययन कर काम शुरू किया. गंगा में अब सफाई दिखने लगी है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज