Assembly Banner 2021

शहीद दिवस: PM मोदी और अमित शाह ने दी क्रांतिकारी भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को श्रद्धांजलि

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शहीद दिवस के मौके पर क्रांतिकारी भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरू को श्रद्धांजलि दी (फाइल फोटो: PTI)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शहीद दिवस के मौके पर क्रांतिकारी भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरू को श्रद्धांजलि दी (फाइल फोटो: PTI)

Shaheed Diwas: मंगलवार को पीएम ने लिखा 'आजादी के क्रांतिदूत अमर शहीद वीर भगत सिंह (Bhagat Singh), सुखदेव और राजगुरु को शहीदी दिवस पर शत-शत नमन. मां भारती के इन महान सपूतों का बलिदान देश की हर पीढ़ी के लिए प्रेरणास्रोत बना रहेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 23, 2021, 10:31 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. शहीद दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने क्रांतिकारी भगत सिंह, सुखदेव (Sukhdev) और राजगुरु (Rajguru) को श्रद्धांजलि दी है. उन्होंने कहा है कि इन महान सपूतों की कुर्बानी देश की हर पीढ़ी के लिए एक प्रोत्साहन रहेगी. इस दौरान पीएम ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी डॉक्टर राम मनोहर लोहिया को भी उनके जन्मदिन पर याद किया. उन्होंने कहा है कि उनका योगदान देश के लोगों को प्रोत्साहित करता रहेगा.

मंगलवार को पीएम ने लिखा 'आजादी के क्रांतिदूत अमर शहीद वीर भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को शहीदी दिवस पर शत-शत नमन. मां भारती के इन महान सपूतों का बलिदान देश की हर पीढ़ी के लिए प्रेरणास्रोत बना रहेगा. जय हिंद!' देश में 23 मार्च को शहीद दिवस के तौर पर मनाया जाता है. इस दिन साल 1928 में ब्रिटिश सरकार ने भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव को फांसी की सजा दी थी.

यह भी पढ़ें: डरी हुई ब्रिटिश सरकार ने आज ही दी थी भगतसिंह, राजगुरु और सुखदेव को फांसी



डॉक्टर लोहिया की जयंती को लेकर पीएम ने लिखा 'महान स्वतंत्रता सेनानी और समाजवादी चिंतक डॉ. राम मनोहर लोहिया जी को उनकी जयंती पर सादर श्रद्धांजलि. उन्होंने अपने प्रखर और प्रगतिशील विचारों से देश को नई दिशा देने का कार्य किया. राष्ट्र के लिए उनका योगदान देशवासियों को प्रेरित करता रहेगा.' लोहिया का जन्म उत्तर प्रदेश के छोटे से शहर अकबरपुर में हुआ थआ. ब्रिटिश राज के आखिरी दौर वे 1942 तक बॉम्बे में कई जगहों से वे कांग्रेस रेडियो के साथ काम करते रहे.

शहीद दिवस के मौके पर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने भी क्रांतिकारियों को श्रद्धांजलि दी है. उन्होंने लिखा 'स्वतंत्रता के इतिहास में शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की वीरता व योगदान को शब्दों में वर्णित करना सम्भव नहीं है. देश को गुलामी की बेड़ियों से मुक्त करने की उनकी तड़प और बलिदान को याद कर आज भी हर भारतवासी की आंखें नम हो जाती हैं. ऐसे वीर बलिदानियों के चरणों में कोटिशः नमन.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज