• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • पीएम नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस को फिर दिखाया आईना, संयोग ऐसा कि आपातकाल की बरसी के दिन मिला मौका

पीएम नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस को फिर दिखाया आईना, संयोग ऐसा कि आपातकाल की बरसी के दिन मिला मौका

संसद में प्राधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भाषण कई संदेश देता दीखा

संसद में प्राधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भाषण कई संदेश देता दीखा

आपातकाल लगाए जाने वाले दिन संसद में बोल कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस नेताओं पर तीखा हमला किया और बीजेपी कैडर को अपना साफ संदेश दे दिया.

  • Share this:
राष्ट्रपति के अभिभाषण पर पीएम नरेंद्र मोदी के बोलने के लिए 25 जून से बेहतर मौका और क्या हो सकता था. एक तो कांग्रेस नेताओं के तीखे हमले का जवाब देना था तो दूसरी ओर अपने कैडर को संदेश भी देना था. ये महज संयोग ही था कि पीएम मोदी को 25 जून को ही बोलने का मौका मिला. एक ऐसा दिन जब देश पर इमरजेंसी थोपी गई थी और एक ऐसा मुद्दा जिस पर कांग्रेस नेताओं को जवाब देने में पसीने छूट जाते हैं.

इमरजेंसी का दाग कभी नही मिटेगा
25 जून यानी आपातकाल की बरसी पर पीएम मोदी ने बताया कि कैसे लोकतांत्रिक मूल्यों का हनन हुआ और न्यायपालिका का अनादर किया. पूरे देश को जेल बना दिया गया था. पीएम मोदी ने ताल ठोक कर कहा कि लोकतंत्र को कुचलने की कोई भूल नहीं कर सकता, यह दाग कभी मिटने वाला नहीं है. इस दाग को बार-बार याद करना चाहिए ताकि फिर से कोई ऐसा पैदा न हो जो इस रास्ते पर जाए. लोकतंत्र के प्रति आस्था का महत्व समझाने के लिए इसे याद करने की जरूरत है किसी को भला-बुरा कहने के लिए नहीं.

जो जमानत पर हैं वो इंजॉय करें, हम कानून को मानने वाले लोग
गांधी परिवार की चुटकी लेते हुए पीएम मोदी ने कहा कि ये कोर्ट की ही ताकत है कि लोग बेल पर हैं और जेल में नहीं. मोदी ने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ हमारी लड़ाई जारी रहेगी, हमें इसलिए कोसा जा रहा कि फलाने को जेल में क्यों नहीं डाला, हम कानून से चलने वाले लोग हैं और किसी को जमानत मिली है तो वह इसका आनंद ले. लेकिन करप्शन के खिलाफ हमारी लड़ाई जारी रहेगी, हमें गलत रास्ते पर जाने की जरूरत नहीं है.

गांधी परिवार आत्ममुग्ध है
पीएम मोदी ने एक बार जो इमरजेंसी का जिक्र कर रफ्तार पकड़ी तो थमने का नाम नही लिया. गांधी परिवार और कांग्रेस को आत्ममुग्ध बताया. मोदी ने आरोप लगाया कि ये परिवार कभी दूसरे नेताओं के योगदान की तारीफ नही कर सकता. चाहे वो लाल बहादुर शास्त्री, नरसिम्हा राव हों या फिर वाजपेयी. देश को लगता था कि उनके कार्यकाल में नरसिम्हा राव को फिर मनमोहन सिंह को भारत रत्न मिलता, लेकिन परिवार से बाहर के लोगों को उनके कार्यकाल में कुछ नहीं मिल सकता. प्रणब दा किसी भी पार्टी के हैं, लेकिन हमने उन्हें भारत रत्न दिया. हम किसी भी योगदान को नहीं नकारते.

संसद में पीएम Pm in Parliament
आपातकाल की बरसी के मौके को अच्छे से भुनाया पीएम ने


जनता ने जांच-परख के बाद दिया जनादेश
कांग्रेस नेताओं के भाषण पर भी पीएम मोदी ने निशाना साधा. मोदी ने कहा कि धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा में चुनावों के दौरान हुए भाषणों का असर नजर आया और वही बातें सुनने को मिल रही थीं. कई दशकों बाद देश ने एक मजबूत जनादेश दिया है. पीएम मोदी ने कहा कि मतदाता अपने से ज्यादा अपने देश के लिए फैसले करता है यह बात इस चुनाव में नजर आई है. पीएम मोदी ने कहा कि 2014 में हम पूरी तरह नए थे लेकिन 2019 का जनादेश पूरी तरह का कसौटी पर कसने के बाद, हर तराजू पर तौले जाने के बाद, जांच-परखने के बाद मिला है.

सबका विश्वास
पीएम मोदी अपने इस नए नारे को लेकर खासे गंभीर हैं. इस दिशा में तमाम मंत्रालयों और अधिकारियों को निर्देश भी दिए जा रहे हैं और उनकी मॉनिटरिंग भी हो रही है. ये साबित करने के लिए आज़ादी के बाद अब तक अल्पसंख्यक कल्याण को लेकर कांग्रेस की मंशा पर सवाल उठाना भी जरूरी है. इसलिए पीएम मोदी ने शाह बानो केस के दौरान एक पुराने कांग्रेसी नेता के बयान का हवाला देते हुए कहा की मुस्लिमों के उत्थान की जिम्मेदारी कांग्रेस की नहीं है, यह कांग्रेस के मंत्री ने कहा था. मैं आपको यू-ट्यूब का लिंक भेज दूंगा. किसी न किसी कारण बातें अधिकारों पर ही केंद्रित रहीं, लेकिन अब अधिकार से कर्तव्य की ओर जाने की जरूरत है.

70 साल की बीमारियों को 5 साल में ठीक करना कठिन था
चीजों को बदलने में काफी मेहनत लगती है, 70 साल की बीमारियों को 5 साल में ठीक करना कठिन होता है लेकिन हमने वो दिशा पकड़ी और कठिनाइयों के बावजूद उस दिशा को छोड़ा नहीं. हम न अपने लक्ष्य से हटे न पीछे मुड़े. हमने शौचालय को सिर्फ चार दीवार नहीं समझा, हमने हर व्यवस्था के पीछे के मकसद को समझा, जनता ने चूल्हा मांगा था न बिजली, पहले प्रश्न उठना था कि क्यों नहीं कर रहे अब सवाल उठता है क्यों कर रहे हैं.

विपक्ष के लिए नसीहतों का पिटारा खोला
हमारी ऊंचाई को कोई कम नहीं कर सकता. ऐसी गलती हम नहीं करते, हम किसी की लकीर को छोटी करने में अपना समय बर्बाद नहीं करते, हम अपनी लकीर लंबी करने में जीवन खपा देते हैं. कांग्रेस को आइना दिखाते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आप इतने ऊंचे चले गए हैं कि आप जड़ों से उखड़ चुके हैं. आपका और ऊंचा होना मेरे लिए संतोष का विषय हैं क्योंकि आप जमीन खो चुके हैं. हमारा सपना ऊंचा होने का नहीं जड़ों की गहराई से जुड़ने का है ताकि देश को और मजबूती दी जा सके. आपको अपनी ऊंचाई मुबारक हो.

3 सप्ताह में लिए जनहित के फैसले
आजादी के पहले मरने का मिजाज था और आजादी के बाद देश के लिए जीने का संकल्प है. हमें राष्ट्रपिता की अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए आगे आना चाहिए. छोटा सोचना मुझे पसंद नहीं है, सवा सौ करोड़ देशवासियों के सपने अगर पूरे करने हैं तो मुझे छोटा सोचने का अधिकार भी नहीं है.

हमें आराम का रास्ता पसंद नहीं, हम देश के लिए जीने आए हैं. 3 सप्ताह में सरकार ने कई अहम फैसले लिए ताकि देश को आगे लाया जा सके. किसान सम्मान निधि का दायरा बढ़ाया, सेना के जवानों के बच्चों और पुलिस के बच्चों के लिए भी अहम फैसले लिए. मानव अधिकारों से जुड़े अहम बिल संसद में लेकर आए हैं. सबको साथ लेकर चलने के लिए जितने काम हो सकते हैं हमने तुरंत आते ही वो काम किए हैं.

जल संकट करना है मिलकर काम 

इसके अलावा पीएम मोदी ने कहा कि जल संकट पर सभी को मिलकर काम करना है. जल संचय पर हमें बल देना पड़ेगा नहीं तो जल संकट बढ़ता चला जाएगा. हमें पुरानी परंपरा से बाहर आना पड़ेगा. आलोचना के लिए आंकड़ों का हर तरह से इस्तेमाल हो सकता है, इसी सदन में जब हम अर्थव्यवस्था में 11 या 13वें स्थान पर पहुंचे थे जब मेज थपथपाई जा रही थी लेकिन जब 6 पर पहुंचे तो ऐसा लगा जाने क्या हो गया. कब तक इतने ऊंचे रहेंगे कि नीचे दिखाई न दे.

जब हौसला बना लिया ऊंची उड़ान का, फिर देखना फिजूल है कद आसमान का" पीएम मोदी ने ये कह कर अपने इरादे साफ कर दिए. हम सब मिलकर देश को ऊंचाई पर ले जाएंगे, इससे किसका फायदा है.

जाहिर है कि पीएम का ध्यान सिर्फ कांग्रेस की पोल खोलने में नहीं था बल्कि ये साफ करना भी था कि जनता की उम्मीदों पर कैसे खरा उतरना है. उसका गेम प्लान उनके पास न सिर्फ तैयार है बल्कि उस पर सरकार ने अमल करना भी शुरू कर दिया है.

ये भी पढ़े : गटर में रहने दो मुसलमान को- इस बयान से चर्चा में आए आरिफ मोहम्मद कौन हैं?

शफीकुर रहमान बर्क बोले, मुसलमान अल्लाह के भरोसे जिंदा हैं, कांग्रेस, भाजपा या मोदी के भरोसे नहीं

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज