कौन हैं वो मौलवी, जिनकी पीएम मोदी ने की तारीफ, पाकिस्तान को हराने में ऐसे की थी मदद

वो मौलवी गुलामदीन ही थे जिनकी सटीक सूचना के बाद 1965 के युद्ध में इंडियन आर्मी ने पाकिस्तान को धूल चटा दी थी.

News18Hindi
Updated: August 9, 2019, 12:48 PM IST
कौन हैं वो मौलवी, जिनकी पीएम मोदी ने की तारीफ, पाकिस्तान को हराने में ऐसे की थी मदद
फाइल फोटो- पीएम नरेन्द्र मोदी ने राष्ट के नाम संबोधन में मौलवी गुलामदीन का जिक्र किया था.
News18Hindi
Updated: August 9, 2019, 12:48 PM IST
भारत-पाकिस्तान के बीच हुए 1965 के युद्ध को कई मायनों में याद किया जाता है. वीर अब्दुल हमीद भी इसी युद्ध में शहीद हुए थे. लेकिन परमवीर चक्र विजेता अब्दुल हमीद के अलावा एक मौलवी ऐसे थे जिन्हें अशोक चक्र से नवाजा गया था. यह सेना में नहीं थे लेकिन आज भी उन्हें बड़े ही फख्र के साथ याद किया जाता है.

यह ही वजह है कि जब 8 अगस्त की रात पीएम नरेन्द्र मोदी राष्ट्र को संबोधित कर रहे थे तो कश्मीर का जिक्र आते ही उन्होंने मौलवी गुलामदीन का जिक्र किया था. वो मौलवी गुलामदीन ही थे जिनकी सटीक सूचना के बाद 1965 के युद्ध में इंडियन आर्मी ने पाकिस्तान को धूल चटा दी थी.

कश्मीर में घुस रहे घुसपैठियों के बारे में दी थी जानकारी

जानकार बताते हैं कि जब 1965 में भारत-पाक के बीच तनाव बना हुआ था तो मौके का फायदा उठाते हुए पाकिस्तानी घुसपैठिय कश्मीर में घुसने की कोशिश करने लगे. घुसपैठिय ऐसे इलाकों का इस्तेमाल कर रहे थे जहां भारतीय सेना की ज्यादा चौकसी या तैनाती नहीं थी. लेकिन इसी दौरान मौलवी गुलामदीन की नज़र इन घुसपैठियों पर पड़ गई. मौलवी गुलामदीन ने यह सूचना तुरंत ही सेना के अफसरों को दी. इस सूचना के बाद सेना के जवानों ने अपनी पूरी तैयारी कर घुसपैठियों को खदेड़ दिया.

राजौरी दिवस पर याद किए जाते हैं गुलामदीन

1965 में राजौरी में बहुत फसाद हुआ था. यहां घुसपैठियों ने बहुत आतंक मचाया था. फिर जब सेना पहुंची थी तो गुलामदीन की सूचना के बाद घुसपैठियों को यहां से मार भगाया गया था. इस घटना के बाद से राजौरी में हर साल राजौरी दिवस मनाया जाता है. इस मौके पर अशोक चक्र विजेता मौलवी गुलामदीन को भी याद किया जाता है.

प्रतीकात्मक फोटो-मौलवी गुलामदीन ने पाकिस्तानी घुसपैठियों के बारे में सूचना देकर भारतीय सेना की मदद की थी.

Loading...

पीएम मोदी ने किया मौलवी गुलामदीन को याद

जम्मू-कश्मीर से अर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद गुरुवार की रात 8 बजे पीएम नरेन्द्र मोदी राष्ट्र को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कश्मीरियों की तारीफ करते हुए कहा कि इस ज़मीन पर ऐसे बहुत से बहादुर हुए हैं जिन्होंने कश्मीर और देश के लिए काम किया है. सिपाही औरंगजेब की तारीफ करने के साथ ही उन्होंने 1965 के युद्ध का जिक्र करते हुए कहा कि वो मौलवी गुलामदीन की सटीक जानकारी ही थी जिसकी वजह से हमारी सेना ने पाकिस्तान के घुसपैठियों को मार भगाया था.

इसी युद्ध के लिए अब्दुल हमीद को मिला था परमवीर चक्र

इस युद्ध में पाकिस्तान पैटर्न टैंक पर इतरा रहा था. इसी के भरोसे वो भारत में घुसने के ख्वाब देख रहा था. लेकिन जब वीर अब्दुल हमीद ने जीप पर बंधी अपनी गन से पाकिस्तान के पैटर्न टैंक को एक-एक कर उड़ाना शुरु किया तो पाक सेना टैंक छोड़कर भाग खड़ी हुई थी. इसी असाधारण वीरता के लिए अब्दुल हमीद को परमवीर चक्र से नवाजा गया था. इस युद्ध में पाकिस्तान के करीब 97 पैटर्न टैंक निशाना बनाए गए थे.

ये भी पढ़ें- देशभर में अपराधों की बाल की खाल निकालेंगे ये 3221 अफसर, दी गई खास ट्रेनिंग

फ्रांसिसी नागरिक सैटेलाइट फोन लेकर क्यों जा रहे हैं लेह, 2 महीने में दूसरा पकड़ा
First published: August 9, 2019, 12:48 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...