आकाश विजयवर्गीय की 'बैंटिंग' पर बोले PM मोदी- किसी का भी बेटा हो, पार्टी से निकाल देना चाहिए

बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे और इंदौर से विधायक आकाश विजयवर्गीय ने वहां नगरनिगम के अधिकारी से मारपीट की थी. बीजेपी संसदीय दल की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस घटना और इसे लेकर बीजेपी नेताओं की प्रतिक्रियाओं पर सख्त नाराज़गी जताई है.

News18Hindi
Updated: July 2, 2019, 3:01 PM IST
आकाश विजयवर्गीय की 'बैंटिंग' पर बोले PM मोदी- किसी का भी बेटा हो, पार्टी से निकाल देना चाहिए
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
News18Hindi
Updated: July 2, 2019, 3:01 PM IST
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे आकाश विजयवर्गीय को लेकर सख्त नसीहत दी है. इंदौर से बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय के बैट से नगर निगम अधिकारी की बुरी तरह से पिटाई करने के मामले में पीएम मोदी ने साफ कहा कि किसी का भी बेटा हो, ऐसा बर्ताव बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. प्रधानमंत्री ने मंगलवार को बीजेपी संसदीय दल की बैठक में ये बातें कहीं.

पीएम मोदी ने कहा, 'जिन लोगों ने इस मामले में जमानत पर रिहा हुए आकाश विजयवर्गीय का स्वागत किया है, उन्हें पार्टी में रहना का हक नहीं है. सभी को पार्टी से निकाल देना चाहिए.' सूत्रों के मुताबिक, पीएम मोदी ने आकाश विजयवर्गीय मामले में कड़ा रुख अपनाते हुए कहा कि इस तरीके की घटनाएं दोबारा नहीं होनी चाहिए. ये पार्टी और देश के हित में नहीं है.

बैट से पिटाई मामला: कैलाश विजयवर्गीय ने तोड़ी चुप्पी, कहा- कच्चे खिलाड़ी हैं...


शनिवार को मिली जमानत

बता दें कि मारपीट के मामले में शनिवार को आकाश विजयवर्गीय को भोपाल की विशेष अदालत से जमानत मिली थी. इसके बाद वह रविवार को इंदौर जेल से रिहा हो गए. इस दौरान आकाश ने कहा था, 'मैं भगवान से प्रार्थना करता हूं कि मुझे दोबारा बल्लेबाजी करने का अवसर न दे. अब गांधीजी के दिखाए रास्ते पर चलने की कोशिश करूंगा.'

कैलाश विजयवर्गीय ने किया बेटे का बचाव
Loading...

वहीं, बल्ले से पिटाई के मामले में बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने अपने विधायक बेटे आकाश का बचाव किया था. उन्होंने आकाश को कच्चा खिलाड़ी बताया. कैलाश विजयवर्गीय ने कहा 'ये बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है. मुझे लगता है आकाश और नगर निगम के कमिश्नर दोनों पक्ष कच्चे खिलाड़ी हैं. यह एक बड़ा मुद्दा नहीं था, लेकिन इसे बहुत बड़ा बना दिया गया.'

कैलाश विजयवर्गीय ने कहा था 'मुझे लगता है कि अधिकारियों को अहंकारी नहीं होना चाहिए. उन्हें जनप्रतिनिधियों से बात करनी चाहिए. मैंने इसकी कमी देखी है. दोनों को समझना चाहिए, ताकि ऐसी घटना दोबारा न हो.'

क्या है पूरा मामला?
दरअसल, 26 जून को निगम अधिकारी धीरेंद्र बायस टीम के साथ जर्जर मकान को ढहाने के लिए पहुंचे थे. इस दौरान आकाश विजयवर्गीय वहां आए और टीम को बगैर कार्रवाई के लिए जाने के लिए कहा. लेकिन अधिकारियों ने कार्रवाई जारी रखी और आकाश ने बैट से अधिकारी की पिटाई की थी. पिटाई से बायस की हालात खराब है, उन्हें अंदरूनी चोटें आई हैं, फिलहाल अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है.

बेटे आकाश की करतूत पर सवाल पूछने पर कैलाश विजयवर्गीय बोले- तुम्हारी हैसियत क्या?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 2, 2019, 11:21 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...