Covid-19: कोरोना से निपटने में 'हिमाचल मॉडल' के कायल हुए पीएम मोदी, सभी राज्यों से रेड ज़ोन में अपनाने को कहा

प्रवासी मजदूरों  के लिए मोदी सरकार करने जा रही ये काम
प्रवासी मजदूरों के लिए मोदी सरकार करने जा रही ये काम

केंद्र ने राज्यों से रेड जोन और ऑरेंज जोन में हिमाचल प्रदेश मॉडल (Himachal Model) अपनाने को कहा है. जानें क्या है यह मॉडल

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 29, 2020, 9:48 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) का संक्रमण रोकने के लिए केंद्र और राज्य सरकारें तमाम उपाय आजमा रही हैं. इनमें से कई मॉडल अच्छे नतीजे दे रहे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने हिमाचल प्रदेश के एक ऐसे ही मॉडल की तारीफ करते हुए दूसरे राज्यों को भी इसे अपनाने को कहा है. कोरोना वायरस अब तक देश में एक हजार से अधिक लोगों की जान ले चुका है. देश में 3 मई तक के  लिए लॉकडाउन (Lockdown) है, ताकि कोविड-19 के खतरे को कम किया जा सके.

अधिकारियों के मुताबिक हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradsh) में सभी लोगों की इंन्फ्ल्यूंजा से मिलते जुलते लक्षण की स्क्रीनिंग की गई. जिन लोगों में ऐसे लक्षण मिले, उन्हें दवा दी गई और उन पर नजर भी रखी गई. इनमें से जिन लोगों की हालत में अगले कुछ दिन सुधार नहीं हुआ, उनका कोविड-19 टेस्ट कराया गया.

माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने हिमाचल प्रदेश के इसी मॉडल की तारीफ की है. इकोनॉमिक्स टाइम्स के मुताबिक केंद्र ने राज्यों से रेड जोन और ऑरेंज जोन में हिमाचल प्रदेश मॉडल (Himachal Model) अपनाने को कहा गया है. राज्यों से कहा गया है कि वह घर-घर जाकर लोगों को जागरूक करें कि वे अपने लक्षणों को पहचानें और इसका सेल्फ डिक्लेरेशन आरोग्य सेतु एप पर करें. ऐसा करने से हमें कोविड-19 वायरस के खिलाफ लड़ाई जीतने में मदद मिलेगी.



हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री ने इस मॉडल की जानकारी पीएम मोदी को सोमवार को दी थी. हिमाचल सरकार ने इसके बाद बयान जारी कर कहा कि पीएम ने यह मॉडल दूसरे राज्यों से भी अपनाने को कहा है. हिमाचल में 70 लाख लोगों की स्क्रीनिंग की गई है. हिमाचल मॉडल की ही तरह, सेमी-अर्बन भीलवाड़ा मॉडल और अर्बन आगरा मॉडल को भी कोरोना से लड़ने में कारगर माना जा रहा है.
हिमाचल प्रदेश के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी (हेल्थ) आरडी धीमान ने ईटी को बताया कि राज्य में लोगों की स्क्रीनिंग के लिए करीब 16 हजार कर्मचारी तैनात किए गए थे. स्क्रीनिंग में करीब 10 हजार लोगों में इन्फ्ल्यूंजा जैसी बीमारी के लक्षण मिले. इनमें से 1500 लोगों की तबीयत जल्दी ठीक नहीं हुई. इसके बाद इन सबका कोविड-19 (Covid-19) टेस्ट कराया गया.

हिमाचल प्रदेश में कोरोना वायरस के 40 पॉजिटिव केस आए हैं. इनमें से सिर्फ 10 ही एक्टिव केस हैं. राज्य में पिछले पांच दिन से एक भी केस सामने नहीं आया है. राज्य में हर 10 लाख लोगों में से 700 का टेस्ट किया गया. यह अनुपात देश में सबसे अधिक है. पीएम मोदी के साथ हुई मीटिंग में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केंद्र सरकार से पीपीई किट, मॉस्क, टेस्ट किट और वेंटिलेटर उपलब्ध कराने का अनुरोध किया है.

यह भी पढ़ें: 

Covid-19: सरकारी अधिकारियों से लेकर पत्रकार पर अफवाह फैलाने का केस दर्ज

लॉकडाउन खत्म होने के बाद 4 मई से चलेंगी ट्रेनें? आज हो सकता है फैसला 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज