पीएम मोदी बोले- भारत और रूस की भागीदारी से एक और एक 11 बनने का अवसर

News18Hindi
Updated: September 5, 2019, 1:48 PM IST
पीएम मोदी बोले- भारत और रूस की भागीदारी से एक और एक 11 बनने का अवसर
व्लादिवस्तोक (Vladivostok, Russia) में 5th Eastern Economic Forum में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने संबोधित किया.

व्लादिवस्तोक (Vladivostok, Russia) में 5th Eastern Economic Forum में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने संबोधित किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 5, 2019, 1:48 PM IST
  • Share this:
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने गुरुवार को रूस स्थित व्लादिवस्तोक (Vladivostok, Russia) में आयोजित ईस्टर्न इकॉनमिक फोरम (5th Eastern Economic Forum) को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने कहा कि 'व्लादिवस्तोक के शांत और प्रकाशमय वातावरण में आपके साथ संवाद करना एक सुखद अनुभव है.'

पीएम मोदी ने कहा कि' सुबह का उजाला, यहां से होकर दुनिया में फैलता है और पूरी दुनिया को उर्जावान बनाता है.' उन्होंने कहा कि 'मुझे पूरा विश्वास है कि आज का हमारा मंथन केवल फार ईस्ट नहीं बल्कि पूरी मानवजाति के कल्याण के प्रयासों को नई उर्जा और गति देगा.' पीएम ने कहा कि 'इस महत्वपूर्ण अवसर का मुझे हिस्सा बनाने के लिए मैं अपने मित्र राष्ट्रपति पुतिन का आभारी हूं.'

पीएम मोदी ने कहा कि 'राष्ट्रपति पुतिन ने मुझे दो साल पहले सेंट पीटर्सबर्ग आर्थिक मंच में आमंत्रित किया था. यूरोप के सीमांत से गेटवे ऑफ पैसिफिक तक, यह मेरे लिए ट्रांस-साइबेरियाई यात्रा की तरह है.'

पीएम बोले- हमारा रिश्ता बहुत पुराना

पीएम ने कहा कि 'भारत और Far East का रिश्ता आज का नहीं बहुत पुराना है. भारत वह पहला देश है जिसने व्लादिवस्तोक में अपना कांसुलेट खोला. तब भी और उससे पहले भी भारत और रूस के बीच बहुत भरोसा था.'

प्रधानमंत्री ने कहा कि 'जब अन्य विदेशियों पर पाबंदियां थीं, व्लादिवस्तोक भारतीयों के लिए खुला था. रभा और विकास के लिए बहुत सा साजो-सामान यहां से भारत पहुंचता था.'

व्लादिवस्तोक यूरेशिया और पैसिफिक का संगम - पीएम
Loading...

पीएम मोदी ने कहा कि 'व्लादिवस्तोक यूरेशिया और पैसिफिक का संगम है. यह आर्कटिक और नॉर्दन सी रूट के लिए नए अवसर खोलता है. रूस का करीब तीन चौथाई भाग एशियाई है. फार ईस्ट इस महान देश की एशियन पहचान को मजबूत करता है. इस क्षेत्र का आकार भारत से करीब दो गुना है. जिसकी आबादी सिर्फ 6 मिलियन है.'

उन्होंने कहा कि 'राष्ट्रपति पुतिन का Far East के प्रति लगाव और विजन केवल इस क्षेत्र के लिए ही नहीं, अपितु भारत जैसे रूस के पार्टनर्स के लिए अभूतपूर्व अवसर लेकर आया है.'  पीएम ने कहा कि 'भारत उनकी दूरदर्शी यात्रा में रूस के साथ चलना चाहता है.'

उन्होंने कहा कि 'भारत में भी हम सबका साथ - सबका विकास और सबका विश्वास के मंत्र के साथ एक नए भारत के निर्माण में जुटें हैं. साल 2024 तक भारत को 5 ट्रिलियन Economy बनाने के अभियान में भी हम जी-जान से जुटे हैं.'

यह भी पढ़ें:  थरूर ने कांग्रेस को फिर दिखाया आईना, कहा- पता लगाएं हमारे वोटर्स कहां गए

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 5, 2019, 1:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...